ताज़ा खबर
 

अगर प्रतिबंध की समीक्षा नहीं हुई तो मेरा कैरियर खत्म है: नरसिंह यादव

वाडा के नाडा द्वारा नरसिंह को डोप परीक्षण में क्लीन चिट दिए जाने के फैसले को चुनौती देने के बाद खेल पंचाट ने उन पर चार साल का प्रतिबंध लगा दिया है।

Author नई दिल्ली | Updated: August 22, 2016 9:40 PM
नरसिंह ने 2012 में लंदन ओलंपिक में भी हिस्‍सा लिया था। (Express Photo)

नरसिंह यादव ने सोमवार (22 अगस्त) को स्वीकार किया कि अगर खेल पंचाट द्वारा उन पर लगाए गए चार साल के प्रतिबंध की समीक्षा नहीं की गई तो उनका कैरियर खत्म हो जाएगा। उन्होंने कहा कि भारत को उनके मामले को गंभीरता से लेना चाहिए क्योंकि देश 74 किग्रा वर्ग में ओलंपिक पदक गंवा दिया है। वाडा के नाडा द्वारा नरसिंह को डोप परीक्षण में क्लीन चिट दिए जाने के फैसले को चुनौती देने के बाद खेल पंचाट ने उन पर चार साल का प्रतिबंध लगा दिया जिससे उन्हें रियो ओलंपिक में 74 किग्रा फ्रीस्टाइल कुश्ती स्पर्धा में भारत का प्रतिनिधित्व करने से रोक दिया गया। नरसिंह सोमवार को सुबह यहां पहुंचे, उन्होंने कहा, ‘मेरा कैरियर खत्म हो जायेगा। अगर मेरे प्रतिबंध की समीक्षा नहीं की गई तो मेरे लिए सब कुछ खत्म हो जाएगा।’ उन्होंने कहा, ‘लेकिन सिर्फ मेरी ही छवि नहीं खराब की गई है बल्कि यह प्रतिबंध पूरे देश की ख्याति पर दाग है। अगर मेरे प्रतिबंध की समीक्षा नहीं की गयी तो एक निर्दोष व्यक्ति पूरी जिंदगी के लिए दागी बन जाएगा, इसके अलावा कैरियर भी खत्म हो जाएगा।’

इस 27 वर्षीय पहलवान ने कहा कि अगर उसे भाग लेने दिया जाता तो वह निश्चित रूप से रियो खेलों में देश को पदक दिलाता। उन्होंने कहा, ‘भारत ने निश्चित रूप से 74 किग्रा वर्ग में पदक गंवा दिया क्योंकि जिन दो पहलवानों ने रियो ओलंपिक में कांस्य पदक जीते हैं, उनमें से एक तुर्की के सोनेर देमिरतास को मैंने पिछले साल लास वेगास में विश्व चैम्पियनशिप के दौरान हराया था और वहां कांस्य पदक जीतकर ओलंपिक कोटा स्थान सुनिश्चित किया था।’ नरसिंह ने कहा, ‘मुझे पता चला कि भारत में कुछ लोगों ने वाडा से कहा कि मुझे राजनीतिक दबाव में क्लीन चिट दी गई और मेरे मामले की समीक्षा की जानी चाहिए। जब मेरे लोग ही मेरे खिलाफ साजिश कर रहे हैं तो मेरे लिए खुद को निर्दोष साबित करना और मुश्किल हो जायेगा।’

यह पूछने पर कि वह खुद को निर्दोष कैसे साबित करेंगे क्योंकि सोनीपत की पुलिस ने अभी तक नरसिंह की शिकायत पर काम नहीं किया है कि डोपिंग प्रकरण जीतेश (एक जूनियर पहलवान और सुशील कुमार के दल का सदस्य) की साजिश के तहत किया गया था, जिसमें उनकी एनर्जी ड्रिंक में 23 या 24 जून को प्रतिबंधित पदार्थ मिलाया गया था। तब इस पहलवान ने कहा कि वह इसके लिए प्रधानमंत्री तक जा सकते हैं। उन्होंने कहा, ‘मैं सचमुच संशय में हूं कि सोनीपत की पुलिस इस मामले की जांच कर रही है या नहीं। शिकायत के बावजूद उन्होंने इस मामले में आगे कोई तफ्तीश नहीं की है।’ नरसिंह ने कहा, ‘इसलिये मैं इस मामले की सीबीआई जांच का आग्रह कर रहा हूं। भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृज भूषण शरण सिंह ने भी इस मामले को उठाया है और अगर जरूरत पड़ी तो मैं प्रधानमंत्री से भी मिलूंगा और उनसे मदद का अनुरोध करूंगा।’


Top 5 News: National Sports Awards, Jigisha… by Jansatta

Next Stories
1 पीवी सिंधू, साक्षी मलिक, दीपा और जीतू राय चुने गए खेल रत्‍न, पहली बार चार खिलाड़ी चुने गए
2 सानिया युगल रैंकिंग में अकेली शीर्ष पर, सिनसिनाटी फ़ाइनल में मार्टिना हिंगिस की जोड़ी को दी शिकस्त
3 पीवी सिंधू को बीएमडब्ल्यू कार सौंपेंगे तेंदुलकर
ये पढ़ा क्या?
X