ताज़ा खबर
 

भारतीय फुटबॉल में बेहतरी का काम करना चाहिए फ़ीफा अंडर17 विश्व कप को: मोदी

भारत 2017 में फीफा अंडर 17 विश्व कप की मेजबानी करने जा रहा है।

Author नई दिल्ली | January 17, 2017 9:09 PM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर को 500 और 1000 रुपये के नोटों को अमान्य करार दे दिया था, लेकिन बाद पूरे देश में कैश की किल्लत हो गई थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत में इस साल होने वाले फीफा अंडर 17 विश्व कप का पूरी तरह से समर्थन करते हुए कहा कि इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता को देश में खेल के स्तर में सुधार के लिए उत्प्रेरक का काम करना चाहिए। मंगलवार (17 जनवरी) को जारी बयान में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि किस तरह यह प्रतियोगिता भारत में एतिहासिक बदलाव की शुरुआत कर सकती है। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘भारत 2017 में फीफा अंडर 17 विश्व कप की मेजबानी करने जा रहा है लेकिन सिर्फ टूर्नामेंट की सफल मेजबानी ही हमारा एकमात्र उद्देश्य नहीं होना चाहिए। फीफा अंडर 17 विश्व कप भारत 2017 बदलाव के लिए उत्प्रेरक होना चाहिए, देश में फुटबाल के लिए शीर्ष बिंदू, जिसे सिर्फ इसके आसपास बड़े पैमाने पर अभियान के जरिये ही हासिल किया जा सकता है।’

अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ की आधिकारिक वेबसाइट पर जारी बयान में मोदी ने कहा, ‘उद्देश्य देश के प्रत्येक बच्चे को फुटबॉल खेलने का मौका देना होना चाहिए।’ फीफा अंडर 17 विश्व कप का विरासत कार्यक्रम ‘मिशन इलेवन मिलियन’ स्कूल स्तर पर संपर्क पहल के रूप शुरू किया गया जो अक्तूबर में होने वाले अंडर 17 विश्व कप तक भारत की अब तक की सबसे बड़ी खेल संपर्क गतिविधि बनेगा। मोदी ने इस कार्यक्रम के बारे में पिछले साल अपने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में भी बात की थी। उन्होंने एक बार फिर इस शीर्ष स्तर के कार्यक्रम का समर्थन करने की बात कही। उन्होंने कहा, ‘मिशन इलेवन मिलियन फुटबॉल के खूबसूरत खेल को देश के कम से कम एक करोड़ 10 लाख लड़कों और लड़कियों तक ले जाएगा। कश्मीर से कन्याकुमारी, कच्छ से कन्याकुमारी तक प्रत्येक राज्य के बच्चे को फुटबॉल सीखने, खेलने और इसका लुत्फ उठाने का मौका मिलेगा। देशभर के 15000 से अधिक स्कूल इसमें साझेदार होंगे।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App