ताज़ा खबर
 

गोल्ड कोस्ट 2018: पुरुषों की चुनौती कुछ आसान

राष्ट्रमंडल खेलों के पावर गेम में भारत इस बार शक्तिशाली साबित हो सकता है।

Author April 5, 2018 1:35 AM

मनोज जोशी
राष्ट्रमंडल खेलों के पावर गेम में भारत इस बार शक्तिशाली साबित हो सकता है। भारोत्तोलन और कुश्ती में भारत पर हमेशा की तरह खूब पदक बरसते दिखाई देने की उम्मीद है, वहीं मुक्केबाजोें का पंच भी कुछ वजनों में अभेद्य साबित हो सकता है। एथलेटिक्स की फील्ड स्पर्धाओं में भी अच्छी उम्मीदें हैं और महिलाओं की 4 गुना 400 मीटर रिले रेस पर भी इस बार सबकी निगाहें होंगी।

कुश्ती में बबीता, बजरंग, सुशील और सोमवीर के स्वर्ण पदक के सबसे ज़्यादा अवसर हैं। महिलाओं की बदौलत स्वर्ण पदकों की संख्या और भी बढ़ सकती है। महिलाओं के वजन में कनाडाई और नाइजीरियाइयों ने मुकाबले को बेहद मुश्किल बना दिया है। जहां नाइजीरियाई स्टार ओडुनायो पूजा ढांडा से पीडब्ल्यूएल की हार का हिसाब चुकता करने के लिए बेकरार हैं वहीं यहीं की ब्लेसिंग ओबोरुडूडू भी राष्ट्रमंडल स्पर्धा में दिव्या काकरान के हाथों आखिरी क्षणों में हुई हार का बदला लेने के लिए उल्टी गिनती गिन रही हैं। विनेश के वजन में पूर्व विश्व विजेता कनाडा की जेसिका मैकडोनाल्ड हैं। अभी तक उनका पाला बबीता से पड़ा है, जिन्हें वे हरा चुकी हैं और उनसे हारी भी हैं लेकिन पिछले दो वर्षों में उनका प्रदर्शन ग्रां प्री प्रतियोगिताओं तक ही सीमित रहा है।

ओलंपिक पदक विजेता साक्षी मलिक के वजन में कनाडा की विश्व विजेता की कांस्य पदक विजेता मिशेल फजारी हैं। 58 किलो की पिछली विजेता नाइजीरिया की अमिनात अदेनेई भी साक्षी को चुनौती देंगी। ऐसे में उनके लिए अपने रजत को स्वर्ण में बदलना चुनौतीपूर्ण होगा। पुरुषों में राहुल आवारे के 57 किलो वजन में पिछले खेलों के पदक विजेता नाइजीरिया के एबिकेवेनिमो वेल्सन हैं। वहीं बजरंग को अफ्रीकी चैम्पियन नाइजीरिया के अमार डेनियल की चुनौती को तोड़ने में ज्यादा परेशानी नहीं होगी।

74 किलो में सुशील के कद का कोई खिलाड़ी नहीं हैं जबकि 86 किलो में सोमवीर के सामने पिछले कांस्य पदक विजेता नाइजीरिया के मेलविन बीबो हैं। मौसम खत्री के वजन में कई चौंकाने वाले नाम होंगे तो वहीं सुपर हैवीवेट में सुमित को पिछले चैंपियन कनाडा के कोरे जार्विस और पिछले कांस्य पदक विजेता नाइजीरिया के सिनीवी बाल्टिक से चुनौती मिलेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App