ताज़ा खबर
 

डेविस कप: रामकुमार का जुझारू प्रदर्शन, फेलिसियानो ने स्पेन को 1-0 से आगे किया

रामकुमार ने दुनिया के 26वें नंबर के खिलाड़ी फेलिसियानो के खिलाफ दो घंटे 26 मिनट तक चले मुकाबले में 4-6 4-6 6-3 1-6 से मिली हार के बावजूद अच्छा प्रदर्शन किया।

Author नई दिल्ली | Published on: September 16, 2016 9:18 PM
फेलिसियानो लोपेज के खिलाफ खेलते रामकुमार रामनाथन। (AP Photo/Saurabh Das/16 Sep, 2016)

रामकुमार रामनाथन ने अपने से कहीं बेहतरीन प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ चुनौतीपूर्ण प्रदर्शन किया लेकिन राफेल नडाल की जगह खेल रहे फेलिसियानो लोपेज ने शुक्रवार (16 सितंबर) को यहां भारत के खिलाफ डेविस कप विश्व ग्रुप प्ले ऑफ के शुरुआती एकल मैच में आसान जीत दर्ज कर स्पेन को 1-0 से बढ़त दिलायी। युवा भारतीय खिलाड़ी ने दुनिया के 26वें नंबर के खिलाड़ी फेलिसियानो के खिलाफ दो घंटे 26 मिनट तक चले मुकाबले में 4-6 4-6 6-3 1-6 से मिली हार के बावजूद अच्छा प्रदर्शन किया।

रामकुमार ने अपना सर्वश्रेष्ठ करने का प्रयासा किया लेकिन उनके मजबूत प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ यह काफी नहीं था जो हमवतन खिलाड़ी मार्क लोपेज के साथ फ्रेंच ओपन के मौजूदा युगल चैम्पियन हैं। स्टेडियम में 4000 से करीब दर्शक मौजूद थे, जिन्होंने 203 रैंकिंग वाले रामकुमार का उत्साहवर्धन किया, जिन्होंने भी दर्शकों को जश्न मनाने के कुछ क्षण मुहैया कराए। हालांकि दर्शक नडाल के मुकाबले से हटने से काफी निराश थे जिन्होंने पेट में गड़बड़ी के कारण मैच नहीं खेलने का फैसला किया।

टूर्नामेंट से पहले मुकाबले का केंद्र नडाल के इर्द गिर्द ही रहा था, जिससे टेनिस के प्रशंसकों को 14 बार के ग्रैंडस्लैम चैम्पियन को खेलने का मौका मिलता। साकेत मायनेनी (137 रैंकिंग) अब दूसरे एकल में डेविड फेरर से भिड़ेंगे। फेलिसियानो की श्रेष्ठता के बारे में कोई संदेह नहीं था, वे मैच के दौरान बिलकुल सहज दिखे। रामकुमार ने चुनौती देने की कोशिश की लेकिन स्पेन के इस खिलाड़ी ने मैच पर अपनी मजबूत पकड़ बनायी हुई थी।

फेलिसियानो ने कहा, ‘‘मैं जानता था कि यह अच्छा मैच था, उसने अच्छी चुनौती दी। मैं इस तरह के मैच की उम्मीद कर रहा था। उमस थी लेकिन हमने डटे रहने की कोशिश की और अपनी टीम को अंक दिलाया।’ रामकुमार ने दर्शकों से मिले समर्थन के बारे में कहा, ‘आप सभी को शुक्रिया।’ उन्होंने कहा, ‘मैं प्रत्येक अंक पर कोशिश कर रहा था, अपना सर्वश्रेष्ठ कर रहा था। दुर्भाग्य से जीत नहीं सका। फेली (लोपेज) काफी मजबूती से खेला।’

फेलिसियानो को अपनी टीम को बढ़त दिलाने के लिए ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ी जो बेताबी से विश्व ग्रुप में वापसी करने की कोशिश में जुटी है। टीम जनवरी 2014 में रेलीगेट हो गयी थी। रामकुमार अपने प्रतिद्वंद्वी को तीसरे सेट तक ले गये लेकिन फेलिसियानो ने आसानी से चौथे सेट में दबदबा बनाते हुए जीत दर्ज की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सानिया चाहती हैं वीनस विलियम्स के डोपिंग मुद्दे को देखे एआईटीए
2 सौरभ वर्मा बेल्जियम ओपन के क्वार्टर फाइनल में
3 भारत फीफा रैंकिंग में 148वें स्थान पर
जस्‍ट नाउ
X