ताज़ा खबर
 

CWG 2018: ग्‍लासगो की कमी गोल्‍ड कोस्‍ट में पूरी हुई, भारत ने जीते 26 गोल्‍ड, 20 सिल्‍वर और 20 ब्रॉन्‍ज मेडल

Commonwealth Games, CWG 2018 : 21वें राष्ट्रमंडल खेलों में कुल 71 देशों और टेरेटरीज ने हिस्सा लिया, जिनमें से 43 के हिस्से पदक आए। आस्ट्रेलिया ने 80 स्वर्ण के अलावा 59 रजत और इतने ही कांस्य पदक जीते। इंग्लैंड ने 45 स्वर्ण, इतने ही रजत और 46 कांस्य पदक जीते।

21वें राष्ट्रमंडल खेलों में कुल 71 देशों और टेरेटरीज ने हिस्सा लिया। (फोटो सोर्स- पीटीआई)

मेजबान ऑस्ट्रेलिया 21वें राष्ट्रमंडल खेलों में कुल 198 पदकों के साथ पदक तालिका में टॉप पर रहा। उसने 80 स्वर्ण पदक जीते। इंग्लैंड ने 136 पदकों के साथ दूसरा और भारत ने 66 पदकों के साथ तीसरा स्थान हासिल किया। 21वें राष्ट्रमंडल खेलों में कुल 71 देशों और टेरेटरीज ने हिस्सा लिया, जिनमें से 43 के हिस्से पदक आए। आस्ट्रेलिया ने 80 स्वर्ण के अलावा 59 रजत और इतने ही कांस्य पदक जीते। इंग्लैंड ने 45 स्वर्ण, इतने ही रजत और 46 कांस्य पदक जीते। भारत ने बेशक चौथे स्थान पर रहे कनाडा (82 पदक) से कम पदक जीते लेकिन उसके स्वर्ण पदकों की संख्या कनाडा से अधिक रही। कनाडा ने 15 स्वर्ण जीते जबकि भारत के नाम 26 स्वर्ण रहे। भारत ने 20 रजत और इतने ही कांस्य भी जीते जबकि कनाडा के नाम 40 रजत और 27 कांस्य रहे। न्यूजीलैंड ने 15 स्वर्ण, 16 रजत और 15 कांस्य के साथ कुल 46 पदकों के साथ पांचवां स्थान हासिल किया।

दक्षिण अफ्रीका ने 37 पदक (13 स्वर्ण, 11 रजत और 13 कांस्य) जीते जबकि वेल्स ने 36 पदक (10 स्वर्ण, 12 रजत और 14 कांस्य) जीते। स्कॉटलैंड और नाइजीरिया के नाम नौ-नौ स्वर्ण रहे। भारत की बात की जाए तो उसने ग्लासगो में 15 स्वर्ण जीते थे लेकिन इस बार वह उस संख्या को पार करने में सफल रहा। हालांकि 2010 में अपनी मेजबानी में हुए 19वें राष्ट्रमंडल खेलों में भारत ने 38 स्वर्ण सहित कुल 101 पदक जीते थे, जो इन खेलों में उसका अब तक का सबसे अच्छा प्रदर्शन है।

अंतिम दिन सिधु को हार के कारण रजत पदक से संतोष करना पड़ा। हालांकि, वह 2014 में ग्लास्गो में आयोजित राष्ट्रमंडल खेलों में जीते गए महिला एकल वर्ग के कांस्य पदक को रजत में बदलने में तब्दील रही। 21वें राष्ट्रमंडल खेलों का आयोजन ऑस्ट्रेलिया के पश्चिमी शहर गोल्ड कोस्ट में 4 से 15 अप्रैल के बीच हुआ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App