ताज़ा खबर
 

नंबर वन बैडमिंटन प्लेयर की करंट लगने से मौत

करंट लगने के तुरंत बाद ही वहां मौजूद लोगों ने उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया, लेकिन उनकी जान नहीं बच सकी। सोमवार को डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। करंट लगने के बाद उनका पूरा शरीर पूरी तरह से झूलस गया था, जिसके बाद डॉक्टरों के लिए भी उन्हें बचाना बेहद मुश्किल हो गया था।

Author November 27, 2018 12:28 PM
त्रिनांकुर नाग। (फोटो सोर्स- फेसबुक)

पश्चिम बंगाल में एक बैडमिंटन खिलाड़ी की बिजली के तार के चपेट में आने से मौत हो गई। त्रिनांकुर नाग नामक इस खिलाड़ी को सियालदाह स्थित रेलवे कार शेड में काम करते समय शनिवार को बिजली का करंट लगा। करंट लगने के तुरंत बाद ही वहां मौजूद लोगों ने उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया, लेकिन उनकी जान नहीं बच सकी। सोमवार को डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। करंट लगने के बाद उनका पूरा शरीर पूरी तरह से झूलस गया था, जिसके बाद डॉक्टरों के लिए भी उन्हें बचाना बेहद मुश्किल हो गया था। दो दिनों तक त्रिनांकुर को ईस्टर्न रेलवे के बी.आर.सिंह अस्पताल में रखा गया, लेकिन उन्हें बचाने में डॉक्टर असफल रहे। त्रिनांकुर नाग की उम्र 26 साल थी। वह उत्तरी कोलकाता के नागेरबाजार में अपने माता-पिता के साथ रहते थे। वह अपने माता-पिता की इकलौती संतान थे। त्रिनांकुर के माता-पिता पूरी तरह से अपने बेटे पर निर्भर थे।

वहीं इस मामले को लेकर पूर्वी रेलवे के एक प्रवक्ता ने कहा कि रेलवे अधिकारी इस हादसे की जांच करेंगे, अगर इस हादसे में किसी की लापरवाही पाई गई तो उसे सख्त सजा दी जाएगी। नाग को खेल कोटे से रेलवे में नौकरी मिली थी और वह पिछले चार- पांच साल से कांकुरगाची में काम कर रहे थे। मॉरीशस में जुलाई 2011 में हुए एक कोचिंग कैंप और फिर टूर्नामेंट के दौरान नाग भारत की अंडर-19 टीम का हिस्सा थे।

मौजूदा समय के बैडमिंटन रैंकिंग के मेंस डबल्स में त्रिनांकुर नाग नंबर वन पर मौजूद थे। नाग ने जूनियर और सीनियर श्रेणियों में कई वर्षों तक बंगाल का प्रतिनिधित्व किया था। नाग अपने राज्य के लिए कई पुरस्कार जीत चुके थे, उनके शोक संदेश में उनकी गैर-मौजूदगी को बंगाल बैडमिंटन का शून्य से शुरू हो जाना बताया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App