ताज़ा खबर
 

एआईटीए ने लिएंडर पेस को डेविस कप के लिए चुना, अंतिम चार का फैसला महेश भूपति पर छोड़ा

पेस को बेंगलुरु में सात अप्रैल से शुरू होने वाले एशिया ओसियाना ग्रुप एक के दूसरे दौर के लिये टीम में रखने पर फैसला मुकाबले से दस दिन पहले करेंगे।

Author नई दिल्ली | Updated: March 7, 2017 12:24 AM
Leander Paes, Saketh Myneni, Sport ministery, Sports minister stipend, Tokyo Olympics, Rajyavardhan Rathore, Sports minister Rajyavardhan Rathore, monthly stipend for athletes, 50,000 allowance, 50,000 allowance per month, Sport News, Jansattaभारत के शीर्ष टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस। (फाइल फोटो)

लिंएडर पेस को उज्बेकिस्तान के खिलाफ मुकाबले के लिए सोमवार (6 मार्च) को भारतीय डेविस कप टीम में बरकरार रखा गया लेकिन नए गैरखिलाड़ी कप्तान महेश भूपति यह फैसला करेंगे उनका यह पुराना साथी अंतिम चार में जगह रहेगा या नहीं। पेस को बेंगलुरु में सात अप्रैल से शुरू होने वाले एशिया ओसियाना ग्रुप एक के दूसरे दौर के लिये टीम में रखने पर फैसला मुकाबले से दस दिन पहले करेंगे। अखिल भारतीय टेनिस संघ (एआईटीए) की एस पी मिश्रा की अगुवाई वाली चार सदस्यीय चयन समिति ने छह सदस्यीय टीम में चार एकल खिलाड़ियों रामकुमार रामनाथन, युकी भांबरी, प्रजनेश गुणेश्वरन और एन श्रीराम बालाजी और दो युगल खिलाड़ियों रोहन बोपन्ना और लिएंडर पेस को रखा। एआईटीए के महासचिव हिरणमय चटर्जी ने कहा कि अब अंतिम चार का फैसला करना कप्तान का काम है।

उन्होंने कहा, ‘भारत के पास ये सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी हैं और अब कप्तान के पास मौका है कि वह इनमें से सर्वश्रेष्ठ का चयन करें। आज की तिथि में युगल के लिये सर्वश्रेष्ठ विकल्प लिएंडर और रोहन हैं चाहे हम रैंकिंग की बात करें या फॉर्म की। कप्तान चयन समिति के अध्यक्ष के साथ चर्चा करके मुकाबले से दस दिन पहले अंतिम चार खिलाड़ियों का चयन करेंगे।’
चटर्जी ने कहा, ‘यह मुकाबला हमारे लिये बेहद महत्वपूर्ण है। डेनिस इस्तोमिन यदि फिट रहता तो दोनों एकल मैच जीत सकता है। इसलिए इस मुकाबले में युगल हमारे लिये बेहद महत्वपूर्ण बन जाता है। इसलिए अब फैसला कप्तान को करना है।’ चटर्जी ने इसके साथ ही कहा कि उन्होंने तीन एकल और दो युगल खिलाड़ी चुनने पर विचार किया लेकिन चर्चा के बाद छह सदस्यीय टीम का चयन करने पर सहमति बनी।

बोपन्ना और पेस के पूर्व में मतभेदों के बारे में पूछे जाने पर चटर्जी ने कहा, ‘खिलाड़ी जब कोर्ट पर उतरते हैं तो उन्हें केवल गेंद दिखती है।’ पिछले साल रियो ओलंपिक के लिये जोड़ी बनाये जाने के बाद बोपन्ना ने कहा था कि उनका खेल पेस के अनुकूल नहीं है। कोच जीशान अली ने भी साफ किया कि चयन किसी खास मुकाबले को ध्यान में रखकर किया जाता है।
उन्होंने कहा, ‘यह कोई तय नहीं है कि हम तीन एकल और एक युगल या दो एकल और दो युगल खिलाड़ियों के साथ खेलें। यह इस पर निर्भर करता है कि हम किस टीम के खिलाफ खेल रहे हैं। जहां तक रोहन और लिएंडर का सवाल है तो उनके पूर्व में मतभेद रहे हैं लेकिन इसके बावजूद उन्होंने जोड़ी बनायी और कुछ शानदार मैच खेले।’ जीशान ने कहा, ‘हर कोई खेलने के लिये तैयार है और यदि उनका कोई मसला होता तो वे खुद को उपलब्ध नहीं रखते। वे पेशेवर हैं।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बचपन में पढ़ाई में होशियार थे महावीर फोगाट, मिलती थी स्कॉलरशिप
2 राफेल नडाल मैक्सिको ओपन के सेमीफाइनल में, नोवाक जोकोविच बाहर
3 अकापुल्को ओपन टेनिस: जोकोविच को जीत के लिए करनी पड़ी मशक्कत, नडाल भी क्वार्टर फाइनल में
यह पढ़ा क्या?
X