ताज़ा खबर
 

400 किलो का स्क्वाट उठाने में वेटलिफ्टर के दोनों घुटने टूटे, ट्रेनर्स की तत्परता से गर्दन टूटने से बची

एलेक्जेंडर सडयाख की 6 घंटे तक सर्जरी चली। डॉक्टरों का कहना है कि एलेक्जेंडर पूरी तरह से स्वस्थ होने के बाद भी वेटलिफ्टिंग में वापसी कर पाएंगे या नहीं, अभी कुछ भी कहना कठिन है।

Author Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: August 15, 2020 11:33 AM
Alexander Sedykhएलेक्जेंडर सडयाख अपनी गलती के कारण इस हादसे का शिकार हुए हैं। (सोर्स- स्क्रीनशॉट)

रूस के पावरलिफ्टर एलेक्जेंडर सडयाख गलत तरीके से वजन उठाने के कारण हादसे का शिकार हो गए हैं। उनके दोनों घुटने टूट गए हैं। यह तो भला हो ट्रेनर्स और मेडिक स्टाफ का जिसके चौकन्ने पन के कारण उनकी गर्दन टूटने और जान जाने से बच गई। यह हादसा वर्ल्ड रॉ पावरलिफ्टिंग फेडरेशन यूरोपियन चैंपियनशिप (World Raw Powerlifting Federation European Championships) के दौरान हुआ। एलेक्जेंडर सडयाख ने 400 किलो का वजन उठाया था।

इस हादसे का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है। हादसा इतना भयानक है कि वीडियो को देखकर आप विचलित हो सकते हैं। वीडियो में दिख रहा है कि एलेक्जेंडर सडयाख ने दोनों कंधों की मदद से स्क्वाट पर 400 किलोग्राम का वजन उठाया। हालांकि, इस दौरान उनके पैर डगमगाते रहे। जब स्क्वाट नीचे रखने की बारी आई तब उनकी टेक्निक गलत हो गई और वह घुटनों के बल ही गिर पड़े।

इस दौरान वहां मौजूद ट्रेनर्स और मेडिकल स्टाफ चौकन्ना था। शायद उसे किसी हादसे की आशंका थी। उसकी तत्परता के कारण स्क्वाट एलेक्जेंडर सडयाख की गर्दन पर गिरने से बच गया। कहना गलत नहीं होगा कि यदि ट्रेनर्स और मेडिकल स्टाफ ने तत्परता नहीं दिखाई होती तो स्क्वाट वेटलिफ्टर की गर्दन पर भी गिर सकता था और उनकी जान तक जा सकती थी। घुटने टूटने के साथ उनकी मांसपेशियां भी फट गई हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एलेक्जेंडर सडयाख के दोनों के दोनों घुटनों में फ्रैक्चर हुआ है। हादसे के बाद उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया। अस्पताल में 6 घंटे तक उनकी सर्जरी चली। सर्जरी के बाद डॉक्टरों ने कहा है कि एलेक्जेंडर पूरी तरह से स्वस्थ होने के बाद भी वेटलिफ्टिंग में वापसी कर पाएंगे या नहीं, अभी कुछ भी कहना कठिन है। डॉक्टरों ने उन्हें दो महीने तक आराम करने के लिए कहा है। इस दौरान वह अपने पैरों को हिला भी नहीं पाएंगे। वहीं, एलेक्जेंडर का कहना है कि अब उन्हें फिर से पैदल चलने के लिए सीखना होगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 आईपीएल टाइटल स्पॉन्सरशिप की दौड़ में नहीं आई रामदेव की पतंजलि, टाटा संस, ड्रीम 11, बायजू मुकाबले में
2 टाटा, अनअकैडमी, ड्रीम 11 भी शामिल हुईं IPL टाइटल स्पॉन्सरशिप राइट्स की रेस में
3 IPL 2020: महेंद्र सिंह धोनी की अगुआई में चेन्नई पहुंचे सीएसके के खिलाड़ी, 21 अगस्त को यूएई रवाना होगी टीम
ये पढ़ा क्या?
X