ताज़ा खबर
 

मेरा सारा ध्यान फिटनेस पर: ज्वाला गुट्टा

नई दिल्ली। भारतीय डबल्स बैडमिंटन खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा अब अपना सारा ध्यान फिटनेस पर दे रही हैं। चोट की वजह से ज्वाला ने एशियाई खेलों से अपना नाम वापस ले लिया था। लेकिन अब वे इस चोट से पूरी तरह उबर चुकीं हैं। ज्वाला हाल ही में राजधानी में थीं। वे चीन की खेल सामग्री […]

Author November 12, 2014 10:23 AM
बैडमिंटन खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा। (एक्सप्रेस फोटो)

नई दिल्ली। भारतीय डबल्स बैडमिंटन खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा अब अपना सारा ध्यान फिटनेस पर दे रही हैं। चोट की वजह से ज्वाला ने एशियाई खेलों से अपना नाम वापस ले लिया था। लेकिन अब वे इस चोट से पूरी तरह उबर चुकीं हैं। ज्वाला हाल ही में राजधानी में थीं। वे चीन की खेल सामग्री निर्माता कंपनी ली निंग के स्टोर के उद््घाटन के सिलसिले में यहां आर्इं हुर्इं थीं। वे लि निंग की ब्रांड राजदूत भी हैं। स्टोर के उद््घाटन के बाद पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि उनकी और अश्विनी पोनप्पा की जोड़ी इस वक्त बेहतरीन फार्म में हैं। हम दोनों अच्छा खेल रहे हैं और इस लय को आगे भी बरकरार रखना चाह रहे हैं। इसलिए मेरी कोशिश अपने को पूरी तरह फिट रखने की है।

उन्होंने कहा कि वे अब चोट से पूरी तरह उबर चुकी हैं और फिट हूं। मेरा लक्ष्य अब अपने को तरोताजा और फिट रखना है। मैं अभी अच्छा खेल रही हूं और मेरी कोशिश है कि 2016 के रियो ओलंपिक तक अपने को इसी तरह फिट रख सकूं ताकि ओलंपिक में देश के लिए पदक जीत सकूं। उन्होंने कहा कि अश्विनी और मैंने हाल के दिनों में अच्छा प्रदर्शन कर रहा हूं। हमने फ्रेंच ओपन में दुनिया की ग्यारहवीं सीड जोड़ी को हराया था। हम दोनों अपने खेल पर पूरी तरह फोकस हैं और हमारा अगला लक्ष्य हांगकांग व मकाऊ ओपन में बेहतरीन प्रदर्शन करना है। हम साल का अंत बेहतरीन ढंग से करना चाहते हैं। अजुर्न पुरस्कार विजेता ज्वाला ने कहा कि हम फ्रेंच ओपन में प्री-क्वार्टर फाइनल तक पहुंचे थे जिसे बुरा प्रदर्शन नहीं कहा जा सकता। दूसरे भारतीय खिलाड़ियों का प्रदर्शन भी अच्छा रहा। हालांकि भारतीय चुनौती क्वार्टर फाइनल से आगे नहीं बढ़ पाई लेकिन एक-दो टूर्नामेंट के आधापर पूरे प्रदर्शन को आंकना सही नहीं है। इस टूर्नामेंट में कई मुकाबले बेहद नजदीकी रहे। इन मुकाबलों में भारतीय खिलाड़ी जीत भी सकते थे। इसलिए यह कहना सही नहीं है कि भारत का प्रदर्शन खराब रहा था।

अगले साल को बहुत ही महत्त्वपूर्ण बताते हुए ज्वाला ने कहा कि 2016 रियो ओलंपिक को देखते हुए अगला हम सबके लिए बहुत महत्त्वपूर्ण है। हमें अगले साल सभी टूर्नामेंट में कड़ी मेहनत करनी होगी। मैं और अश्विनी आरिफ सर की देखरेख में प्रशिक्षण ले रहे हैं ताकि हम आने वाले साल में और अच्छा प्रदर्शन कर सकें। वैसे अभी मैं किसी तरह की परेशानी महसूस नहीं कर रही हूं। बस अपने को फिट बनाए रखना है।

एशियाई खेलों में भारतीय प्रदर्शन के बारे में पूछे जाने पर ज्वाला ने कहा कि मैं चोट की वजह से एशियाई खेलों में हिस्सा नहीं ले सकी लेकिन एशियाड में भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों और खासतौर पर महिलाओं का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा। ज्वाला ने कहा कि महिला टीम का कांस्य पदक जीतना बड़ी उपलब्धि कही जा सकती है। आपको यह नहीं भूलना चाहिए कि एशिया बैडमिंटन का गढ़ है और ओलंपिक व विश्व चैंपियन एशिया से ही निकलते हैं। ऐसे में अगर आप एशियाई खेलों में पदक जीतते हैं तो यह एक बड़ी बात है। अपनी रैंकिंग में आई गिरावट के सवाल पर उन्होंने कहा कि रैंकिंग को लेकर मैंने कभी नहीं सोचा। अगर आप अच्छा खेलते हैं तो जाहिर है कि रैंकिंग में उछाल आएगा। इस साल अश्विनी और मैंने कई चोटी की खिलाड़ियों को हराया है। यह बात हमें संतोष देती है। इस साल हमने तीन पदक जीते हैं जो महिला डबल्स को देखते हुए बड़ी उपलब्धि है। महिला डबल्स को वैसे भी ज्यादा प्राथमिकता नहीं दी जाती है। ऐसे में तीन पदक जीतना एक बड़ी कामयाबी कही जाएगी। ज्वाला ने माना कि उम्र बढ़ने का असर प्रदर्शन पर भी पड़ता है। ऐसे में कुछ चीजों पर ध्यान देने की जरूरत होती है। वैसे कोर्ट पर उनका खेल ठीक चल रहा है बस खुद को फिट रखने पर ही सारा ध्यान दे रही हूं। फेडरेशन के साथ संबंध के बारे में पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि यों तो मेरा सारा ध्यान अपने खेल पर रहता है क्योंकि यह मेरा जनून है लेकिन अगर कोई मेरे खेल या मेरे समर्पण पर सवाल खड़ा करता है तो मुझे गुस्सा आता है। फिलहाल मुझे फेडरेशन से किसी तरह की परेशानी नहीं है।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App