ताज़ा खबर
 

‘अश्विन तोड़ सकते हैं मेरे 800 विकेट का रिकॉर्ड, नाथन लियोन में क्षमता नहीं’, मुथैया मुरलीधरन ने की भविष्यवाणी

मुरलीधरन का मानना है कि भारत के ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन उनका रिकॉर्ड तोड़ सकते हैं। वे ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज स्पिनर नाथन लियोन को इसके काबिल नहीं समझते। लियोन में उन्हें क्षमता की कमी नजर आती है।

Muttiah Muralitharan, predicted, Ashwin, record, Nathan Lyonरविचंद्रन अश्विन ने टेस्ट क्रिकेट में 377 विकेट लिए हैं। (सोर्स – PTI)

श्रीलंका के ऑफ स्पिनर मुथैया मुरलीधरन के 800 विकेट के रिकॉर्ड को तोड़ना किसी भी गेंदबाज के लिए सबसे मुश्किल काम है। हालांकि, उनका मानना है कि दुनिया में एक ऐसा ऑफ स्पिनर है जो उनका रिकॉर्ड तोड़ सकता है। मुरलीधरन का मानना है कि भारत के ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन उनका रिकॉर्ड तोड़ सकते हैं। वे ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज स्पिनर नाथन लियोन को इसके काबिल नहीं समझते। लियोन में उन्हें क्षमता की कमी नजर आती है।

कोलंबो स्थित अपने घर से सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड से बात करते हुए मुरलीधरन ने कहा, ‘‘टेस्ट क्रिकेट में समस्या यह है कि ट्वेंटी 20 और एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों ने गतिशीलता को बदल दिया है। जब मैं खेलत था तब बल्लेबाज तकनीकी रूप से बहुत अच्छे थे और विकेट सपाट थे। अब वे तीन दिनों में मैच खत्म करने की कोशिश करते हैं। हमारे समय में गेंदबाजों को विकेट लेने के लिए अतिरिक्त प्रयास करने पड़ते थे। उन्हें विकेट के लिए चमत्कारिक प्रदर्शन करना पड़ता था।

मुरलीधरन ने कहा, ‘‘अगर आप उस समय लाइन-लेंग्थ पर गेंदबाजी करते थे तो आपको पांच विकेट मिलते थे। यह ऐसा इसलिए होता था कि बल्लेबाज अटैक किए बिना ज्यादा देर नहीं टिका रह सकता था।’’ क्या कोई 800 विकेट ले सकता है इस सवाल पर मुथैया ने कहा, ‘‘अश्विन (377 विकेट) के पास मौका है, क्योंकि वह एक महान गेंदबाज है। उनके अलावा मुझे नहीं लगता है कि कोई युवा गेंदबाज वहां तक पहुंच सकता है। शायद नाथन लियोन। लेकिन उनमें वहां तक पहुंचने की क्षमता नहीं है। वह 400 विकेट के करीब है, लेकिन उसे बहुत सारे मैच खेलने पड़ेंगे।’’

श्रीलंका क्रिकेट के बारे में बात करते हुए कहा, ‘‘आप क्रिकेट बोर्ड की राजनीति के बारे में जानते हैं। हमारे पास कई सारे खिलाड़ी हैं और कई सारे कप्तान हैं। मुझे याद है जब मैंने खेलना शुरू किया था तो अर्जुन राणातुंगा 10 साल तक कप्तान थे। उनके बाद सनथ जयसूर्या चार साल तक कप्तान रहें। फिर महेला जयवर्धने और कुमार संगकारा। मैंने अपने 20 साल के करियर में 4-5 कप्तान देखे। लेकिन इस समय छह महीनों में कप्तान बदल जाता है। ऐसा इसलिए नहीं कि टैलेंट नहीं है। ऐसा इसलिए होता है को कोई लीडर नहीं है और हम साथ नहीं खेलना चाहते हैं। हम पाकिस्तान की तरह हो गए हैं।’’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 India vs Australia 4th test playing-11: अश्विन-बुमराह बाहर, टी नटराजन और वॉशिंगटन सुंदर ने किया डेब्यू
2 सिडनी टेस्ट ड्रॉ होने से रोमांचक हुई WTC फाइनल की रेस, जानिए गाबा में जीत-हार का भारत पर क्या पड़ेगा फर्क
3 Syed Mushtaq Ali Trophy: केरल के मोहम्मद अजहरुद्दीन ने 37 गेंद में ठोका शतक; रचा इतिहास, लगाई रिकॉर्ड्स की झड़ी
आज का राशिफल
X