scorecardresearch

“हैंडल विद केयर”, उमरान मलिक की रफ्तार को लेकर बोले मुनाफ पटेल

उमरान मलिक की तरह मुनाफ पटेल भी अपनी स्पीड के कारण करियर के शुरुआत में चर्चा में रहे, लेकिन चोटिल होने के बाद उनकी रफ्तार गिर गई। पदार्पण के पांच साल बाद ही अंतरराष्ट्रीय करियर खत्म हो गया।

सनराइजर्स हैदराबाद के गेंदबाज उमरान मलिक (फोटो: iplt20.com)

इंडियन प्रीमियर लीग 2022 (IPL 2022) में उमरान मलिक ने अपनी स्पीड से सनसनी मचा दी है। टीम इंडिया के पूर्व तेज गेंदबाज मुनाफ पटेल ने कहा कि 21 साल के गेंदबाज को वह सलाह देंगे जाओ और जोश से बॉल फेंको। यही है। उन्हें गेंदबाजी करते देखकर उनको (मुनाफ) भी गेंदबाजी करने का मन करता है। ऐसे बच्चों को आईपीएल में अवसर मिलते देखना बहुत अच्छा है। जो स्काउट प्रतिभाओं को खोजने के लिए बाहर जाते हैं… यह अच्छा लगता है कि दुनिया की सबसे बड़ी लीग हमारे खिलाड़ियों को लाभ दे रही है, खासकर उनको जो छोटी जगहों से आते हैं। वरना कौन जानता है कि वह कैसे जगह बनाता और कहां खेला होता? अब वह लीग का सबसे तेज गेंदबाज है और इससे बहुत खुशी होती है।

बीसीसीआई को उमरान के घरेलू सर्किट में प्रदर्शन करने और फिर उन्हें भारतीय टीम में लाने का इंतजार नहीं करना चाहिए। आप चाहें तो उन्हें टीम के 17वें सदस्य के रूप में ले लें, लेकिन उन्हें साथ जरूर ले जाएं। वह कल्चर और विभिन्न स्थितियों के बारे में जानेंगे और सबके साथ रहने से उन्हें किसी भी स्थिति से समांजस्य बैठाने के बारे में सीख मिलेगी। यह करना काफी जरूरी है।

हैंडल विद केयर- मुनाफ ने कहा कि अगर उमरान को ठीक तरह मैनेज नहीं किया गया, तो उनका करियर लंबा नहीं होगा। बहुत ज्यादा मैच खेलने पर इंजरी हो सकती और इसका असर उनके पेस पर भी पड़ सकता है। उन्होंने कहा, ” मेरे समय सोशल मीडिया बहुत ज्यादा प्राभवी नहीं था जितना अब है, लेकिन निश्चित रूप से हर कोई उत्साहित था। यदि कोई छोटी सी जगह से आता है जहां कोई इंफ्रास्ट्रकचर नहीं है तो ऐसा होना स्वाभाविक है। उमरान मेरी तरह ही चर्चा में आया है। आपको उसकी अच्छी देखभाल करने की जरूरत है। वह लंबे समय तक तभी टिक पाएंगे, जब बीसीसीआई ऐसा करेगा।”

देखभाल करना जरूरी- मुनाफ ने आगे कहा, “देखा जाए तो जहीर खान भी 145 किलोमीटर प्रति घंटे से ज्यादा की रफ्तार के गेंदबाज आए थे, आशीष नेहरा थे, मैं था, वीआरवी सिंह थे, ईशांत शर्मा भी जब आए थे तो तेज थे। वर्तमान में आपके पास उमेश यादव, नवदीप सैनी जैसे तेज गेंदबाज हैं। एक ऐसी व्यवस्था की जरूरत है, जहां एक तेज गेंदबाज एक साल में सीमित मैच खेले। अब बेशक फिजियोथैरेपी और ट्रेनिंग के मामले में टेक्नोलॉजी एडवांस हो गई है, लेकिन फिर भी आपको उसकी देखभाल करनी होगी। यदि आप उसका बहुत अधिक इस्तेमाव करते हैं, तो बड़ी चोट लगेने की संभावना है और इसका मतलब है कि उन्हें अपनी गति को कम करना होगा, लेकिन इस समय वह सोनी पे सुहागा की तरह गेंदबाजी कर रहे हैं।”

स्टेन मौजूदगी से फायदा- मुनाफ ने कहा, “डेल स्टेन अभी उनके साथ हैं, इसलिए उन्हें बहुत कुछ सीखने को मिलेगा। इससे बहुत फर्क पड़ेगा। स्टेन अच्छे व्यक्ति हैं, वे अहंकारी नहीं हैं। वह खुद 145 से ज्यादा की रफ्तार से गेंदबाजी करते थे। वह स्टेन से जो कुछ भी ले सकते हैं, उन्हें ले लेना चाहिए। छोटी सी जगह से होने के कारण उमराम कोरे कागज की तरह है, आप उस पर जो चाहें लिख सकते हैं। वह वैसा ही करेंगे जैसा स्टेन कहते हैं।”

स्टेन से जितना लपेट सकें लपेट लें- मुनाफ ने यह भी कहा, ” उमरान की उम्र में इंसान कुछ नहीं जानता। आप एक छोटी सी जगह से हैं और उतने परिपक्व नहीं हैं। इसलिए आपको ऐसा लगता है कि आपको इस व्यक्ति से तो उस व्यक्ति से सीखना चाहिए। तथ्य यह है कि वह कुछ महीनों के लिए स्टेन के साथ रहेंगे और यह उनके लिए एक सुनहरा दौर है। जितना उनसे लपेट सकें लपेट लें। यह सीखने के साथ-साथ गेंदबाजी करने का भी उम्र है। मुझे नहीं लगता कि जीवन में उनके लिए इससे बेहतर मौका और कोई होगा।”

पढें खेल (Khel News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट