ताज़ा खबर
 

टीम इंडिया की चौथे नंबर की परेशानी दूर कर सकते हैं श्रेयस अय्यर, चीफे सेलेक्टर एमएसके प्रसाद ने जताया भरोसा

अय्यर ने नवंबर 2017 में न्यूजीलैंड के खिलाफ टी20 अंतरराष्ट्रीय में पदार्पण करने के बाद श्रीलंका के खिलाफ घरेलू मैदान में लगातार दो अर्धशतकीय पारियां खेली थी।

Author नई दिल्ली | Published on: November 28, 2019 6:50 PM
श्रेयस अय्यर

चयन समिति के अध्यक्ष एमएसके प्रसाद ने कहा कि सीमित ओवरों के प्रारूप में श्रेयस अय्यर ने पिछले दो साल में अपने खेल में जो सुधार किया है उससे वह भारतीय क्रिकेट टीम की चौथे क्रम की परेशानी को दूर कर सकते हैं। अय्यर ने नवंबर 2017 में न्यूजीलैंड के खिलाफ टी20 अंतरराष्ट्रीय में पदार्पण करने के बाद श्रीलंका के खिलाफ घरेलू मैदान में लगातार दो अर्धशतकीय पारियां खेली थी। चौबीस साल के इस खिलाड़ी ने इसके बाद दक्षिण अफ्रीका में तीन वनडे खेले लेकिन दो महीने बाद उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया।

विश्व कप में भारतीय टीम का अभियान खत्म होने के बाद उन्हें इस साल अगस्त में वेस्टइंडीज के खिलाफ एकदिवसीय श्रृंखला के लिए फिर से चुना गया। प्रसाद ने पीटीआई को दिये साक्षात्कार में कहा, ‘‘ अगर आपको याद हो तो हमने अय्यर को 18 महीने पहले (जब कोहली को विश्राम दिया गया था) एकदिवसीय टीम में शामिल किया था और उसने अच्छा प्रदर्शन किया है। दुर्भाग्य से हम उसे टीम में बरकरार नहीं रख सके। उसने हालांकि अपने खेल में काफी सुधार किया है जिससे एकदिवसीय और टी20 टीमों में चौथे क्रम की परेशानी से टीम को उबार सकता है।’’

घरेलू प्रतियोगितओं में मुंबई का प्रतिनिधित्व करने वाले इस बल्लेबाज घरेलू और भारत ए टीम के लिए रनों का अंबार लगाया और सीनियर टीम में जगह नहीं मिलने पर निराशा भी जतायी। वह हालांकि वेस्टइंडीज दौरे के बाद से टीम के नियमित सदस्य है। प्रसाद के नेतृत्व वाली चयन समिति ने 2016 में अपना कार्यकाल शुरू किया था जो अब खत्म होने वाला है। प्रसाद ने कहा कि विश्व कप के तैयारियों के तहत अय्यर को मौका नहीं मिलना दुर्भाग्यपूर्ण था।

प्रसाद से जब भारतीय टेस्ट टीम के आक्रमण के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘‘ चयनसमिति का मुख्य काम सही प्रतिभा को खोज कर उन्हें एक व्यवस्थित प्रक्रिया के माध्यम से तैयार करना के बाद सही समय पर सीनियर टीम के साथ जोड़ना है। इसके बाद हमें अच्छा प्रदर्शन के लिए उनका साथ देना होता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ बुमराह के अलावा बाकी के तेज गेंदबाज (इशांत शर्मा, उमेश यादव और मोहम्मद शमी) हमारी समिति के आने से पहले से थे। हमारे आने के बाद एक चीज यह है कि उन्होंने एक इकाई के रूप में अच्छा प्रदर्शन किया। हमने बुमराह को सभी प्रारूपों में एक शीर्ष श्रेणी के गेंदबाज के रूप में विकसित करने में मदद की।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 ओलंपिक कोटा हासिल कर बोलीं दीपिका, मैंने सांस पर नियंत्रण रखा और खुद से कहा- लगी रहो
2 Babita Phogat’s Wedding: Real ‘दंगल गर्ल’ ने शेयर की पहली रस्म की तस्वीरें, फैंस बोले- ऐसी होती है Indian शादी
3 टेस्ट और वनडे में 10000+ रन बनाने वाले इकलौते द. अफ्रीकी क्रिकेटर ने शेव किया आधा चेहरा, जानिए क्यों किया ऐसा
जस्‍ट नाउ
X