ताज़ा खबर
 

मोहम्मद अजहरुद्दीन की जादुई पारी से ऑस्ट्रेलिया को वर्ल्ड वार के बाद मिली थी सबसे बड़ी हार, मुश्किल समय में जड़ा था शतक

India vs Australia: ऑस्ट्रेलिया की कप्तानी मार्क टेलर के हाथों में थी। उस वक्त उनकी टीम में बेस्ट गेंदबाज नहीं थे। गेंदबाजी की कमान पॉल विल्सन और गैरी रॉबर्टसन के हाथों में थी। उनके साथ स्पिन विभाग में महान लेग स्पिनर शेन वॉर्न थे।

India vs Australia: मोहम्मद अजहरुद्दीन की उस टीम में सौरव गांगुली भी थे। (सोर्स- सोशल मीडिया)

ऑस्ट्रेलिया पर भारत की सबसे बड़ी टेस्ट जीत के बारे में बात की जाए तो लोग 2001 में हुए कोलकाता टेस्ट को याद करते हैं। उस मुकाबले में वीवीएस लक्ष्मण और राहुल द्रविड़ ने टीम इंडिया को जीत दिलाई थी। लक्ष्मण ने 281 और द्रविड़ ने 177 रन की पारी खेली थी। हालांकि, यह टेस्ट क्रिकेट में मजबूत ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सबसे बड़ी जीत नहीं है। आज यानी 21 मार्च से ठीक 22 साल पहले 1998 में ऑस्ट्रेलिया को द्वितीय विश्व युद्द के बाद सबसे बड़ी हार मिली थी। उसे भारत ने ही हराया था।

ऑस्ट्रेलिया की कप्तानी मार्क टेलर के हाथों में थी। उस वक्त उनकी टीम में बेस्ट गेंदबाज नहीं थे। गेंदबाजी की कमान पॉल विल्सन और गैरी रॉबर्टसन के हाथों में थी। उनके साथ स्पिन विभाग में महान लेग स्पिनर शेन वॉर्न थे। मोहम्मद अजहरुद्दीन की कप्तानी वाली टीम इंडिया ने सीरीज के पहले टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया को हराया था। दूसरा मुकाबला कोलकाता के ईडन गार्डन्स में खेला गया। टॉस जीतकर ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी का फैसला किया। उसने 233 रन बनाए। जवागल श्रीनाथ, सौरव गांगुली और अनिल कुंबले ने तीन-तीन विकेट लिए थे।
जब उल्टियों के बावजूद युवराज सिंह ने खेली थी मैराथन पारी, ‘मर भी जाऊं, लेकिन भारत वर्ल्ड चैंपियन बने’
भारत ने पहली पारी 5 विकेट पर 633 रन बनाकर घोषित की। शुरुआती पांच बल्लेबाजों ने अर्धशतक लगाए। इनमें वीवीएस लक्ष्मण, नवजोत सिंह सिद्धू, राहुल द्रविड़, सचिन तेंदुलकर और सौरव गांगुली शामिल थे। ओपनिंग करने उतरे लक्ष्मण ने 95 और सिद्धू ने 97 रन बनाए। जादुई पारी तो कप्तान अजहरुद्दीन ने खेली। उन्होंने नाबाद 163 रन बनाए। उन्होंने 246 गेंदों का सामना किया। इस दौरान 18 चौके और तीन छक्के लगाए।

दूसरी पारी में भी ऑस्ट्रेलियाई टीम का प्रदर्शन निराशाजनक रहा। पूरी टीम 181 रनों पर सिमट गई। भारत के लिए कुंबले ने 5 विकेट लिए। श्रीनाथ को तीन सफलता मिली। टीम इंडिया पारी और 219 रन से मैच जीत गई। यह वर्ल्ड वार के बाद ऑस्ट्रेलिया की सबसे बड़ी हार थी। इससे पहले वह 1938 में इंग्लैंड के खिलाफ पारी और 579 रन से हारा था। 1892 में इंग्लैंड ने उसे पारी और 230 रन और 1912 में पारी और 225 रन से हराया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories