ताज़ा खबर
 

जानिए किसने मोहम्मद अली से कहा- मैं तुम्हें एक ही मुक्के में स्टेडियम के बाहर फेंक दूंगा

मैं पच्चीस बरस का था और मुझे अच्छे से याद है कि हमने एक के बाद एक उनसे हाथ मिलाए थे। जब मेरी बारी आई तो मैंने उनसे शैडो बाक्सिंग (छद्म मुक्केबाजी) के एक सत्र का अनुरोध किया।

Author नई दिल्ली | June 5, 2016 2:37 AM
महान बॉक्सर मोहम्मद अली

भारतीयों को महान मुक्केबाज मोहम्मद अली के दीदार का मौका 1980 में मिला था जब उनके नुमाइशी मुकाबले को ‘ग्रेटेस्ट टू ग्रेटेस्ट’ कहा गया था। चूंकि उसी समय आपातकाल के बाद लोकसभा चुनाव में शर्मनाक हार झेलने वाली इंदिरा गांधी सत्ता में लौटी थी लिहाजा दूसरा ग्रेटेस्ट शब्द उनके लिए इस्तेमाल किया गया था। अली ने दिल्ली, मुंबई और चेन्नई में नुमाइशी मुकाबले खेले जब वे लंदन स्थित एनआरआइ उद्योगपति लार्ड स्वराज पॉल के बुलावे पर आए थे। लार्ड पॉल ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए कहा, ‘वे सही मायने में लीजेंड थे। भारत में दर्शक उन्हें देखकर रोमांचित हो उठे थे।’

दर्शकों से ज्यादा रोमांचित मुक्केबाज थे। उनमें से एक तमिलनाडु के रेंडोल्फ पीटर्स थे जिन्हें अली के साथ खेलने का मौका मिला था। पीटर्स ने कहा कि उन्हें अब तक याद है जब मैंने उन्हें शैडो बाक्सिंग के लिए कहा तो अली के चेहरे पर अचरज था। उन्होंने कहा कि मैं उस समय रेलवे का फेदरवेट चैंपियन था। पच्चीस बरस का था और मुझे अच्छे से याद है कि हमने एक के बाद एक उनसे हाथ मिलाए थे। जब मेरी बारी आई तो मैंने उनसे शैडो बाक्सिंग (छद्म मुक्केबाजी) के एक सत्र का अनुरोध किया। वे हैरान रह गए और कहा कि तुम इतने छोटे हो और मुझसे लड़ना चाहते हो। मैं एक हुक में तुम्हे स्टेडियम से बाहर फेंक दूंगा। उन्होंने कहा कि इस बात पर मैं मुस्कुरा दिया। नुमाइशी मुकाबले के बाद उन्होंने मजे के लिए कुछ स्थानीय मुक्केबाजों को बुलाया। मुझे भी बुलाया और मेरी इच्छा पूरी की। बाद में उन्होंने मुझे अपने दस्ताने भी दिए जो आज मेरे पास है।

अली के अंतिम संस्कार के कार्यक्रम की घोषणा बाद में की जाएगी। तीन बार के विश्व हैवीवेट चैंपियन और ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता अली को नागरिक अधिकारों के लिए लड़ने में सक्रिय भूमिका के लिए जाना जाता है। हाल के वर्षों में अली को कई बार अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। निमोनिया के कारण वह 2014 में अस्पताल में रहे जबकि 2015 में मूत्र संक्रमण के कारण उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App