India vs Pakistan: भारत पर जीत के बाद बोले पाकिस्तान के कोच मिकी आर्थर, क्रिकेट में होगी नए युग की शुरुआत- Mickey Arthur hailed Pakistan’s turnaround from their opening ICC Champions Trophy defeat to India as remarkable - Jansatta
ताज़ा खबर
 

India vs Pakistan: भारत पर जीत के बाद बोले पाकिस्तान के कोच मिकी आर्थर, क्रिकेट में होगी नए युग की शुरुआत

पाकिस्तान के मुख्य कोच मिकी आर्थर का मानना है कि जिस देश ने शीर्ष अंतरराष्ट्रीय टीमों के खिलाफ घरेलू सरजमीं पर लंबे समय से क्रिकेट नहीं खेला है उसके लिए 'अपने नायकों को पहचाने के लिए ' चैम्पियंस ट्राफी का खिताब जीतना जरूरी था।

Author लंदन | June 19, 2017 2:40 PM
पाकिस्तान के मुख्य कोच मिकी आर्थर

पाकिस्तान के मुख्य कोच मिकी आर्थर का मानना है कि जिस देश ने शीर्ष अंतरराष्ट्रीय टीमों के खिलाफ घरेलू सरजमीं पर लंबे समय से क्रिकेट नहीं खेला है उसके लिए ‘अपने नायकों को पहचाने के लिए ‘ चैम्पियंस ट्राफी का खिताब जीतना जरूरी था। दक्षिण अफ्रीका से ताल्लुक रखने वाले आर्थर को अपने कप्तान सरफराज अहमद की तरह उम्मीद है कि इस जीत से देश के क्रिकेट में नये युग की शुरूआत होगी। कोच ने मैच के बाद कहा,’मुझे लगता है कि इस जीत का बड़ा असर होगा। मैं यह उम्मीद करता हूं और मुझे यकीन है कि पाकिस्तान काफी खुश होगा क्योंकि वे इसके हकदार थे।

श्रीलंका की टीम बस पर 2009 में हमले के बाद से क्रिकेट खेलने वाले किसी बड़े देश ने पाकिस्तान का दौरा नहीं किया है और उसे अपने ‘घरेलू ‘ मैच देश से बाहर खेलने के लिए बाध्य होना पड़ा है। जिंबाब्वे एकमात्र देश है जिसने दो साल पहले पाकिस्तान का दौरा किया था। अंतरराष्ट्रीय करिअर केट परिषद के सितंबर में विश्व एकादश को पाकिस्तान भेजने की संभावना है और आर्थर ने उम्मीद जताई कि इससे भविष्य के दौरों का रास्ता साफ होगा।

उन्होंने कहा, ‘ ‘तीन ट्वेंटी20 मैचों के लिए सितंबर में विश्व एकादश के पाकिस्तान आने का कार्यक्रम है। इसलिए उम्मीद करते हैं कि इससे भविष्य के दौरों का रास्ता साफ होगा। हम सिर्फ उम्मीद कर सकते हैं।  आर्थर पांच मैकों पर दक्षिण अफ्रीका के कोच थे जब टीम को आईसीसी की विभिन्न प्रतियोगिताओं के सेमीफाइनल में हार का सामना करना पड़ा लेकिन उन्होंने कहा कि यह जीत उनके लिए नहीं है। आर्थर ने कहा, ‘ ‘निश्चित तौर पर यह मेरे और मेरे करियर के लिए नहीं है, यह उस ड्रेसिंग रूम में 15 अविश्वसनीय खिलाड़ियों का मामला है जिन्होंने पिछले एक साल से बेहतरीन प्रदर्शन किया है। यही मामला है।

उन्होंने कहा, ‘ ‘ईमानदारी से कहूं तो इस पर विश्वास नहीं होता। कुछ दिन पहले मैं किसी को बता रहा था कि दक्षिण अफ्रीका के साथ मैं पांच बार सेमीफाइनल में था लेकिन कभी हमारी टीम फाइनल में नहीं पहुंची। मैं पाकिस्तान के साथ एक बार फाइनल में पहुंचा और पदक जीता।  कोच ने कहा, ‘ ‘यह बेहतरीन है। लेकिन श्रेय खिलाड़ियों को जाता है। वे बेहतरीन थे और मेरा साथी कोचिंग स्टाफ और प्रबंधन टीम भी शानदार थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App