अजीम रफीक नस्लवाद मामले पर बढ़ा विवाद, अंग्रेज दिग्गज ने कहा- आखिर तक ‘लड़ाई’ लड़ेंगे; ECB ने लिया बड़ा एक्शन

अजीम रफीक के नस्लवाद मामले पर माइकल वॉन ने अपने ऊपर लगे आरोपों को खारिज किया है। इसके अलावा ईसीबी ने भी काउंटी क्लब यॉर्कशायर के खिलाफ बड़ा एक्शन लेते हुए प्रतिबंध लगा दिया है।

michael-vaughan-denies-all-allegations-on-him-for-azeem-rafiq-racism-dispute-ecb-takes-strong-action-against-yorkshire
माइकल वॉन और अजीम रफीक (सोर्स- स्काई स्पोर्ट्स)

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने खुलासा किया है कि यॉर्कशायर के पूर्व खिलाड़ी अजीम रफीक द्वारा उन पर नस्लवादी व्यवहार का आरोप लगाया गया है। उन्होंने हालांकि इन आरोपों का पूरी तरह खंडन करते हुए कहा कि वह इस सूची से अपना नाम हटाने के लिए आखिर तक ‘लड़ाई’ लड़ेंगे।

‘डेली टेलीग्राफ’ के कॉलम में वॉन ने स्वीकार किया कि यॉर्कशायर टीम में संस्थागत नस्लवाद के रफीक के आरोपों की जांच में जिस ‘पूर्व खिलाड़ी’ का जिक्र हो रहा था वह वही थे।

यॉर्कशायर की अजीम रफीक रिपोर्ट में कहा कि उन्होंने रफीक सहित एशियाई खिलाड़ियों के एक समूह से कहा, ‘‘इस समूह में आप जैसे बहुत खिलाड़ी है, हमें इसके बारे में कुछ करने की आवश्यकता है।’

यह कथित घटना तब हुई जब यॉर्कशायर 2009 में नॉटिंघमशर के खिलाफ एक मैच के दौरान मैदान पर उतरी थी। पेशेवर खिलाड़ी के तौर पर यह रफीक का पहला सत्र था।

उन्होंने कॉलम में लिखा, ‘‘ मैं पूरी तरह और स्पष्ट रूप से इनकार करता हूं कि मैंने कभी उन शब्दों का इस्तेमाल किया था। मेरे पास छिपाने के लिए कुछ भी नहीं है। ‘इस समूह’ शब्द का इस्तेमाल कभी नहीं हुआ था।’’

उन्होंने कहा, ‘‘10 साल पहले कहे गए शब्दों को याद करने की कोशिश करने वाला कोई भी व्यक्ति गलत होगा, लेकिन मैं इस बात पर अडिग हूं कि उन शब्दों का इस्तेमाल नहीं किया गया था। अगर रफीक का मानना है कि उस वक्त कुछ ऐसा कहा गया जिससे उन्हें परेशान किया जा सके तो यह पूरी तरह से उनका मानना है।’’

इंग्लैंड को 2005 में एशेज का खिताब दिलाने वाले इस कप्तान ने कहा कि वह अपनी बेगुनाही साबित करने के लिए ‘अंत तक लड़ेंगे‘।

T20 World Cup 2021: इंग्लैंड के अंपायर को ICC ने दी बड़ी सजा, इस कारण पूरे टूर्नामेंट से किया बाहर

इसके अलावा इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) ने यार्कशायर काउंटी को अंतरराष्ट्रीय मैचों की मेजबानी से प्रतिबंधित कर दिया है क्योंकि क्लब पूर्व खिलाड़ी अजीम रफीक के नस्लीय दुर्व्यवहार के आरोपों पर कार्रवाई करने में विफल रहा था।

स्वतंत्र जांच में खिलाड़ी के ये आरोप सही साबित हुए थे जिससे ईसीबी ने क्लब के रवैये को ‘घिनौना’ भी करार दिया। ईसीबी ने यह फैसला यार्कशायर के खिलाड़ी गैरी बैलेंस के अपने पूर्व साथी रफीक के खिलाफ नस्लीय गाली के उपयोग की बात स्वीकार करने के एक दिन बाद किया।

ईसीबी ने साथ ही बैलेंस को अनिश्चित समय के लिए इंग्लैंड के चयन से प्रतिबंधित कर दिया। दूसरी तरफ यार्कशायर के चेयरमैन रोजर हटन ने इंग्लिश काउंटी क्लब के खिलाफ नस्लवाद के आरोपों के विवाद पर अपने पद से इस्तीफा दे दिया।

हटन ने अपने फैसले के लिए क्लब के इस मामले में माफी मांगने से इनकार करने और इन दावों को स्वीकार करने की अनिच्छा का हवाला दिया। हटन ने शुक्रवार को कहा, ‘‘आज मैं तुरंत प्रभाव से यार्कशायर काउंटी क्रिकेट क्लब के चेयरमैन पद से इस्तीफा देने की घोषणा करता हूं।’’

पढें खेल समाचार (Khel News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट