scorecardresearch

झूलन को ‘क्रिकेट के मक्का’ में यादगार विदाई

लार्ड्स का ऐतिहासिक मैदान झूलन गोस्वामी की महिला क्रिकेट से विदाई का गवाह बन गया।

झूलन को ‘क्रिकेट के मक्का’ में यादगार विदाई
झूलन गोस्वामी। फाइल फोटो।

जिस मैदान पर खेलना हर क्रिकेटर का सपना होता है, उसी मैदान पर क्रिकेट जगत की सबसे सफल एकदिवसीय गेंदबाज झूलन गोस्वामी ने अपने संन्यास की पटकथा लिख डाली। उनके इस महान प्रयास को टीम इंडिया ने भी यादगार विदाई दी। तीन एकदिवसीय मैचों की शृंखला में इंग्लैंड को करारी मात देकर उस क्षण को यादगार बना दिया। दो दशक से भी अधिक समय के बाद भारत ने इंग्लैंड को उसी की धरती पर हराया है। यों तो ज्यादातर खिलाड़ी खेल को अलविदा कहने के लिए अपनी सरजमीं को चुनते हैं, लेकिन झूलन की सोच अलग रही। उन्हें लार्ड्स पर खेल को अलविदा कहना ज्यादा उपयुक्त लगा। किसी सौभाग्यशाली खिलाड़ी को ही ऐसा अवसर प्राप्त होता है।

प्रदर्शन खिलाड़ी की सफलता का मंत्र होता है। अच्छा प्रदर्शन उसे टीम में बनाए रखता है और करिअर को लंबा बनाने में सहायक होता है। खेल में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं। निराशा का जब दौर आता है तो प्रतिभा, संकल्प और जज्बे से वह अपने को निकालता है। करिअर आगे बढ़ता है तो उपलब्धियां जुड़ती जाती हैं। यही उपलब्धियां और प्रदर्शन संन्यास के समय उसकी महानता को तय करते हैं। ये उपलब्धियां जब किसी महिला क्रिकेटर से जुड़ी हो तो तो यह और भी दिलचस्प हो जाता है। फिटनेस और प्रदर्शन को बनाए रखकर दो दशक तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में बने रहना आसान नहीं।

झूलन के संन्यास के साथ भारतीय महिला क्रिकेट के एक युग का अंत हो गया। उनकी टक्कर की देश में कोई दूसरी खिलाड़ी रही तो वह थी मिताली राज। 2002 में झूलन गोस्वामी को ‘इंडियन कैप’ मिली थी। तब कप्तान अंजुम चोपड़ा थीं, लेकिन मिताली की कप्तानी में झूलन का गेंदबाजी का सफर उड़ान भरने लगा था। मिताली ने भी कुछ माह पहले अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहा है। दोनों का भारतीय क्रिकेट को ऊंचाइयों की तरफ ले जाने में विशेष योगदान रहा। मिताली ने जहां अपनी कलात्मक बल्लेबाजी और प्रदर्शन में निरंतरता बनाए रखकर दस हजार से ज्यादा अंतरराष्ट्रीय रन बनाए तो वहीं झूलन ने गेंदबाजी कौशल में प्रभाव छोड़ा। झूलन युवा खिलाड़ियों के लिए प्रेरणा रहीं। वह असंख्य खिलाड़ियों की आदर्श हैं।

अपनी लगन, मेहनत, जुझारूपन और दमदार प्रदर्शन से उन्होंने अपनी गेंदबाजी का सिक्का जमाया। करिअर के शुरू से अंत तक उनकी किफायती गेंदबाजी, गेंद को दोनों तरफ स्विंग (इन और आउट) कराने की कला से उन्होंने सफलता के कदम चूमे। लगभग दो दशक लंबे करिअर में उन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एकदिवसीय में 255 विकेट झटके। इससे उन्हें भारत ही नहीं, दुनिया की सर्वश्रेष्ठ तेज गेंदबाजों में पहचान मिली। वह किसी भी परिस्थिति और पिच पर अपना प्रभाव छोड़ सकती थीं। उनकी बेहतरीन और सधी हुई गेंदबाजी के चलते अक्सर बल्लेबाज रन नहीं बन पाने के दबाव में आकर विकेट गंवा देती थीं। साझेदारी को तोड़ने के लिए भी वह कप्तान की कसौटी पर हमेशा खरी उतरीं। तीनों प्रारूपों में कुल मिलाकर 355 विकेट उनकी सफलता का प्रमाण है।

इंग्लैंड की टीम उनके लिए हमेशा खास रही। छह जनवरी 2002 को 19 साल की उम्र में उन्होंने चेन्नई में इंग्लैंड के खिलाफ एकदिवसीय करिअर की शुुरुआत की। 14 जनवरी, 2002 को लखनऊ में उन्होंने टैस्ट करिअर की शुरुआत की। इस दौरान भी प्रतिद्वंद्वी टीम इंग्लैंड की ही थी। अब अंतरराष्ट्रीय करिअर का समापन भी इंग्लैंड के खिलाफ खेलकर किया। 2006 में टांटन टैस्ट में भारत की इंग्लैंड पर यादगार जीत में भी झूलन की भूमिका अहम रही थी। मैच में उन्होंने 78 रन पर दस विकेट लिए। ऐसा कमाल करने वाली वह सबसे युवा गेंदबाज बनीं।

खेल करिअर में खिलाड़ी कुछ सपने संजोता है। सभी पूरे नहीं होते। झूलन के लिए भी मायूसी के पल आए। दो बार टीम इंडिया महिला क्रिकेट विश्व कप के फाइनल में खेलीं और दोनों बार खिताब का सपना टूट गया। 2005 और 2017 के विश्व कप में फाइनल हारने वाली टीम की वह सदस्य रहीं। करिअर में खुशी के पल भी आए। 2002 में इंडियन कैप मिलने को वह अपना सबसे बड़ा पल मानती हैं। 2007 में वह ‘आइसीसी वूमेन क्रिकेट आफ द इयर’ बनीं। आस्ट्रेलिया की लीसा स्थालेकर और इंग्लैंड की क्लेयर टेलर जैसी धाकड़ खिलाड़ियों को इस दौड़ में उन्होंने पछाड़ा। 2008 में उन्हें अर्जुन अवार्ड मिला और 2012 में पद्मश्री। डायना एडुलजी के बाद पद्मश्री पाने वाली वह पहली महिला क्रिकेटर बनीं। 2017 में आस्ट्रेलिया की केथरीन फिट्जपैट्रिक के 180 विकेट के रेकार्ड को तोड़कर वह महिलाओं की नंबर वन गेंदबाज बनीं। विश्व कप में भी सर्वाधिक 43 विकेट उनके नाम हैं।

पढें खेल (Khel News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 28-09-2022 at 10:42:06 pm
अपडेट