ताज़ा खबर
 

रिटायरमेंट के बाद शूटर बनना चाहता है भारतीय क्रिकेटर, ओलंपिक में खेलना है सपना

मनोज तिवारी ने भारत के लिए 12 वनडे और 3 टी20 मुकाबले खेले हैं। उन्होंने अपना डेब्यू मैच 2008 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ब्रिस्बेन में खेला था। मनोज बंगाल के लिए 125 प्रथम श्रेणी मैच खेले हैं। इस दौरान 8965 रन बनाए हैं। उन्होंने 27 शतक और 37 अर्धशतक लगाए हैं।

मनोज तिवारी ने भारत के लिए एक शतक लगाया है। (सोर्स -सोशल मीडिया)

भारतीय क्रिकेटर मनोज तिवारी ने पेशेवर क्रिकेट संन्यास लेने के बाद क्या करेंगे इसे लेकर उन्होंने खुलासा किया है। वे सभी तरह के क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद 10 मीटर राइफल शूटिंग में अपना हाथ आजमाना चाहते हैं। उनका सपना है कि वे ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करें। मनोज ने भारत के लिए 12 वनडे और 3 टी20 मुकाबले खेले हैं। उन्होंने अपना डेब्यू मैच 2008 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ब्रिस्बेन में खेला था। मनोज बंगाल के लिए 125 प्रथम श्रेणी मैच खेले हैं। इस दौरान 8965 रन बनाए हैं। उन्होंने 27 शतक और 37 अर्धशतक लगाए हैं।

वे आईपीएल में कोलकाता नाइटराइर्स, दिल्ली कैपिटल्स, राइजिंग पुणे सुपरजाएंट्स और किंग्स इलेवन पंजाब की ओर से खेल चुके हैं। मनोज ने आउटलुक मैगजीन को दिए इंटरव्यू में कहा, ‘‘आप मुझे 10 मीटर राइफल शूटिंग में देख सकते हैं। मैं ओलंपिक में भी जा सकता हूं। यह कुछ है ऐसा जो मैं करना चाहता हूं। लेकिन अब आप जानते हैं कि किसी व्यक्ति पर और भी कई जिम्मेदारियां हमेशा होती हैं। यह आसान नहीं है, लेकिन देखता हूं कि मैं कैसे इस शेड्यूल से समय निकालता हूं।’’

वे हाल ही में रमजान की बधाई देने पर ट्रोल हो गए थे। मनोज ने इंस्टाग्राम और ट्विटर पर दुआ मांगते हुए एक तस्वीर शेयर की थी। इस फोटो को देखकर कई लोग उनकी तारीफ कर रहे थे, तो कुछ बुराई। मनोज ने भारत के लिए 2011 में चेन्नई के चेपक स्टेडियम पर वेस्टइंडीज के खिलाफ 104 रनों की नाबाद पारी खेली थी। इसके बाद 2012 में श्रीलंका के खिलाफ पल्लेकेले में 65 रन बनाए थे। मनोज ने अपना पिछला मुकाबला 2015 में जिम्बाब्वे के खिलाफ खेला था। उसके बाद उन्हें टीम इंडिया में फिर शामिल नहीं किया गया। मनोज ने जिस पारी में शतक लगाया था, उसमें वे रिटायर्ड हर्ट हो गए थे।

टी20 की बात करें तो उन्होंने 3 मैच में 15 की औसत से सिर्फ 15 रन बनाए। अपना पिछला टी20 मैच न्यूजीलैंड के खिलाफ चेन्नई में 2012 में खेला था। तीन मैच में उन्हें सिर्फ एक मुकाबले में बल्लेबाजी का मौका मिला था। हालांकि, आईपीएल में उनका प्रदर्शन बेहतरीन रहा है। एक समय वे कोलकाता नाइटराइडर्स के अहम बल्लेबाज थे। उन्होंने 98 मैच में 28.72 की औसत से 1695 रन बनाए। इस दौरान 7 अर्धशतक लगाए। 2011 सीजन में उन्होंने सबसे ज्यादा 359 रन बनाए। इस बार नीलामी में मनोज को किसी टीम ने नहीं खरीदा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 आईसीसी टेस्ट रैंकिंग: ऑस्ट्रेलिया ने छीनी टीम इंडिया से बादशाहत, भारत 4 साल बाद पहले स्थान से फिसला
2 पहला प्यार: सचिन तेंदुलकर ने 31 साल पहले 1 लाख में खरीदी थी मारुति 800, अब भी 2 करोड़ की BMW के संग करते हैं पार्क