ताज़ा खबर
 

मकरंद पाटिल: किसान के बेटे ने किया कमाल, एक ओवर में जड़ दिए छह छक्‍के

लगातार 6 छक्के जड़ने के बाद मकरंद पाटिल भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह और पूर्व क्रिकेटर रवि शास्त्री जैसे दिग्गज खिलाड़ियों की सूची में शामिल हो गए है।

Son of a farmer, Makarand Patil, Yuvraj Singh, Ravi Shastri, six sixes in an overमकरंद पाटिल: किसान के बेटे ने किया कमाल, एक ओवर में जड़ दिए 6 छक्‍के

क्रिकेट में जब भी 6 छक्के लगाने की बात होती है तो जेहन में सबसे पहले युवराज सिंह का नाम आता है। लेकिन हाल ही में एक खिलाड़ी ने 7 गेंदों में 7 छक्के लगाकर सनसनी मचा दी है। ये खिलाड़ी हैं मकरंद पाटिल जिन्होंने सात गेंदों में सात छक्के (एक ओवर में छह छक्के) लगाकर एक बड़ा रिकॉर्ड बनाया है। मकरंद पाटिल एक गरीब परिवार से ताल्लुक रखते हैं और उनके पिता किसान हैं।

सचिन तेंदुलकर जिमखाना ग्राउंड में खेले गए इस मैच में पाटिल ने आठवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए महज 26 गेंदों में 84 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेलते हुए अपनी टीम वीवा सुपरमार्केट को जीत दिलाई। पाटिल ने एफ डिवीजन टाइम्स शील्ड टूर्नामेंट में महिंद्रा लॉजिस्टिक्स के खिलाफ ये कारनामा किया। बता दें कि मकरंद वीवा सुपरमार्केट में बतौर सेल्समैन काम करते हैं।

इस उपलब्धि को हासिल करने के बाद पाटिल का फोन लगातार बज रहा है और बधाइयों का तांता लगा हुआ है। पाटिल ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “जब मैंने चौथा छक्का लगाया तो मुझे नही लग रहा था की में 1 ओवर में छह छक्के लगा पाऊंगा। टीम के साथी मेरा काफी उत्साह बढ़ा रहे थे और जब मैंने छठा छक्का लगाया तो मेरे साथी खिलाड़ी चिल्लाने लगे। उस समय मैं ऐसा महसूस कर रहा था जैसे कि मैं चांद पर हूं। इसके बाद जब मैंने सातवी गेंद पर भी छक्का जड़ दिया तो ऐसा लगा कि मैं एक दिन के लिए स्टार बन गया हूं।”

1 ओवर में लगातार 6 छक्के जड़ने के बाद मकरंद पाटिल भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह और पूर्व क्रिकेटर रवि शास्त्री जैसे दिग्गज खिलाड़ियों की सूची में शामिल हो गए है। युवराज ने भारत के लिए छह छक्के लगाए थे तो वहीं रवि शास्त्री ने घरेलू क्रिकेट में ये कारनामा किया था।

साइनाथ क्लब के खिलाड़ी ने कहा, “लोग अभी भी मुझसे मिलने आ रहे है। यह मेरे लिए अच्छा है। मैं अच्छा महसूस कर रहा हूं लेकिन आगे की जिंदगी आसान नही है। मैं आगे के लिए पहले से ज्यादा मेहनत करना चाहता हूं। मेरा पहला लक्ष्य है कि मैं भविष्य में मुबंई की टीम की ओर से खेलू।”

गौरतलब है कि विरार के रहने वाले मकरंद का जीवन काफी संघर्षशील रहा है। उनके परिवार की आय का मुख्य स्रोत खेती है। जब वह मैच नही खेल रहे होते है तो खेत में अपने पिता की मदद करते हैं। पाटिल को उम्मीद है कि एक दिन आएगा जब चीजें बेहतर हो जाएंगी। कंपनी ने उन्हें अपने रिकॉर्ड का जश्न मनाने के लिए एक दिन का अवकाश दिया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 IPL 2019: साल 2016 में पहली बार ‘मांकडिंग’ रन आउट हुए थे बटलर, तब बताई थी खुद की गलती
2 एमएस धोनी ने जाधव से क्‍यों कहा- घर वापस जाने का प्‍लान है? देखें वायरल वीडियो
3 IPl 2019: क्रिस गेल का एक और धमाका, टूर्नामेंट में सबसे तेज 4 हजार रन बनाने वाले बल्‍लेबाज
ये पढ़ा क्या?
X