ताज़ा खबर
 

देश के मुख्य कोच ने कहा- मीराबाई एशियाई खेलों में भाग नहीं लेना चाहिए, जानिए क्यों?

विश्व चैम्पियन भारोत्तोलक मीराबाई चानू का एशियाई खेलों में भाग लेने पर संशय है क्योंकि भारत के मुख्य कोच विजय शर्मा ने उनकी फिटनेस को देखते हुए कहा है कि जकार्ता में होने वाली प्रतियोगिता से उन्हें नाम वापस लेकर इस साल नवंबर में होने वाले ओलंपिक क्वालीफायर पर ध्यान देना चाहिए।

Author नई दिल्ली | August 6, 2018 7:57 PM
एथलीट मीराबाई चानू

विश्व चैम्पियन भारोत्तोलक मीराबाई चानू का एशियाई खेलों में भाग लेने पर संशय है क्योंकि भारत के मुख्य कोच विजय शर्मा ने उनकी फिटनेस को देखते हुए कहा है कि जकार्ता में होने वाली प्रतियोगिता से उन्हें नाम वापस लेकर इस साल नवंबर में होने वाले ओलंपिक क्वालीफायर पर ध्यान देना चाहिए।  मौजूदा विश्व चैम्पियन इस साल मई से पीठ के निचले हिस्से में दर्द की समस्या से जूझ रही है और उन्हें अभी भी पूरी तरह से भार उठाने का अभ्यास नहीं किया है। पिछले सप्ताह जब दर्द से आराम मिला तो मीराबाई ने मुंबई में अभ्यास करना शुरू किया लेकिन कल फिर से दर्द शुरू हो गया। विजय ने कहा, ‘‘कल फिर से दर्द शुरू हो गया और हम चोट के बढ़ने का खतरा मोल नहीं लेना चाहेंगे।

उन्होंने कहा, मैंने महासंघ को रिपोर्ट भेज दी है। अब उन्हें फैसला लेना है। मेरा विचार है कि इतने कम समय में भारी वजन उठाना ठीक नहीं है। ओलंपिक क्वालीफायर स्पर्धा में कम समय बचा है और वह एशियाई खेलों से ज्यादा जरूरी है।’’ अश्गाबात में एक नवंबर से विश्व चैम्पियनशिप शुरू होने वाली है जो इस साल ओलंपिक क्वालीफायर के लिए पहली प्रतियोगिता है। विजय ने कहा, ‘‘ यह एक दुर्लभ समस्या है , चिकित्सकों का कहना है कि उनके लिगामेंट में छोटी चोट है इसलिए वह एमआरआई और सिटी स्कैन में पता नहीं चल रहा है।’’ इस बीच आईडब्ल्यूएफ के सचिव सहदेव यादव ने कहा कि उनकी भागीदारी पर गुरुवार तक फैसला होगा।

मीराबाई इन खेलों में स्वर्ण पदक की प्रबल दावेदार है और उनके हटने से भारत को बड़ा झटका लगेगा।  मणिपुर की इस खिलाड़ी ने पिछले साल नवंबर में विश्व चैम्पियनशिप में 48 किलो भारवर्ग में 194 (85किग्रा+109किग्रा) का भार उठा कर स्वर्ण पदक अपने नाम किया था। उन्होंने राष्ट्रमंडल खेलों में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 196 किग्रा (86किग्रा+110किग्रा) वजन उठाकर स्वर्ण पदक जीता था। यह राष्ट्रीय रिकार्ड भी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App