कार्तिक त्यागी, नाम तो सुना होगा: चोट के बाद मुश्किल से हुई वापसी, पापा ने जमीन बेचकर करवाया इलाज; ऐसी है भारतीय पेसर की कहानी

कार्तिक त्यागी का सफर पिता के फार्म में अनाज की बोरियां ढोने से शुरू हुआ था। इस वक्त वे भारतीय क्रिकेट का उभरता हुआ सितारा हैं। जिस तरह पंजाब किंग्स के खिलाफ उन्होंने आखिरी ओवर में 1 रन देकर दो विकेट लिए और चार रन डिफेंड किए। उसके बाद हर कोई उनका मुरीद हो गया है।

kartik-tyagi-father-has-to-sell-land-for-treatment-of-his-injury-journey-started-from-farm-land-to-rajasthan-royals
कार्तिक त्यागी का यूपी की रणजी टीम के लिए 2017-18 में चयन हुआ, उसके बाद 11 महीने तक वे इंजरी से जूझे और आर्थिक तंगी से भी (Source: Twitter)

भारत के स्टार युवा पेसर कार्तिक त्यागी, नाम तो सुना होगा…। बिल्कुल सुना होगा और जिस तरह से आईपीएल 2021 के दूसरे चरण के तीसरे मुकाबले में उन्होंने अपनी टीम राजस्थान रॉयल्स को जीत दिलाई उसके बाद उन्हें हर कोई जान गया है। पिता के फार्म पर अनाज की बोरियां ढोने वाले कार्तिक आज भारतीय क्रिकेट का उभरता हुआ सितारा हैं।

20 वर्षीय इस गेंदबाज ने आईपीएल 2021 के 32वें मुकाबले में आखिरी ओवर फेंका और चार रन डिफेंड करके अपनी टीम राजस्थान रॉयल्स को जीत दिलाई। लेकिन फार्म से क्रिकेट के मैदान तक कार्तिक त्यागी का सफर आसान नहीं था।

वक्त था 2017-2018 रणजी ट्रॉफी का, कार्तिक के लिए सबकुछ ठीक चल रहा था। फिर किसी को क्या पता था कि एक नई परेशानी उनका इंतजार कर रही है। अच्छा परफॉर्मेंस यूपी की रणजी टीम में सिलेक्शन फिर इस तेज गेंदबाज को लग गई चोट। वो चोट ऐसी थी जिसने एक नहीं, दो नहीं, तीन नहीं बल्कि पूरे 11 महीने तक उन्हें परेशान किया।

पिता को बेचनी पड़ी जमीन…

कार्तिक की इंजरी के इलाज के लिए लगातार डॉक्टरों को बदलना पड़ता था। हापुड़ के निवासी कार्तिक को अक्सर दिल्ली इलाज के लिए जाना होता था। एक समय ऐसा आया जब उनके पास आने-जाने और इलाज के लिए पैसे नहीं बचे। उस वक्त कार्तिक के पिता योगेंद्र त्यागी ने अपनी जमीन बेचकर बेटे के करियर को चुना और उनका इलाज करवाया। 6 महीने तक जब कुछ हल नहीं मिला तब कार्तिक एनसीए (राष्ट्रीय क्रिकेट एकेडमी) पहुंचे। जिसके बाद उनकी अंडर-19 टीम में वापसी हुई। लेकिन ये 11 महीने उनके लिए आसान नहीं थे।

वापसी के बाद एक बार फिर कार्तिक ने कमाल करना शुरू कर दिया था। भारतीय टीम में उन्हें नेट बॉलर्स के तौर पर जगह मिली। इसके बाद आईपीएल में भी उन्हें राजस्थान रॉयल्स ने अपनी टीम में शामिल किया। आईपीएल में उन्होंने अब तक 12 मैचों में 12 विकेट लिए हैं। आईपीएल 2021 के पहले सत्र में कार्तिक एक बार फिर इंजरी के चलते बाहर थे।

अपनी इंजरी को लेकर उन्होंने क्रिकइंफो पर बताया कि,’आईपीएल जब इंडिया में हुआ तो मैं इंजर्ड था, लेकिन अब यह बहुत अच्छा हुआ मेरे और मेरे परिवार के लिए। मैंने सीनियर से बात की तो उन्होंने बताया कि यह मैच बदलता रहता है। मुझे विश्वास था कि मैं कर सकूंगा। मैं टीवी देखता रहता हूं, आप सभी को देखता रहता हूं, बस यहीं से मुझे अच्छा लगा।’

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर बने भारत के नेट बॉलर

भारतीय टीम ने 2020-21 में ऑस्ट्रेलिया का ऐतिहासिक दौरा किया था। जहां भारत को कई युवा खिलाड़ियों के प्रदर्शन की बदौलत जीत मिली थी। उसी भारतीय टीम में नेट बॉलर के तौर पर कार्तिक त्यागी को भी ले जाया गया था। जिसको लेकर उन्होंने कहा था कि,’मैं ​पीछे ऑस्‍ट्रेलिया के दौरे पर नेट गेदबाज़ के तौर पर गया तो मुझे बताया कि मैं गेंद बहुत पहले डाल रहा हूं, तो मैंने सीखा और गेंद को आगे डाला और यही मेरे हक में गई बात।’

यूपी के एक छोटे शहर हापुड़ में जन्मे कार्तिक त्यागी की जिंदगी शुरू जरूर कठिनाइयों के बीच हुई थी लेकिन आज ये सितारा चमकने लगा है। कार्तिक त्यागी को लेकर इंग्लैंड के बेन स्टोक्स ने कहा था कि उनका रनअप ब्रेट ली जैसा है और बॉल रिलीज इशांत शर्मा जैसा। यानी इस खिलाड़ी को लेकर क्रिकेट के गलियारों में चर्चाएं शुरू हो गई हैं। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि वो दिन दूर नहीं जब कार्तिक त्यागी भारतीय क्रिकेट टीम की अंतिम-11 में चमक बिखेरते दिखेंगे।

पढें खेल समाचार (Khel News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट