ताज़ा खबर
 

साई के टॉप्स प्रोजेक्ट में नेशनल चैंपियंस के नाम गायब, ओलंपियन ज्वाला गुट्टा ने बैडमिंटन में भी लगाया ‘नेपोटिज्म’ का आरोप

ज्वाला गुट्टा ने कुछ महीने पहले भी पुलेला गोपीचंद को निशाने पर लिया था। ज्वाला गुट्टा ने अपने बैडमिंटन करियर के दौरान कई मौके गंवाने के लिए गोपीचंद को जिम्मेदार ठहराया था।

Author Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: August 11, 2020 6:15 PM
Jwala Gutta Neptosimज्वाला गुट्टा ओलंपिक में दो बार भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं।

दो बार की ओलंपियन शटलर ज्वाला गुट्टा ने भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) की टारगेट ओलंपिक पोडियम स्कीम (टॉप्स) को लेकर सवाल खड़े किए हैं। दरअसल, हाल ही में साई ने टॉप्स के लिए 12 खेलों के 258 खिलाड़ियों का चयन किया। इनमें बैडमिंटन के 27 खिलाड़ी चुने गए हैं। हालांकि, इस सूची से मौजूदा नेशनल चैंपियन (डबल्स जूनियर) रितिका ठाकरे और सिमरन सिंघी का नाम गायब है। इन दोनों का चयन नहीं किये जाने को लेकर ही ज्वाला गुट्टा ने साई और उसके टॉप्स प्रोजेक्ट पर भड़की हुईं हैं।

ज्वाला गुट्टा ने इस संबंध में एक ट्वीट किया। ज्वाला गुट्टा का आरोप है कि टॉप्स प्रोजेक्ट के तहत खिलाड़ियों को चुनने में कुछ खास एकेडमीज के खिलाड़ियों को ही तरजीह दी जाती है। उन्होंने ट्वीट में लिखा, ‘वहीं कहानी…और नए पीड़ित, केवल इसलिए क्योंकि यह दोनों किसी एकेडमी से नहीं जुड़े हुए हैं। दुखद!’ बता दें कि इससे पहले भी ज्वाला गुट्टा कई मौकों पर खुलकर साई और बैडमिंटन में धांधली के आरोप लगा चुकीं हैं।

कुछ महीने पहले ही उन्होंने पुलेला गोपीचंद को निशाने पर लिया था। ज्वाला गुट्टा ने अपने बैडमिंटन करियर के दौरान कई मौके गंवाने के लिए गोपीचंद को जिम्मेदार ठहराया था। तब ज्वाला ने कहा था, ‘मुझे जो परेशानी भरा दौर देखना पड़ा, मानसिक पीड़ा से गुजरी… उसके लिए मैं उन्हें (गोपीचंद) जिम्मेदार ठहराती हूं। मैं मुखर हूं और मुझे इसके लिए बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़ी है।’

ज्वाला ने कहा था, ‘अगर आप गौर करें तो गोपी के खेलने के दिनों में दूसरे राज्यों के खिलाड़ी भी उभरते थे। एक समय था, जब देश के विभिन्न हिस्से से शीर्ष खिलाड़ी आते थे, लेकिन पिछले 10-12 साल से केवल हैदराबाद के खिलाड़ी या तेलुगू खिलाड़ी ही आगे बढ़ते दिखाई देते हैं। यदि कोई खिलाड़ी एक विशेष एकेडमी से है, तभी उसे मान्यता मिलेगी।’

बता दें कि रितिका ठाकरे और सिमरन सिंघी का हालिया प्रदर्शन टॉप्स में चुने गए बैडमिंटन खिलाड़ियों से बेहतर रहा है। दोनों खिलाड़ी जूनियर और सब-जूनियर लेवल पर तीन बार रनरअप रह चुकीं हैं। दोनों एशियन बैडमिंटन चैंपियनशिप में तीन बार भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं। काबिलेगौर है कि ये दोनों राज्य स्तर पर पिछले पांच साल से अजेय हैं।

रितिका ठाकरे और सिमरन सिंघी को महिला डबल्स में भी आइवरी कॉस्ट इंटरनेशनल, मॉरीशस इंटरनेशनल और इजिप्ट इंटरनेशनल में उभरते हुए खिलाड़ी का खिताब मिला हुआ है। दोनों सैयद मोदी इंटरनेशनल में क्वार्टर फाइनल तक का सफर तय कर चुकी हैं। इसके अलावा दोनों के नाम कई ऑल इंडिया टाइटल भी दर्ज हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 IPL 2020: रोहित शर्मा के निशाने पर MS Dhoni का यह खास रिकॉर्ड, विराट कोहली की भी क्रिस गेल को पीछे छोड़ने पर नजर
2 सुरेश रैना को भारी पड़ा अपने हाथों पर बेटे-बेटी और पत्नी का टैटू बनवाना, जानिए लोग क्यों कर रहे ट्रोल
3 मनोज तिवारी ने रिया चक्रवर्ती पर कसा तंज, सुशांत सिंह की मौत पर साथी क्रिकेटरों की चुप्पी पर भी उठाए सवाल
IPL 2020 LIVE
X