ताज़ा खबर
 

कहां रह गए पीछे

भारत की पदक संख्या पर निगाह डालें तो उसके लिए सबसे बढ़िया 2012 का लंदन ओलंपिक रहा है। इसमें उसने दो रजत और चार कांस्य के साथ कुल छह पदक अपने नाम किए।

Olympics 2020भारत की स्टार मुक्केबाज एम सी मैरी कॉम।

सौ साल में भारत के खाते में कुल 28 ओलंपिक पदक आए हैं। सवा सौ करोड़ की जनसंख्या और पांच ट्रिलियन डॉलर के आर्थिक लक्ष्य को पूरा करने के लिए प्रयासरत भारत के खाते में महज नौ स्वर्ण पदक हैं। यह खेल महाशक्ति बनने के हमारे सपने को सवालों के घेरे में लाता है। हर ओलंपिक के बाद यह सवाल पूछा जाता है कि आखिर हम कहां पीछे रह गए।

2016 ओलंपिक के बाद खेलों को हर युवा तक पहुंचाने के लिए काफी काम किया गया। इसका परिणाम तोक्यो ओलंपिक में देखा जा सकता है। लेकिन एक सवाल है जिसका जवाब भारतीय ओलंपिक संघ को हर हाल में ढूंढ़ना चाहिए। चीन और ब्रिटेन जैसे देशों ने ऐसा क्या किया जिससे उनके पदकों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इन अमीर देश का तमगा देकर अपना पीछा छुड़ाने की कोशिश में लगे खेल प्रशासकों को जमैका, केन्या, थाईलैंड और ईथोपिया जैसे देशों से सीख लेने की भी जरूरत है। इन्होंने कुछ खेलों पर ध्यान देकर ही अपने पदकों की संख्या को लगातार बढ़ाया है।

भारत की पदक संख्या पर निगाह डालें तो उसके लिए सबसे बढ़िया 2012 का लंदन ओलंपिक रहा है। इसमें उसने दो रजत और चार कांस्य के साथ कुल छह पदक अपने नाम किए। 2016 ओलंपिक से पहले हर जगह इसकी चर्चा थी कि भारत इस बार लंदन ओलंपिक की पदक संख्या को पार कर लेगा। हालांकि हालात क्या हुए यह हमारे सामने है। वहीं केन्या ने 1956 में ओलंपिक में भाग लेना शुरू किया। पिछले तीन ओलंपिक यानी 2008, 2012 और 2016 में उसने 42 पदक जीते।

हालांकि इस देश के पास खेलों पर खर्च करने के लिए बहुत पैसे नहीं हैं। शायद इसलिए उसने उन खेलों पर ध्यान लगाया जहां कम खर्च में बेहतर परिणाम मिल सकता है। उसने एथलेटिक्स में कुल 96 पदक जीते हैं। इनमें 30 स्वर्ण हैं। मुक्केबाजी में उसके पास सात पदक हैं। यानी उसने सिर्फ दो खेलों के सहारे ओलंपिक से 103 पदक झटक लिए।

कमोबेश यही हाल इथियोपिया, थाईलैंड और उज्बेकिस्तान के हैं। इन्होंने कुछ खेलों पर ध्यान लगाकर बड़ी संख्या में पदक हासिल किए। भारत को भी इसी रणनीति के तरह कुछ ऐसे खेलों पर ध्यान देने की जरूरत है जो ओलंपिक में पदक के मामले में बड़ी हिस्सेदारी रखता हो।

Next Stories
1 पदक से बड़ा साहस
2 जानकी, साइकल और तिरंगा
3 हम और हमारा दमखम
यह पढ़ा क्या?
X