ताज़ा खबर
 

अभ्यास मैच: इशांत का कहर, लेकिन नहीं चला विराट और रोहित का बल्ला

तेज गेंदबाज इशांत शर्मा ने टेस्ट श्रृंखला से पहले अपनी पुख्ता तैयारियों का अच्छा सबूत पेश करते हुए यहां श्रीलंका बोर्ड अध्यक्ष एकादश के शीर्ष क्रम..

Author August 8, 2015 12:42 PM
ईशांत शर्मा ने कुल सात ओवर में 23 रन देकर पांच विकेट हासिल किये।

तेज गेंदबाज इशांत शर्मा ने टेस्ट श्रृंखला से पहले अपनी पुख्ता तैयारियों का अच्छा सबूत पेश करते हुए यहां श्रीलंका बोर्ड अध्यक्ष एकादश के शीर्ष क्रम को बुरी तरह झकझोर दिया जिससे भारत ने तीन दिवसीय अभ्यास मैच पर दूसरे दिन ही अपना शिकंजा कस दिया।

इशांत ने अपने पहले स्पैल में चार ओवर में पांच रन देकर पांच विकेट लिये। दिल्ली के इस तेज गेंदबाज ने कुल सात ओवर में 23 रन देकर पांच विकेट हासिल किये। रविचंद्रन अश्विन और वरूण आरोन ने भी दो-दो विकेट हासिल किये जिससे भारत ने श्रीलंकाई टीम को 121 रन पर ढेर करके 230 रन की बड़ी बढ़त हासिल की।

भारत ने अपनी पहली पारी में अंजिक्य रहाणे के 109 रन की मदद से 351 रन बनाये थे। बल्लेबाजों को अभ्यास दिलाने के लिये विराट कोहली ने फॉलोआन देने के बजाय रोहित शर्मा के साथ खुद पारी का आगाज किया लेकिन ये दोनों फिर से नाकाम रहे। भारत ने दूसरे दिन का खेल समाप्त होने तक तीन विकेट पर 112 रन बनाये हैं और उसकी कुल बढ़त 342 रन की हो गयी है। स्टंप उखड़ने के समय के एल राहुल 47 और चेतेश्वर पुजारा 31 रन पर खेल रहे थे। इन दोनों ने चौथे विकेट के लिये 84 रन की अटूट साझेदारी की है।

कोहली पहली पारी में भी केवल नौ गेंद का सामना करके आठ रन बनाकर आउट हो गये थे। वह पारी का आगाज करने के लिये उतरे लेकिन केवल 34 गेंदों का सामना करने और 18 रन बनाने के बाद कासुन रजीता की गेंद पर कैच देकर पवेलियन लौट गये। भारत को पहला झटका हालांकि रोहित के रूप में लगा जिनकी खराब फॉर्म बदस्तूर जारी है।

पहली पारी में सात रन बनाने वाले रोहित दूसरी पारी में आठ रन ही बना पाये। उन्हें विश्व फर्नांडो ने पगबाधा आउट किया। बल्लेबाजी अभ्यास के लिहाज से विकेटकीपर रिद्धिमान साहा को तीसरे नंबर पर उतारा गया लेकिन वह इसका फायदा नहीं उठा पाये। फर्नांडो ने अपने अगले ओवर में उन्हें भी पगबाधा आउट करके स्कोर तीन विकेट पर 28 रन दिया।

राहुल और पुजारा ने यहां से जिम्मेदारी संभाली। इन दोनों में से पुजारा को शुरू में रन बनाने के लिये संघर्ष करना पड़ा और एक समय उनके नाम पर 33 गेंदों पर एक रन दर्ज था। टेस्ट एकादश में जगह पक्की नहीं होने के कारण दबाव में खेल रहे इस बल्लेबा