ताज़ा खबर
 

IPL: जब मैदान पर भिड़ गए थे सौरव गांगुली और शेन वॉर्न, दादा पर टॉस के लिए इतंजार कराने का लगा था आरोप

यूसुफ पठान की गेंद पर ग्रीम स्मिथ ने गांगुली का कैच ले लिया। गांगुली क्रीज से नहीं हटे। उन्होंने मैदानी अंपायर को थर्ड अंपायर से सलाह लेने के लिए कहा। मैदान पर खड़े अंपायर जीए प्रतापकुमार ने थर्ड अंपायर के पास फैसले को भेज दिया। थर्ड अंपायर असद रउफ ने गांगुली को नॉटआउट करार दे दिया। इस पर राजस्थान के कप्तान शेन वॉर्न भड़क गए।

ipl, Sourav Ganguly,Shane Warne, Ganguly, bcci, kkr, rrआईपीएल के पहले सीजन में सौरव गांगुली कोलकाता और शेन वॉर्न राजस्थान के कप्तान थे। (सोर्स – सोशल मीडिया)

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में विभिन्न विवादों और झगड़ों का इतिहास रहा है। टूर्नामेंट के इतिहास में पहली बड़ी ऐसी घटना हुई थी जिसमें कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) और राजस्थान रॉयल्स (RR) के कप्तान सौरव गांगुली और शेन वार्न शामिल थे। केकेआर को 197 रनों का लक्ष्य मिला था। स्वप्निल असनोडकर और यूसुफ पठान ने अर्धशतकीय पारी खेली थी। कोलकाता की टीम 13वें ओवर में 3 विकेट पर 106 रन बना चुकी थी। गांगुली और डेविड हसी ने बड़े-बड़े शॉट लगाने शुरू कर दिए थे।

13वें ओवर की आखिरी गेंद यूसुफ पठान की गेंद पर ग्रीम स्मिथ ने गांगुली का कैच ले लिया। राजस्थान के खिलाड़ी जश्न मनाने लगे। गांगुली क्रीज से नहीं हटे। उन्होंने मैदानी अंपायर को थर्ड अंपायर से सलाह लेने के लिए कहा। मैदान पर खड़े अंपायर जीए प्रतापकुमार ने थर्ड अंपायर के पास फैसले को भेज दिया। थर्ड अंपायर असद रउफ ने गांगुली को नॉटआउट करार दे दिया। इस पर राजस्थान के कप्तान शेन वॉर्न भड़क गए। वे स्पिरिट ऑफ द गेम की दुहाई देने लगे। वॉर्नर ने गांगुली से कहा, ‘‘न्याय आपको मिलेगा, सौरव। न्याय होकर रहेगा।’’ स्टंप माइक्रोफोन ने वार्न के शब्दों को पकड़ लिया।

विवाद यहीं खत्म नहीं हुआ। मैच के बाद वॉर्न ने गांगुली के खिलाफ मैच रेफरी फारूख इंजीनियर से शिकायत दर्ज कराई। इसमें यह भी उल्लेख किया गया था कि गांगुली ने स्पष्ट रूप से वॉर्न और उनकी टीम को टॉस से पहले इंतजार करवाया था। ऐसा सात साल पहले स्टीव वॉ के खिलाफ भी हुआ था। वॉर्न ने मैच के बाद गु्स्से में कहा था, ‘‘मैं शुरू में निराश था। बल्लेबाजी के लिए हमें पांच मिनट तक गर्मी में इंतजार करना पड़ा। वे कहीं भी दिखाई नहीं दे रहे थे।’’

इसके बाद गांगुली भी वॉर्न पर बरसे थे। उन्होंने कहा, ‘‘क्या खेल की भावना की शिकायत एक छोड़े हुए कैच के लिए की गई है। हमें सिर्फ यह समझने के लिए वार्न के करियर को देखने की जरूरत है कि उन्हें यह सिखाने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है कि खेल की भावना क्या है। मैं सिर्फ उस बात पर हंसना चाहता हूं जो वॉर्न कह रहे हैं। उन्हें खेल की भावना के बारे में बात नहीं करनी चाहिए। मैंने अंपायर से कहा था कि कैच ठीक से नहीं लिया गया है और इसके लिए थर्ड अंपायर को रेफर कीजिए।’’ दोनों खिलाड़ियों पर मैच फीस का 10% जुर्माना लगाया गया था और अंपायर प्रताप कुमार को एक मैच के लिए सस्पेंड कर दिया गया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 इशांत शर्मा के पिता घर चलाने के लिए उठाते थे 2 टन का AC, 6 महीने की कमाई में बिताते थे पूरा साल
2 RR IPL Team 2020 Players List: 12 साल बाद चैंपियन बनने पर राजस्थान रॉयल्स की नजर, ये है पूरी टीम
3 LOVE STORY: प्यार ने भुवनेश्वर कुमार को बना दिया स्विंग गेंदबाज, घरवालों से पहले गर्लफ्रेंड ने लिया था इंटरव्यू
यह पढ़ा क्या?
X