ताज़ा खबर
 

IPL 2020: टीमें यूएई में 6 दिन के क्वारंटीन के लिए राजी, लेकिन टीम बस में सफर नहीं करेगा परिवार; खिलाड़ी ने मांगी गोल्फ खेलने की मंजूरी

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने एसओपी में यह भी कहा है कि खिलाड़ियों या कर्मचारियों द्वारा किसी भी जैव-सुरक्षित प्रोटोकॉल का उल्लंघन आईपीएल की आचार संहिता के नियमों के तहत दंडनीय होगा।

Author Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: August 6, 2020 9:41 AM

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की टीमें यूएई पहुंचने पर छह दिन के क्वारंटीन पीरियड का पालन करने के लिए तैयार हैं। बुधवार को आईपीएल टीम मालिकों की बैठक में यह निर्णय लिया गया। आईपीएल फ्रेंचाइजी के एक पदाधिकारी ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “हम स्वास्थ्य के मामले में चांस नहीं ले सकते है। टीम के सदस्य छह दिनों के क्वांरटीन अवधि का पालन करेंगे। दुबई सरकार के स्वास्थ्य प्रोटोकॉल के अनुसार, वहां पहुंचने के बाद 96 घंटे के भीतर एक पीसीआर टेस्ट होगा। यदि कोई पॉजिटिव पाया जाता है तो उसे 14 दिन के लिए क्वारंटीन किया जाएगा।

पदाधिकारी ने बताया, इसके अलावा अपने मोबाइल में ALHOSN ऐप डाउनलोड करना होगा। यह यूएई(संयुक्त अरब अमीरात) में कोविड-19 टेस्टिंग के लिए आधिकारिक डिजिटल प्लेटफॉर्म है और जरूरी भी है। सभी टीमों ने 20 अगस्त के बाद दुबई के लिए रवाना होने का फैसला किया है। बता दें कि आईपीएल फ्रैंचाइचजीस पहले 6 दिन के बजाय 3 दिन के क्वारंटीन पीरियड की मांग कर रही थीं।

वहीं, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने आईपीएल 2020 के लिए जारी अपनी मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) में कहा है कि खिलाड़ियों का परिवार और सपोर्ट स्टॉफ उनके साथ जुड़ सकते हैं, लेकिन उन्हें टीम बस में सफर करने की इजाजत नहीं होगी। परिवार को बायो-सिक्योर बबल से निकलने की भी इजाजत नहीं मिलेगी। समाचार एजेंसी एएनआई ने बताया कि टीमों को भेजे गए 16 पेज के दस्तावेज में कहा गया है, प्रशिक्षण और मैचों के लिए परिवारों को एक ही वाहन में यात्रा करने की अनुमति नहीं है।

एसओपी में बीसीसीआई ने सभी टीमों से यह भी कहा है कि टॉस के समय कप्तान प्लेइंग इलेवन की हार्ड कॉपी साथ में रखने के बजाय इलेक्ट्रॉनिक टीम शीट का इस्तेमाल करें। बोर्ड ने सभी टीमों को मैचों के दौरान खाली स्टैंड का इस्तेमाल करने का भी सुझाव दिया है ताकि सोशल डिस्टेंसिंग बनी रहे। वहीं वेन्यू क्रिकेट ऑपरेशन टीमों को सामान्य ड्रेसिंग रूम से अतिरिक्त उपयुक्त क्षेत्रों का इस्तेमाल करने पर विचार करना चाहिए।

बीसीसीआई ने एसओपी में यह भी कहा है कि खिलाड़ियों या कर्मचारियों द्वारा किसी भी जैव-सुरक्षित प्रोटोकॉल का उल्लंघन आईपीएल की आचार संहिता के नियमों के तहत दंडनीय होगा। एसओपी यह भी सिफारिश करता है कि जब फिजियो और मालिश करने वालों खिलाड़ियों के संपर्क में आने की आवश्यकता हो, तो उन्हें पीपीई किट पहननी चाहिए। खिलाड़ियों और मैच अधिकारियों को मैच के बाद और होटल लौटने पर स्नान करने की सलाह भी दी गई है।

टूर्नामेंट में हिस्सा लेने वाले सभी खिलाड़ियों को जैव-सुरक्षित बबल में प्रवेश करने से पहले कोविड-19 के पांच टेस्ट से गुजरना होगा। बबल में प्रवेश करने के बाद, खिलाड़ियों और सहायक कर्मचारियों को हर 5वें दिन टेस्ट होगा। दो सफल COVID-19 पीसीआर टेस्ट के बाद खिलाड़ियों को यूएई में घूमने की मंजूरी दी जाएगी। फिर उन्हें होटलों में रखा जाएगा और वे 6 दिन के लिए क्वारंटीन रहेंगे। इस दौरान उन्हें कोविड-19 के तीन और परीक्षणों से गुजरना होगा।

क्वारेंटाइन के दौरान, खिलाड़ियों को टीम के अन्य सदस्यों के साथ बातचीत करने की अनुमति भी नहीं रहेगी। टीमें अलग-अलग होटलों में ठहरेंगी। चूंकि यह एक लंबा टूर्नामेंट है, इसलिए खिलाड़ियों ने गोल्फ खेलने के अलावा टीम और परिवार के साथ डिनर करने देने की मंजूरी मांगी है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 फुटबॉल दिल्ली: सपने बड़े, मुश्किल राह
2 कोरोना कालः टेनिस में खेलने का विवाद
3 उपलब्धिः रफ्तार के साथ ब्रॉड 500 पार
ये पढ़ा क्या?
X