IPL: दिल्ली और इंदौर के बाद अब पुणे में सट्टेबाजी रैकेट का भंड़ाफोड़; एक करोड़ की नकदी और मोबाइल फोन बरामद, 2 गिरफ्तार

यूएई में आईपीएल 2021 का दूसरा चरण शुरू होने के बाद से भारत में सट्टेबाजी और गिरफ्तारी का यह तीसरा मामला है। इससे पहले पुलिस ने मध्य प्रदेश के इंदौर और राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली मेंआईपीएल मैचों में सट्टा लगाने वाले रैकेटों का भंडाफोड़ किया था।

police recovered more than Rs 92 lakh cash launched search more persons involved in racket
पुलिस ने आरोपियों के पास से 92 लाख रुपये से ज्यादा की नकदी बरामद की है। सट्टेबाजी रैकेट में शामिल अन्य लोगों की तलाश जारी है। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

दिल्ली और इंदौर के बाद अब पुणे में आईपीएल सट्टेबाजी के एक रैकेट का भंडाफोड़ हुआ है। पुणे पुलिस के आयुक्त अमिताभ गुप्ता के बयान के मुताबिक, पुणे पुलिस ने दुबई में चल रहे इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2021 के मुकाबलों में सट्टेबाजी करने और सट्टा लगाने के आरोप में कई जगहों पर छापेमारी की और दो लोगों को गिरफ्तार किया। दोनों के पास से सामूहिक रूप से लगभग एक करोड़ की नकदी और मोबाइल फोन बरामद किए गए हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दोनों की पहचान रास्ता पेठ स्थित त्रिमूर्ति सोसायटी के गणेश भिवराज भूटाडा (50) और मार्केट यार्ड के हाइड पार्क के अशोक भावरलाल जैन (48) के रूप में हुई है। पुणे पुलिस के बयान में कहा गया है, ‘आयुक्त अमिताभ गुप्ता को आईपीएल क्रिकेट मैचों पर ऑनलाइन सट्टेबाजी के अवैध संचालन के बारे में जानकारी मिली थी। इसके बाद उन्होंने उनके खिलाफ कार्रवाई का आदेश दिया।’

भूटाडा के पास से 92 लाख रुपए नकद और एक मोबाइल फोन मिला। उसके पास से नकदी गिनने वाली मशीन भी बरामद की गई। जिसकी अनुमानित कीमत करीब 65,000 रुपए है। अशोक भावरलाल जैन के पास से 51 हजार 700 रुपए नकद, सात मोबाइल फोन, लेटर पैड और मोबाइल स्टैंड बरामद किए गए। मोबाइल फोन, लेटर पैड और मोबाइल स्टैंड की अनुमानित कीमत करीब 7 हजार रुपए है।

दोनों के खिलाफ दो अलग-अलग मामले दर्ज किए गए हैं। भूटाडा के खिलाफ समर्थ और जैन के खिलाफ मार्केट यार्ड थाने में मामला दर्ज किया गया है। दोनों पर धोखाधड़ी, जालसाजी, जाली दस्तावेजों को असली के रूप में इस्तेमाल करने और जुए को अपराध बताने वाली कानून की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।

सट्टेबाजी रैकेट का भंडाफोड करने वाली कार्रवाई प्रियंका नारवारे (पुलिस उपायुक्त जोन 1) और भाग्यश्री नवताके (पुलिस उपायुक्त, साइबर अपराध प्रकोष्ठ) और पुणे पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) ने कई टीमों का गठन करके की थी। यूएई में आईपीएल 2021 का दूसरा चरण शुरू होने के बाद से भारत में सट्टेबाजी और गिरफ्तारी का यह तीसरा मामला है।

इससे पहले पिछले सप्ताह पुलिस ने मध्यप्रदेश के इंदौर में आईपीएल मैचों में सट्टा लगाने वाले एक रैकेट का भंडाफोड़ किया था और चार लोगों को गिरफ्तार किया था। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (एएसपी) अपराध शाखा गुरुप्रसाद पाराशर ने बताया था कि गुप्त सूचना पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने लसुदिया इलाके स्थित एक अपार्टमेंट में छापा मारा और चार लोगों को गिरफ्तार किया।

अधिकारी ने बताया था कि इंदौर और आसपास के इलाकों के लोग आरोपी पंकज राजपूत (25), विशाल गुप्ता (27), पीयूष मुकुट (25) और कपिल चौधरी (31) के जरिए ऑनलाइन सट्टेबाजी में लिप्त पाए गए थे। आरोपी एक अन्य सट्टेबाज रोहित बघेल से जुड़े हैं। पुलिस उसकी भी तलाश कर रही है।

उससे पहले दिल्ली पुलिस ने एक आईपीएल गैम्बलिंग रैकेट का भंडाफोड़ किया था। दिल्ली पुलिस ने राष्ट्रीय राजधानी के दक्षिणपूर्वी हिस्से बदरपुर से पांच लोगों को गिरफ्तार किया था। आरोपियों की पहचान बदरपुर निवासी आकाश (30), अहसान (30) और सुनीत कुमार सिन्हा (37), विनोद नगर निवासी मुकेश (42) और अमरोहा जिले के मोहम्मद शहजाद (32) के रूप में हुई थी।

पढें खेल समाचार (Khel News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट