scorecardresearch

पेस दोधारी तलवार जैसी है, समय के साथ सीख रहे उमरान मलिक, भारतीय दिग्गजों ने बताया SRH के गेंदबाज का भविष्य

उमरान मलिक एक आईपीएल सीजन में 20 या अधिक विकेट लेने वाले सबसे कम उम्र के भारतीय गेंदबाज बन गए है। उन्होंने 2017 के जसप्रीत बुमराह के रिकॉर्ड को तोड़ दिया।

मैथ्यू वेड का विकेट लेने के बाद खुशी मनाते उमरान मलिक। (फोटो- आईपीएल/पीटीआई)

सनराइजर्स हैदराबाद (SRH) के तेज गेंदबाज उमरान मलिक ने आईपीएल 2022 में 20 विकेट के आंकड़े को पार करके अपने छोटे से करियर बड़ी उपलब्धी हासिल की। उमरान मलिक आईपीएल 2022 में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले शीर्ष 5 गेंदबाजों में शामिल हो गए। वानखेड़े स्टेडियम में हैदराबाद के लिए महत्वपूर्ण मैच में मुंबई इंडियंस के खिलाफ उन्होंने 3 विकेट लिए और सिर्फ 23 रन दिए। वह अबतक 21 विकेट ले चुके हैं।

उमरान मलिक एक आईपीएल सीजन में 20 या अधिक विकेट लेने वाले सबसे कम उम्र के भारतीय गेंदबाज बन गए है। उन्होंने 2017 के जसप्रीत बुमराह के रिकॉर्ड को तोड़ दिया। उमरान आईपीएल 2022 में 20 विकेट के आंकड़े को पार करने वाले कगिसो रबाडा के बाद दूसरे तेज गेंदबाज भी बने। जम्मू-कश्मीर के इस तेज गेंदबाज की टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर प्रज्ञान ओझा और पार्थिव पटेल ने काफी सराहना की है। दोनों का कहा है कि पेस दधारी तलवार जैसी है, लेकिन उमरान समय के साथ सीख रहे हैं और भविष्य में डेथ ओवर्स के गेंदबाज बन जाएंगे।

पार्थिव ने कहा, ” अगर आप 150 की गति से गेंद डाल सकते हैं तो आपको वही करना चाहिए। 150 की गति से गेंद डालने वाले इतने गेंदबाज हैं नहीं। अगर यहां बात आज के मैच में उमरान मलिक की तो उन्हें कमबैक करना पता है। वह कमबैक बल्लेबाजों के आउट करके कर सकते हैं। उनकी लगातार एक ही कोशिश होती है कि मैं अटैकिंग लेंथ पर गेंद करूंगा, बाउंस करूंगा।”

पार्थिव ने आगे कहा, ” उमरान के गति है और वे लगातार अच्छा करते आ रहे हैं। पेस की बात करें तो यह दोधारी तलवार की तरह है। अगर सही जगह न गिरे तो आपको बहुत रन भी जाते हैं, जो आपको उमरान मलिक की गेंदबाजी में देखने को मिलता है। रन गए तो 50-55 जाते हैं। नहीं तो इस तरह का भी प्रदर्शन देखने को मिलता है।”

प्रज्ञान ओझा ने कहा, ” एक प्लेयर का आंकलन कैसे करते हैं कि वो मैच दर मैच कैसा प्रदर्शन कर रहा है। पहले जब वो गेंदबाजी करने आते थे तो गति तो उनके पास थी, लेकिन लेंथ सुधारने में थोड़ा समय लगा। समय के साथ समझ गए वो और उन्होंने जो लेंथ डाला उसकी वजह से उन्हें विकटें मिलीं। जो आप कह रहे थे कि बाउंसर उन्हें पता लगा गया कि उनकी गति इतनी है कि वो पेस से बिट कर सकते हैं।”

प्रज्ञान ओझा ने यह भी कहा, “बैट्समैन जैसे पुल शॉट खेलने जाते हैं या पेस न यूज करते हुए अपनी स्ट्रेथ यूज करने जाते हैं वहां फंस जाते हैं। इसीलिए वो विकेट लेने लगे और सफल होने लगे। इसके साथ अभी नए चैलेंज होंगे। नई उम्मीदें होंगी। इतना अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। विकेट ले रहे हैं और पार्टनरशिप तोड़ रहे हैं तो मुझे लगता है कि आगे चलकर उन्हें नया रोल मिलेगा वो है डेथ स्पेशलिस्ट कैसे बनना है।”

पढें खेल (Khel News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट