IPL 2022: CII के सबसे युवा अध्यक्ष रह चुके हैं लखनऊ टीम के मालिक संजीव गोयनका, आईपीएल में अधूरा काम पूरा करने पर है नजर

संजीव गोयनका ने आईपीएल फ्रैंचाइजी के लिए इतनी बड़ी बोली लगाने से पहले पूरा हिसाब-किताब लगा लिया था। अब उनकी नजर आईपीएल में अपना अधूरा काम पूरा करने पर है।

Sanjeev Goenka MS Dhoni RPS IPL 2022 IPL Auction IPL New Teams

दुनिया के सबसे घरेलू टी20 क्रिकेट टूर्नामेंट इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की लखनऊ फ्रैंचाइजी के लिए संजीव गोयनका (Sanjiv Goenka) ने 7090 करोड़ रुपए की बोली लगाकर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) और क्रिकेट जगत में हलचल पैदा कर दी है।

ऐसा पहली बार नहीं है, जब उन्होंने हलचल पैदा की है। संजीव गोयनका 2001 में कन्फेडरेशन ऑफ इंडियन इंडिस्ट्रीज (CII) के अध्यक्ष बने थे। तब वह इस संगठन के सबसे युवा अध्यक्ष बने थे। संजीव गोयनका देश के प्रमुख उद्योगपतियों में शुमार हैं। वह आईआईटी खड़गपुर में बोर्ड ऑफ गवर्नर के तौर पर भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं।

इसके अलावा वह प्रधानमंत्री व्यापार और उद्योग परिषद के सदस्य भी रहे हैं। उनका ग्रुप (आरपी- संजीव गोयनका ग्रुप) मुख्य रूप से 6 बड़े उद्योगों में कार्यरत है। ये 6 ग्रुप हैं- बिजली और प्राकृतिक संसाधन, मीडिया और मनोरंजन, शिक्षा और आईटी, सारेगामा इंडिया और फिलीप्स कार्बन ब्लैक हैं।

संजीव गोयनका के इस संगठन में 50 हजार से ज्यादा लोग काम करते हैं। उनके पास 4.3 बिलियन अमेरिकी डॉलर की संपत्ति है। उनके इस ग्रुप में लाखो शेयरहोल्डर भी हैं। 60 वर्षीय गोयनका RP-संजीव गोयनका ग्रुप के अध्यक्ष भी हैं। आरपीएसजी वेंचर्स लिमिटेड के प्रमुख कुछ समय के लिए पुणे टीम (राइजिंग पुणे सुपरजायंट) के मालिक भी रह चुके हैं।

क्रिकबज की खबर के मुताबिक, संजीव गोयनका ने आईपीएल फ्रैंचाइजी के लिए इतनी बड़ी बोली लगाने से पहले पूरा हिसाब-किताब लगा लिया था। अब उनकी नजर आईपीएल में अपना अधूरा काम पूरा करने पर है।

संजीव गोयनका ने कहा, ‘यह सिर्फ शुरुआत है। असली इरादा एक ऐसी टीम बनाना है जो टूर्नामेंट जीत सके। अगर आपको याद हो, राइजिंग पुणे सुपरजायंट 2017 का फाइनल मुंबई इंडियंस से हार गया था, इसलिए आईपीएल में हमारा कुछ अधूरा काम है।’

यह पूछने पर कि क्या आपने बिजनेस मॉडल के बारे में सोचा है? संजीव गोयनका ने कहा, ‘यह आसान है। आपको बीसीसीआई से जो मिलता है और जो आपको बीसीसीआई को देना होता है, उसके बीच के अंतर का आप भुगतान कर रहे हैं। मैं 7000 करोड़ रुपए में से शायद 10 साल में सिर्फ 3500 करोड़ रुपए ही चुकाऊंगा।’

उन्होंने कहा, ‘ऐसा इसलिए है, क्योंकि मुझे बीसीसीआई से प्रसारण अधिकारों से 3500 करोड़ रुपए मिलेंगे। अगले पांच साल में मुझे (बीसीसीआई से) और मिल सकता है। इसका नेट प्रेजेंट वैल्यू 2100 करोड़ रुपए है। इसका मतलब है कि मुझे 2100 करोड़ रुपए में एक आईपीएल टीम मिली है। बताओ यह अच्छा है या नहीं?’

टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत के दौरान संजीव गोयनका ने कहा, ‘हम घरेलू टीम के रूप में लखनऊ को हासिल करके खुश हैं, क्योंकि आरपीएसजी समूह के व्यावसायिक हित उत्तर प्रदेश में हैं।

उन्होंने कहा, ‘मैं लखनऊ को सिर्फ इसलिए नहीं चाहता था कि हमारे वहां व्यावसायिक हित हैं (बिजली वितरण और स्पेंसर की खुदरा श्रृंखला के रूप में), बल्कि इसलिए भी कि हम इसे वहां क्रिकेट में व्यापक रुचि का इस्तेमाल करने के अवसर के रूप में देखते हैं।

उन्होंने कहा, ‘फ्रैंचाइजी का नाम अभी तय नहीं हुआ है। हम नीलामी की रणनीति को अंतिम रूप देने से पहले बीसीसीआई की रिटेंशन नीति की घोषणा होने का इंतजार करेंगे।’ माना जा रहा कि मुख्य कोच की तलाश तुरंत शुरू होगी।

पढें खेल समाचार (Khel News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
बैंक या फोन से आधार नंबर जोड़ना है तो ध्‍यान रखें ये बातें, वरना साफ हो सकता है खाते में जमा पैसा
अपडेट