ताज़ा खबर
 

चोटिल होने के बावजूद राहुल तेवतिया जड़ चुके हैं सेंचुरी, पहले से ही है आखिरी 5 ओवर में तूफान मचाने की आदत

किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ शुरुआत में बल्लेबाजी करने में राहुल तेवतिया को काफी मुश्किल हो रही थी। गेंद उनके बल्ले पर नहीं आ रही थी। वह पहली 19 गेंद में केवल 8 रन ही बना पाए थे। लेकिन बाद में 12 गेंदों में 45 रन जड़ दिए।

RR vs KXIP Rahul Tewatia Rajasthan Royals IPL 2020किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ मैच में राहुल तेवतिया ने आखिरी ओवर में 5 छक्के लगाकर पासा पलट दिया।

राजस्थान रॉयल्स के राहुल तेवतिया कुछ दिन पहले तक सभी के लिए एक अनजान खिलाड़ी थे। हालांकि, किंग्स एलेवन पंजाब के साथ हुए मुकाबले में वे हीरो बनकर सामने आए। अब विश्व भर में क्रिकेट प्रशंसक उन्हें जानने लगे हैं। शेल्डन कॉटरेल के एक ओवर में 5 छक्के लगाने के बाद हर कोई उनका मुरीद हो गया।

वे सोशल मीडिया पर भी काफी लोकप्रिय हो गए हैं। पंजाब के खिलाफ मैच से पहले तक उनके इंस्टाग्राम पर केवल 22,000 फॉलोवर्स थे, जो अब बढ़कर 75,000 तक पहुंच गए हैं। हालांकि, इससे पहले भी वे कई बार अपनी बल्लेबाजी से ऐसे कारनामे कर चुके हैं। उनके परिवार और कोच को उन पर पूरा भरोसा था। पैर में चोट लगने के बावजूद राहुल एकबार शतक भी जड़ चुके हैं। तेवतिया पहले भी कई मौकों पर अपनी टीम को आखिरी पांच ओवरों में बेहतरीन बल्लेबाजी करके जिता चुके हैं।

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व विकेटकीपर और तेवतिया के कोच विजय यादव बताते हैं, ‘मुझे एक मैच याद है, जब राहुल के पैर में चोट लगी हुई थी। वह इनकम टैक्स टीम की ओर से खेल रहा था। चोट लगे होने के बावजूद उसने 60 गेंद में 100 रन बनाए थे। उसने खेलते समय अपना दर्द साइड कर दिया था। इतने दर्द के बाद भी उसने शानदार बल्लेबाजी की थी। उस दिन ही मुझे उसकी मानसिक दृढ़ता का अनुमान लग गया था।’

राहुल के चाचा धर्मवीर कहते हैं, ‘उसने पूरे जीवन ऐसे ही खेला है। अंतिम 5 ओवर में उसने कई बार ऐसी पारी खेली हुई है। उसके लिए ये कोई नई परिस्थिति नहीं थी। कई बार वह ऐसे मौकों पर सफल रहा है। इस बार भी वह सफल होकर ही पवेलियन लौटना चाहता था, वरना अगले 12 मैच उसे बेंच पर ही बैठना पड़ता। लेकिन राहुल ऐसा खिलाड़ी नहीं है, वह दबाव के आगे हार नहीं मानता।’

किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ शुरुआत में बल्लेबाजी करने में राहुल तेवतिया को काफी मुश्किल हो रही थी। गेंद उनके बल्ले पर नहीं आ रही थी। वह पहली 19 गेंद में केवल 8 रन ही बना पाए थे। इसके बाद सभी लोग उनकी काफी आलोचना कर रहे थे। लेकिन बाद में दमदार वापसी करते हुए 12 गेंदों में 45 रन जड़ दिए और अपनी टीम को जीत के करीब ला खड़ा किया।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सनराइजर्स ने रोका दिल्ली कैपिटल्स का विजय अभियान, हैदराबाद ने हासिल की सीजन की पहली जीत
2 सनराइजर्स हैदराबाद ने दिल्ली कैपिटल्स को 15 रन से हराया, राशिद खान ने 14 रन देकर झटके 3 विकेट
3 RCB की फील्डिंग को लेकर निराश हैं विराट कोहली, रोहित शर्मा बोले- कायम है हार्दिक पंड्या पर भरोसा
ये पढ़ा क्या?
X