ताज़ा खबर
 

कभी पेट पालने को बॉटलिंग प्लांट में करता था काम, MS Dhoni के भरोसे ने बनाया चेन्नई सुपरकिंग्स का फॉस्टेस्ट बॉलर

2017 में संजू सैमसन के कहने पर केएम आसिफ को दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम में बतौर नेट गेंदबाज शामिल किया गया। उन्होंने कोलकाता नाइटराइडर्स के लिए भी नेट्स में गेंदबाजी की। साल 2018 की आईपीएल नीलामी में उनकी लाटरी लग गई।

KM ASIF MS DHONIकेएम आसिफ आईपीएल 2020 में चेन्नई सुपरकिंग्स का हिस्सा हैं।

मेहनत का फल हमेशा मीठा होता है। इसका जीता जागता उदाहरण चेन्नई सुपर किंग्स के तेज गेंदबाज केएम आसिफ हैं। उनके संघर्ष की कहानी ऐसी है जिससे हमें जिंदगी में कुछ करने की प्रेरणा मिलती है। केएम आसिफ आईपीएल 2020 में चेन्नई सुपरकिंग्स का हिस्सा हैं। वह दुबई में हैं और अपने जलवा बिखरने को तैयार हैं। हालांकि, दो साल पहले तक वह पेट पालने के लिए दुबई के एक बॉटलिंग प्लांट में स्टोरकीपर की नौकरी करने को मजबूर थे। तब उन्होंने शायद ही सोचा होगा कि वह महेंद्र सिंह धोनी जैसे महान क्रिकेटर की कप्तानी में खेलेंगे। लेकिन अब यह सच्चाई है। साथ ही यह धोनी का उन पर भरोसा ही है कि आज वह चेन्नई सुपरकिंग्स के सबसे तेज गेंदबाज हैं।

ईएसपीएन क्रिकइंफो के मुताबिक, क्रिकेट केएम आसिफ का पहला प्यार था, लेकिन उनके और क्रिकेट के बीच गरीबी सौतन बनी हुई थी। पिता मजदूर थे। आसिफ के छोटे भाई की दिमागी हालत ठीक नहीं है। छोटी बहन ब्रेन इंजरी से लड़ रही है। ऐसी हालात में आसिफ परिवार का खर्चा चलाने वाले इकलौते व्यक्ति हैं। आर्थिक तंगी ने उन्हें पेय पदार्थ के बॉटलिंग संयंत्र में एक स्टोर कीपर के रूप में काम करने को मजबूर कर दिया। वे दुबई में सात अन्य साथियों के साथ एक ही कमरे में रहते थे। बीजू जॉर्ज आईपीएल में कई टीमों को फील्डिंग कोच तथा सहायक कोच के तौर पर सेवाएं दे चुके हैं। वह आसिफ से 2014 में मिले थे। आसिफ के चेन्नई सुपर किंग्स में पहुंचने में वही उनके मेंटोर भी रहे।

जॉर्ज ने ईएसपीएन क्रिकइंफो को बताया, ‘जब मैं आसिफ से मिला तो उनकी गेंद फेंकने की गति ने मुझे बहुत प्रभावित किया। आसिफ ने कोई ऐज-ग्रुप क्रिकेट नहीं खेला था। उनको अपने परिवार के लिए पैसे कमाने और क्रिकेट के बीच किसी एक को चुनना था। केरल में हुए गेंदबाजी ट्रायल में वह फेल हो गए थे।’ जॉर्ज ने इसके बाद दुबई में आसिफ को स्टोरकीपर की नौकरी दिला दी। उन्होंने आसिफ के वीजा और टिकट का भी इंतजाम कराया। आसिफ संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) चले गए, ताकि परिवार के लिए कुछ पैसे कमा सकें।

जॉर्ज ने बताया, ‘आसिफ दुबई चले तो गए लेकिन क्रिकेट को नहीं भूले। आसिफ को करीब एक लाख रुपये मिल रहे थे। आसिफ दुबई की गर्मी में एक कमरे में 7 लोगों के साथ रहते हुए अपने दिन काट रहे थे। हालांकि, वह अपने परिवार और क्रिकेट को बहुत मिस कर रहे थे। अप्रैल 2016 में पहली सेलरी मिलते ही वह भारत लौट आए।’

आसिफ को दुबई में ही पता चल गया था कि भारतीय बैंक आईडीबीआई ने ऑस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज जैफ थॉमसन के साथ तेजी गेंदबाजी के ट्रायल के लिए करार किया है। इस ट्रायल में जो गेंदबाज पास होगा उसे ग्लेन मैक्ग्रा की निगरानी में चेन्नई स्थित एमआरएफ पेस फाउंडेशन में ट्रेनिंग के लिए स्कॉलरशिप मिलेगी। आसिफ ने भारत आते ही वायनाड में ट्रायल दिया। उन्हें थॉमसन ने चुन लिया।

हालांकि, इसकी जानकारी जॉर्ज को नहीं थी। केरल के सिलेक्टर्स ने आसिफ को दिलासा दिया था कि अगले घरेलू टूर्नामेंट में उनको मौका मिलेगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। इसके बाद वह निराश होकर फिर दुबई चले गए। इस बार उन्होंने सोच लिया था कि वह क्रिकेट में अपना और समय बर्बाद नहीं करेंगे। दुबई में विजिट वीजा होने के कारण आसिफ के पास कम समय था। वहां नौकरी ढूंढने के दौरान उन्हें पता चला कि आईसीसी अकादमी में यूएई की नेशनल टीम के लिए ट्रायल हो रहे है।

आसिफ वहां पहुंचे और पंजीकरण कराया। उन्होंने अगले दिन लगातार 3 घंटे तक गेंदबाजी ट्रायल दिया। वहीं आसिफ की मुलाकात पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज आकिब जावेद से हुई। आकिब उस समय यूएई टीम के कोच भी थे। आसिफ का विजिटिंग वीजा कुछ दिनों में खत्म होने वाला था। उनके पास भारत लौटने के अलावा कोई चारा नहीं था।

आसिफ उसके बाद स्वदेश लौट आए। हालांकि, भारत आते ही उन्हें पता चला कि उनका चयन केरल की 2017-18 की सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी की टीम में हुआ है। उसके बाद आसिफ ने गोवा के खिलाफ टी20 में डेब्यू किया। उस मैच में लक्ष्मण शिवारामाकृष्णन कॉमेंटेटर थे। वह आसिफ की गेंदबाजी से बहुत प्रभावित हुए। उन्होंने आसिफ को चेन्नई सुपर किंग्स के गेंदबाजी ट्रायल के लिए भेजा। वह चुन लिए गए।

2017 में संजू सैमसन के कहने पर केएम आसिफ को दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम में बतौर नेट गेंदबाज शामिल किया गया। उन्होंने कोलकाता नाइटराइडर्स के लिए भी नेट्स में गेंदबाजी की। साल 2018 की आईपीएल नीलामी में उनकी लाटरी लग गई। चेन्नई सुपरकिंग्स ने उन्हें 40 लाख रुपए में खरीद लिया। उस साल चेन्नई के प्रमुख तेज गेंदबाज दीपक चाहर के चोटिल होने के बाद आसिफ को दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ खेलने का मौका मिला। आसिफ ने चेन्नई के लिए दो मैच खेले हैं। इसमें उनके नाम तीन विकेट हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पाकिस्तान के बुरी तरह हारने पर बिलबिलाए शोएब अख्तर, टीम को डरपोक और बाबर आजम को बता डाला ‘कन्फ्यूज कैप्टन’
2 टी20 में लगातार छठी सीरीज जीतने उतरेगा इंग्लैंड, पाकिस्तान की ‘इज्जत’ दांव पर
3 जब बीड़ी पीने के चक्कर में चप्पलों से हुई थी वीरेंद्र सहवाग की पिटाई, स्कूल जाने में भी बहुत पंगे करते थे वीरू
यह पढ़ा क्या?
X