ताज़ा खबर
 

IPL 2019: इन पांच कारणों की वजह से आईपीएल चैंपियन बनने की बड़ी दावेदार मानी जा रही है मुंबई इंडियंस

IPL 2019: शुक्रवार को क्वालीफायर-2 में दिल्ली का सामना अब चेन्नई सुपर किंग्स के साथ होगा और इसमें जीतने वाली टीम 12 मई को मुंबई इंडियंस के साथ फाइनल मैच खेलेगी।

IPL 2019: इस वजह से मुंबई बनेगा आईपीएल 2019 का चैंपियन। (source – IPL Ofiicial site)

IPL 2019: इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का 12वां संस्करण ख़त्म होने के कगार पर है। पहले क्वालीफायर में चेन्नई सुपर किंग्स को हराकर मुंबई इंडियंस फाइनल में पहुंच चुकी है। शुक्रवार को क्वालीफायर-2 में दिल्ली का सामना अब चेन्नई सुपर किंग्स के साथ होगा और इसमें जीतने वाली टीम 12 मई को मुंबई इंडियंस के साथ फाइनल मैच खेलेगी। दिल्ली ने प्लेऑफ राउंड के एलिमिनेटर मुकाबले में पूर्व विजेता सनराइजर्स हैदराबाद को मात दे क्वालीफायर-2 में जगह बनाई थी। ऐसे में फैंस मुंबई इंडियंस को इन पांच कारणों की वजह से इस ख़िताब का प्रबल दावेदार मान रहे हैं।

आईपीएल रिकॉर्ड –
मुंबई इंडियन का आईपीएल में रिकॉर्ड बहुत अच्छा रहा है। मुंबई 2013 में चैंपियन बना उसके बाद हर दूसरे साल उन्होंने ख़िताब जीता है।पिछले छह सीजन में मुंबई ने तीन ख़िताब जीते हैं। मुंबई ने 2013, 2015 और 2017 में ख़िताब अपने नाम किया है। इस हिसाब से वे 2019 में भी ख़िताब अपने नाम कर सकते हैं। मुंबई के मुकाबले चेन्नई ने पहले सीजन से अबतक हर साल प्लेऑफ के लिए क्वालीफाई किया है।लेकिन उन्होंने भी मात्र तीन ख़िताब जीते हैं।

चेन्नई के खिलाफ अच्छा रिकॉर्ड –
चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ मुंबई इंडियंस का रिकॉर्ड बेहद अच्छा है। दोनों टीमों ने अबतक 27 मैच खेले हैं जिसमें मुंबई ने 16 और चेन्नई ने 11 मैच जीते हैं। इतना ही नहीं मुंबई ने इस साल चेन्नई को तीनो मैच हराए हैं। चेन्नई को उनके घर में हराना लगभग नामुमकिन है। लेकिन मुंबई इंडियंस ने उन्हें इस साल दो बार उन्ही के घर में हराया है। ऐसा करने वाली मुंबई इकलौती टीम है।

युवा और अनुभवी खिलाड़ियों का मिश्रण –

खिताब की रेस में अब चेन्नई मुंबई और दिल्ली बचे हैं। अगर टीम के संतुलन और अनुभव की बात की जाए तो दिल्ली और चेन्नई के मुकाबले मुंबई की टीम ज्यादा मजबूत है। टीम में अच्छा सतुलन होने के साथ-साथ युवा और अनुभवी खिलाड़ियों का मिश्रण है। वहीं चेन्नई में ज्यादातर खिलाड़ी अनुभवी हैं तो दिल्ली युवा ब्रिगेड से भरी हुई है।

मजबूत मध्य क्रम –
चेन्नई और दिल्ली की तुलना में मुंबई के पास बेहद मजबूत मध्य क्रम है। पंड्या बंधुओं के अलावा मुंबई के पास कीरोन पोलार्ड जैसा विस्फोटक बल्लेबाज है। क्रुणाल पंड्या अच्छी ले में हैं और हार्दिक इस सीजन लगातार तेजी से रन बना रहे हैं। वहीं चेन्नई का मध्य क्रम पूरी तरह धोनी पर निर्भर करता है। जिन मैचों में धोनी नहीं खेले उन मैचों में चेन्नई को बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा है। वहीं दिल्ली कैपिटल की बल्लेबाज इस सीजन कुछ खास नहीं रही है। दिल्ली पूरी तरह अपने सलामी बल्लेबाज और कप्तान पर आश्रित है। इस साल कई मौकों पर दिल्ली का मध्य क्रम लड़खड़ाया है। ऋषभ पंत अच्छी बल्लेबाजी कर रहे हैं लेकिन अनुभव कम होने की वजह से वे कई बार गैरजिम्मेदाराना शॉट लगाकर टीम को मुसीबत में छोड़ गए हैं।

प्रतिभाशाली गेंदबाज –
बात की जाए गेंदबाजी की तो मुंबई के पास आईपीएल 2019 का सबसे अच्छा बोलिंग अटैक है। टीम के पास जहां लसिथ मलिंगा और जसप्रीत बुमराह जैसे डेथ के सबसे अच्छे गेंदबाज हैं। वहीं युवा राहुल चाहर लगातार अच्छा प्रदर्शन कर मुंबई को ब्रेक थ्रू दिला रहे हैं। इसके अलावा क्रुणाल और हार्दिक ने भी अबतक अच्छी गेंदबाजी की है। बैंच में उनके पास जयंत यादव जैसा स्पिनर है जिन्होंने मौका मिलने पर हर बार अच्छा प्रदर्शन किया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गंभीर ने विराट कोहली पर कसा तंज? बोले- लकी हैं आरसीबी के कप्तान…