ताज़ा खबर
 

आईओए ने सिंधु, साइना नेहवाल के माता पिता को साथ ले जाने का पक्ष लिया

भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) अध्यक्ष नरिंदर बत्रा का मानना है कि खेल मंत्रालय को स्टार शटलर पी वी सिंधु और साइना नेहवाल के माता - पिता को गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में उनके साथ जाने की अनुमति दे देनी चाहिए।

Author नई दिल्ली | March 23, 2018 00:01 am
अपने पिता के साथ साइना नेहवाल

भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) अध्यक्ष नरिंदर बत्रा का मानना है कि खेल मंत्रालय को स्टार शटलर पी वी सिंधु और साइना नेहवाल के माता – पिता को गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में उनके साथ जाने की अनुमति दे देनी चाहिए। बत्रा ने कहा, ‘‘मैं नहीं जानता कि खेल मंत्रालय सिंधु और साइना के माता पिता को उनके साथ राष्ट्रमंडल खेलों में जाने की अनुमति क्यों नहीं दे रहा है।’’ उन्होंने भारतीय दल की रवानगी कार्यक्रम से इतर कहा, ‘‘ये शटलर बड़े स्टार है और हमें उनका समर्थन करना चाहिए। सिंधु और साइना जो आग्रह किया है अगर विराट कोहली या सचिन तेंदुलकर ऐसा चाहते तो क्या मंत्रालय उनके लिये भी न कहता।’’ रिपोर्टों के अनुसार साइना के पिता हरवीर सिंह और सिंध की मां विजया पुरसाला सरकारी खर्चे पर गोल्ड कोस्ट जा रहे थे क्योंकि उनके नाम आईओए की अधिकारियों की सूची में है।

लेकिन भारतीय बैडमिंटन संघ (बाइ) ने आईओए को जो पत्र लिखा है उसमें इनके नामों का जिक्र नहीं है। इस पत्र की एक प्रति पीटीआई के पास है। बाइ ने आज कहा कि यह कहना अनुचित होगा कि साइना और सिंधु के माता पिता भारतीय दल के रूप में राष्ट्रमंडल खेलों में जा रहे हैं। बाइ सचिव अनूप नारंग ने पीटीआई से कहा, ‘‘यह पूरी तरह से गलत रिपोर्ट है। इसमें सच्चाई नहीं है। मेरा मानना है कि यह इन दो शटलर के साथ अनुचित है जिन्होंने देश का मान बढ़ाया है।’’ इस बारे में जब सिंधु के पिता पीवी रमन्ना से संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा, ‘‘मैं कई बार सिंधु के साथ विभिन्न टूर्नामेंटों में गया हूं और हर बार मैंने अपना खर्चा खुद उठाया।

इस बार भी हमने बाइ से आग्रह किया था कि वह विजया को खुद के खर्चे पर जाने की अनुमति दे। इसलिए यह जानकर दुख हुआ कि कुछ लोग इस तरह की गलत खबरें उड़ा रहे हैं। ’’ साइना के पिता हरवीर ने कहा, ‘‘मैं अपने खर्चे पर जा रहा हूं। मैं गोल्ड कोस्ट में एक प्रोफेसर को जानता हूं इसलिए मैं एक दर्शक के रूप में खेलों में जा रहा हूं और मैं दल का हिस्सा नहीं हूं। यहां तक कि जब रियो खेलों में गया था तो किराये पर रहा था। इसलिए मैं नहीं जानता कि ये रिपोर्ट कहां से आयी। यह दुर्भाग्यपूर्ण है।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App