ताज़ा खबर
 

दूसरी टीम को सपोर्ट करता था, इसल‍िए मार कर जान ले ली

फुटबॉल के आंकड़ों के विशेषज्ञ अकमल मरहाली के मुताबिक, ये साल 2012 से लेकर अब 7वीं ऐसी मौत है जो दो क्लबों के समर्थकों के बीच संघर्ष के कारण हुई है। जबकि साल 1994 से लेकर अब तक सिरला 70वां इंडोनेशियाई फुटबॉल फैन है जिसकी मौत मैच से जुड़ी हिंसा के कारण हुई है।

हरिनग्गा सिरला, 70वां इंडोनेशियाई फुटबॉल फैन है जिसकी मौत मैच से जुड़ी हिंसा के कारण हुई है। फोटो- Facebook/ Haringga Sirla

इंडोनेशिया में विरोधी फुटबॉल टीम का समर्थन करने पर भड़के टीम समर्थकों ने युवक की लोहे की रॉड और डंडों से पीटकर हत्या कर दी। इंडोनेशिया ​पुलिस ने इस मामले में एक दर्जन से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया है। ये खूनी वारदात रविवार (23 सितंबर) को हुई थी। इसी दिन मेजबान फुटबॉल क्लब पेरसिब बांडुंग और पेरसिजा जकार्ता के बीच मैच होना था। इस दोनों क्लबों को इंडोनेशिया की शीर्ष पेशेवर लीग में एक-दूसरे का कट्टर विरोधी समझा जाता है।

महज 23 साल का हरिनग्गा सिरला पेरसिजा जकार्ता का फैन था। सिरला की बांडुंग समर्थकों ने बांडुंग शहर के मुख्य स्टेडियम के बाहर जमकर पिटाई की। बांडुंग शहर राजधानी जकार्ता से करीब 150 किमी दूर दक्षिणपूर्व में बसा हुआ है। जकार्ता पुलिस ने अब तक इस मामले में करीब 16 लोगों को गिरफ्तार किया है।

फुटबॉल के आंकड़ों के विशेषज्ञ अकमल मरहाली के मुताबिक, ये साल 2012 से लेकर अब 7वीं ऐसी मौत है जो दो क्लबों के समर्थकों के बीच संघर्ष के कारण हुई है। जबकि साल 1994 से लेकर अब तक सिरला 70वां इंडोनेशियाई फुटबॉल फैन है जिसकी मौत मैच से जुड़ी हिंसा के कारण हुई है। अकमल ने कहा,”ये लगातार हो रहा है क्योंकि अधिकारी इस पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। बीते वक्त में हिंसा और तोड़फोड़ के लिए कोई भी कठोर दंड नहीं था। इसीलिए ये इंडोनेशियाई फुटबॉल की आदत बन चुकी है।”

सिरला की मौत पर इंडोनेशिया फुटबॉल संघ ने अपनी गहरी संवेदनाएं प्रकट की हैं। अपने बयान में उन्होंने कहा, ”हम उम्मीद करते हैं कि इस तरह की घटना इंडो​नेशियाई फुटबाल में कभी नहीं होगी।” वैसे बता दें कि जुलाई में इंडोनेशियाई फुटबॉल फैन्स ने मेहमान मलेशिया टीम पर पत्थर और बोतलें बरसाईं थीं। ये वाकया एएफएफ कप अंडर—19 फुटबॉल मैच के सेमीफाइनल के दौरान हुआ था। जब मेजबान टीम को इस मैच में हार का मुंह देखना पड़ा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App