ताज़ा खबर
 

अर्जुना रणतुंगा के आरोपों का गौतम गंभीर और आशीष नेहरा ने दिया करारा जवाब, कहा-पहले सबूत पेश करो

शनिवार को श्रीलंका के पूर्व कप्तान अर्जुन रणतुंगा ने विश्व कप 2011 के फाइनल में भारत के हाथों उनके देश को मिली हार की जांच की मांग की थी।

आशीष नेहरा, गौतम गंभीर और अर्जुना रणतुंगा।

पूर्व श्रीलंकाई कप्तान अर्जुना रणतुंगा के 2011 वर्ल्ड कप फिक्स होने के आरोपों का गौतम गंभीर और आशीष नेहरा ने जवाब दिया है। भारत बनाम श्रीलंका के फाइनल में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले गौतम गंभीर ने कहा कि अर्जुना रणतुंगा को अपने आरोपों के बदले सबूत पेश करने चाहिए। उन्होंने कहा, मैं रणतुंगा के आरोपों से हैरान हूं। उन्होंने बड़े गंभीर आरोप लगाए हैं। रणतुंगा क्रिकेट जगत में काफी सम्मानित शख्स हैं। मुझे लगता है कि उन्हें अपना दावा साबित करने के लिए सबूत पेश करने चाहिए। वहीं वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम का हिस्सा रहे आशीष नेहरा ने कहा, मैं इस मुद्दे पर अपने विचारों रखकर रणतुंगा की टिप्पणी का सम्मान नहीं करना चाहता। इन बयानों का कोई अंत नहीं है। उन्होंने पीटीआई से कहा, अगर मैं 1996 में श्रीलंका को विश्व कप में मिली जीत पर सवाल उठाऊं, तो क्या यह सही होगा। लेकिन यह काफी निराशाजनक है, जब कोई उनके जैसा शख्स एेसी बातें कहे।

शनिवार को श्रीलंका के पूर्व कप्तान अर्जुन रणतुंगा ने विश्व कप 2011 के फाइनल में भारत के हाथों उनके देश को मिली हार की जांच की मांग की थी। रणतुंगा ने अपने फेसबुक पेज पर एक वीडियो पोस्ट कर कहा था कि वह मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए फाइनल में श्रीलंका की छह विकेट से हार से हैरान थे। इस 53 वर्षीय पूर्व कप्तान ने लिखा, ‘‘मैं तब कमेंट्री के लिए भारत में था। जब हम हारे तो मैं काफी निराश था और मुझे आशंका थी। श्रीलंका के साथ विश्व कप 2011 के फाइनल में जो कुछ हुआ हमें उसकी जरूर जांच करनी चाहिए।’’

रणतुंगा ने किसी का नाम लिए बिना कहा कि खिलाड़ी अपनी सफेद पोशाक के कारण गंदगी नहीं छिपा सकते। श्रीलंका ने फाइनल में पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवरों में छह विकेट पर 274 रन बनाए थे। जब भारतीय सुपरस्टार सचिन तेंदुलकर 18 रन बनाकर आउट हुए तो तब वह काफी मजबूत स्थिति में दिख रहा था। भारत ने इसके बाद श्रीलंका के लचर क्षेत्ररक्षण का फायदा उठाकर मैच का पासा पलट दिया।

स्थानीय मीडिया ने इस तरह से मैच गंवाने के लिए श्रीलंकाई खिलाड़ियों पर शक किया था, लेकिन रणतुंगा से पहले किसी ने भी जांच की अपील नहीं की थी। रणतुंगा के प्रवक्ता तामिरा मंजू ने एएफपी से कहा कि वह देश में क्रिकेट की दुर्दशा को लेकर राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना और प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे को भी पत्र लिख रहे हैं। श्रीलंका के हाल में जिम्बाब्वे के हाथों पांच एकदिवसीय मैचों की श्रृंखला में 2-3 से हार के बाद देश में आरोप प्रत्यारोपों का दौर जारी है। मैनेजरों और विशेषकर राष्ट्रीय टीम के कई खिलाड़ियों का प्रतिनिधित्व करने वाले एक एजेंट को लेकर खिलाड़ियों और खेल अधिकारियों में तनातनी बन गयी है।

देखें वीडियो ः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App