ताज़ा खबर
 

क्रिकेट: पुख्ता तैयारी से ही कंगारुओं पर मिलेगी जीत

वेस्ट इंडीज के खिलाफ भारतीय टीम ने दमदार प्रदर्शन किया और दो टैस्ट मैचों की शृंखला में 2-0 से जीत दर्ज की। यह जीत इंग्लैंड में मिली हार पर मरहम हो सकती है लेकिन भारतीय टीम को जल्द ही एक और क्रिकेट युद्ध के लिए आस्ट्रेलिया रवाना होना है।

Author October 18, 2018 4:01 AM
युवाओं पर भरोसा का नतीजा रहा कि हमे पृथ्वी साव और ऋषभ पंत जैसे दो बेहतरीन बल्लेबाज मिले।

संदीप भूषण

वेस्ट इंडीज के खिलाफ भारतीय टीम ने दमदार प्रदर्शन किया और दो टैस्ट मैचों की शृंखला में 2-0 से जीत दर्ज की। यह जीत इंग्लैंड में मिली हार पर मरहम हो सकती है लेकिन भारतीय टीम को जल्द ही एक और क्रिकेट युद्ध के लिए आस्ट्रेलिया रवाना होना है। यहां उसे उसी तरह की चुनौतियों का सामना करना होगा जैसा इस साल के शुरू में दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड दौरे पर भारतीय खिलाड़ियों ने किया। वेस्ट इंडीज के खिलाफ सीरीज से भारत को अपने खिलाड़ियों के हाथ खोलने के अलावा कुछ हासिल नहीं होने वाला। इस लिहाज से भारतीय कप्तान विराट कोहली और टीम प्रबंधन को अभी से अपनी कमजोरियों पर काम करना शुरू कर देना चाहिए।

सलामी जोड़ी की तलाश

बल्लेबाजी में मजबूत मानी जाने वाली भारतीय टीम बीते कुछ समय से सलामी बल्लेबाजों के फ्लॉप शो से परेशान है। इंग्लैंड के खिलाफ टैस्ट में नियमित सलामी जोड़ी शिखर धवन और मुरली विजय ने निराश किया और यही कारण रहा कि उन्हें बीच सीरीज से ही हटा दिया गया। उसके बाद जिम्मेदारी युवा लोकेश राहुल को सौंपी गई लेकिन, वे भी कुछ खास नहीं कर पाए हैं। वेस्ट इंडीज के खिलाफ दो टैस्ट में भी उनका प्रदर्शन निराशाजनक ही रहा। घरेलू मैदान पर लोकेश की यह स्थिति भारतीय टीम के लिए चिंताजनक है। हालांकि इस बीच युवा पृथ्वी साव ने अपने खेल से सबको आकर्षित किया है। कप्तान विराट कोहली को इस मुद्दे पर गंभीरता से विचार करना होगा और सलामी जोड़ी की तलाश पूरी करनी होगी। अगर पृथ्वी को पारी शुरू करने की जिम्मेदारी दे भी जाए तो उनके साथ उसे आगे बढ़ाने के लिए अभी माथापच्ची करना बाकी है।

मध्यक्रम में स्थिरता

कोहली को छह दिसंबर से शुरू होने वाले इस दौरे से पहले अपने मध्यक्रम को भी मजबूत करना होगा। उनकी टीम में फेरबदल की आदत पहले ही भारत को कई बार नुकसान पहुंचा चुका है। आस्ट्रेलिया दौरे पर उन्हें इससे बचना होगा और पहले से ही अपने विश्वनीय मध्यक्रम को तैयार करना होगा। उन्हें अजिंक्य रहाणे और चेतेश्वर पुजारा पर भरोसा दिखाना होगा। साथ ही एक बल्लेबाज को उस माहौल में ढलने के लिए कुछ वक्त भी देना होगा। हालांकि एक बात अच्छी है कि इंग्लैंड से सबक लेकर भारत ने आस्ट्रेलिया से ज्यादा से ज्यादा अभ्यास मैच खेलने का आग्रह किया है। यह भारतीय टीम के लिए लाभदायक होगा।

युवाओं पर दांव लगा सकते हैं

आस्ट्रेलिया दौरे पर कप्तान मयंक अग्रवाल और हनुमा विहारी जैसे बल्लेबाजों पर भी दांव लगा सकते हैं। युवाओं पर भरोसा का नतीजा रहा कि हमे पृथ्वी साव और ऋषभ पंत जैसे दो बेहतरीन बल्लेबाज मिले। प्रबंधन इस दौरे के लिए सलामी बल्लेबाज के तौर पर मयंक अग्रवाल को भी मौका दे सकता है। हालांकि यह भी एक मुद्दा है कि क्या वे इतने तैयार हैं कि आस्ट्रेलियाई तेज आक्रमण को उन्हीं के पिच पर खेल सकें। मध्य क्रम ही सही हनुमा विहारी भी एक विकल्प हो सकते हैं।

कौन होगा ऋषभ का साथी

महेंद्र सिंह धोनी के टैस्ट मैचों से संन्यास के बाद भारत को एक अदद विकेटकीपर की तलाश थी। कई प्रयोग के बाद अंत में ऋषभ पंत के तौर पर उनकी यह तलाश खत्म हुई। वे बल्लेबाजी के साथ विकेटकीपिंग में काफी तेज हैं। लेकिन भारत को अभी दूसरे विकेटकीपर के लिए खूब माथापच्ची करनी होगी। ऋद्धिमान साहा के चोटिल होने के बाद इंग्लैंड दौरे पर दिनेश कार्तिक को मौका दिया गया लेकिन उनकी बल्लेबाजी में निरंतरता की कमी ने टीम को निराश किया। इसके बाद ही पंत को टीम में जगह मिली और उन्होंने अच्छी बल्लेबाजी की बदौलत अपने चयन को सही साबित किया। अब टीम प्रबंधन को या तो कार्तिक से ही काम चलाना होगा या किसी युवा चेहरे को मौका देना होगा।

गेंदबाजी संयोजन भी महत्त्वपूर्ण

आस्ट्रेलिया दौरे के लिए भारत को अपने गेंदबाजी संयोजन पर भी अभी से विचार करने की जरूरत है। इंग्लैंड दौरे पर भारतीय गेंदबाजों ने उम्दा प्रदर्शन किया था लेकिन आस्ट्रेलिया की पिच थोड़ी अलग है। यहां पिच में उछाल ज्यादा होता है। इस लिहाज से तेज गेंदबाजों की भूमिका अहम होगी। अश्विन भी यहां की पिच पर कमाल कर सकते हैं। हालांकि यह तो उस समय के मौसम के मुताबिक ही तय होगा लेकिन एक खाका तो खींचना ही होगा। तेज गेंदबाजों के असर के लिहाज से ही शायद कोहली ने उमेश को आस्ट्रेलिया दौरे के लिए टीम में शामिल करने के संकेत दिए हैं। उन्होंने बीते समय में अपनी गेंदबाजी पर खूब काम किया है। उनकी लाइन और लेंथ में भी काफी सुधार देखा गया और उनके पास पेस तो पहले से ही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App