ताज़ा खबर
 

दखलंदाजी करते हैं विराट कोहली? भारतीय कप्तान के बर्ताव पर क्रिकेट अधिकारी ने किए बड़े खुलासे

कोहली को यह धारणा आम है कि वह सिर्फ अपनी चलाते हैं। कप्तान होने के नाते वह हर मामले में दखलंदाजी करते हैं। ये बातें तब और मुखर होकर सामने आई थीं, जब अनिल कुंबले को भारतीय कोच की कुर्सी छोड़नी पड़ी थी। तब कहा गया था कि कोहली के दबाव के चलते कुंबले को इस्तीफा देना पड़ा था।

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली। (फोटो सोर्सः बीसीसीआई)

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली का बर्ताव कैसा है? क्या वह टीम से जुड़े फैसलों में दखल देते हैं? क्या असल में उन्हें प्रभावित करने का प्रयास करते हैं? ये सवाल हो सकता है आपके दिमाग में भी हों, मगर इस प्रकार के कयासों को कमेटी ऑफ एडमिनिस्ट्रेटर्स (सीओए) के मुखिया विनोद राय ने सिरे से खारिज किया है। उन्होंने कोहली के बर्ताव से जुड़े कुछ अहम खुलासे किए हैं। दावा किया है कि भारतीय क्रिकेट में बड़ा नाम होने के बाद भी कोहली अपने नाम और ओहदे का गलत इस्तेमाल नहीं करते। न ही वह टीम से जुड़े नीतिगत फैसलों में दखलंदाजी करते हैं।

दिल्ली जिमखाना में राय ने पीटीआई से इस बारे में बात की। उन्होंने कहा, “कोई भी कप्तान टीम पर अपना पर रौब दिखाता है। मैं उस तरह की चीजों को एक हद तक स्वीकार करता हूं। आखिरकार वह एक कप्तान जो होता है। लेकिन मुझे आजतक किसी ने आकर यह नहीं कहा कि विराट दखलंदाजी करता है, जो कि कप्तान के लिए करता सरासर गलत है।”

कमेटी ऑफ एडमिनिस्ट्रेटर्स के मुखिया विनोद राय। (एक्सप्रेस फोटोः अमित मेहरा)

राय ने बताया कि कोहली ने कप्तान रहने के दौरान कभी भी उन पर किसी नीतिगत मामले को लेकर दबाव नहीं बनाया। उनके मुताबिक, “निजी स्तर पर विराट का बर्ताव मेरे साथ ठीक है। उन्होंने मुझ पर कभी किसी चीज को लेकर दबाव नहीं बनाया। न ही कभी टीम प्रबंधन पर या फिर सेलेक्टर्स को किसी बात के लिए शिकायत का मौका दिया।”

याद दिला दें कि कोहली को यह धारणा आम है कि वह सिर्फ अपनी चलाते हैं। कप्तान होने के नाते वह हर मामले में दखलंदाजी करते हैं। ये बातें तब और मुखर होकर सामने आई थीं, जब अनिल कुंबले को भारतीय कोच की कुर्सी छोड़नी पड़ी थी। तब कहा गया था कि कोहली के दबाव के चलते कुंबले को इस्तीफा देना पड़ा था।

कोहली को लेकर धारणा चलायमान है कि वह सिर्फ अपनी चलाते हैं। (फोटोः बीसीसीआई)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App