मैच से पहले मैरीकॉम की रिंग ड्रेस करवाई गई चेंज, रिंग के अंदर और बाहर की कहानी जानिए उन्हीं की जुबानी

टोक्यो ओलंपिक में 6 बार की विश्व चैंपियन भारत की स्टार मुक्केबाज मैरीकॉम का सफर गुरुवार को खत्म हो गया है। प्री क्वार्टर मुकाबले में मैरीकॉम को कोलंबियाई बॉक्सर इंग्रिट वालेंसिया से हार का सामना करना पड़ा। इस हार के बाद मैरीकॉम ने खुद फैसले पर सवाल उठाए हैं।

indian-boxer-mary-kom-raised-questions-on-judges-and-ioc-after-loss-in-pre-quarters-of-tokyo-olympics-cheating-issues-raised
मैच से पहले मैरीकॉम की रिंग ड्रेस करवाई गई चेंज, रिंग के अंदर और बाहर की कहानी जानिए उन्हीं की जुबानी (Source: Twitter)

टोक्यो ओलंपिक में 6 बार की विश्व चैंपियन भारत की स्टार मुक्केबाज मैरीकॉम का सफर गुरुवार को खत्म हो गया है। प्री क्वार्टर मुकाबले में मैरीकॉम को कोलंबियाई बॉक्सर इंग्रिट वालेंसिया से हार का सामना करना पड़ा। हालांकि इस हार को लेकर लगातार कई सवाल उठ रहे हैं और खुद मैरीकॉम ने भी इस फैसले को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है।

साथ ही मैरीकॉम ने एक ट्वीट भी किया जिसमें बताया कि मैच के पहले उनकी रिंग ड्रेस भी चेंज करवा दी गई थी। उन्होंने आज ट्वीट करते हुए लिखा,’आश्चर्यजनक…क्या कोई समझा सकता है कि रिंग ड्रेस क्या होती है, प्री क्वार्टर मैच से एक मिनट पहले मेरी रिंग ड्रेस चेंज करवाई गई…क्या कोई समझा सकता है।’


आपको बता दें मैरीकॉम ने शुरुआती दोनों राउंड जीते थे इसके बावजूद आखिरी राउंड में दो जज मैरी के पक्ष में थे और दो इंग्रिट के पक्ष में। मैरी ने न्यूज चैनल आजतक से बात करते हुए बताया कि, आखिरी तक उन्हें विश्वास ही नहीं हुआ कि वे हार गई हैं। उन्होंने कहा हमेशा मेरे साथ ऐसा क्यों होता है ?

‘ये ओलंपिक सबसे बेकार’

मैरीकॉम ने आजतक से बातचीत में कहा कि, ‘सिर्फ ओलंपिक नहीं मेरे साथ ही ये ऐसा क्यों होता है पिछले वर्ल्ड चैंपियनशिप में भी यही हुआ। ये ओलंपिक सबसे बेकार और अनऑर्गनाइज्ड है। मैं प्रोटेस्ट भी नहीं कर सकती पहले ही मना किया जा चुका है इस ओलंपिक में कुछ प्रोटेस्ट वगैरह नहीं होगा।’

‘मैं खेल नहीं छोड़ रही’

गौरतलब है कि शुरुआती दो राउंड जीतने के बाद भी अंतिम-16 के इस मुकाबले में मैरीकॉम को 3-2 से हारा हुआ बताया गया। मैरी ने पीटीआई से बात करते हुए कहा, ‘शुरुआती दो राउंड के बाद मुझे सर्वसम्मति से जीत मिलने चाहिए थी। फिर 3-2 कैसे हुआ। एक मिनट या एक सेकेंड के अंदर एक एथलीट का सब कुछ चला जाता है। जो हुआ वह दुर्भाग्यपूर्ण है और मैं जजों के फैसले से निराश हूं।’

उन्होंने आगे कहा कि, ‘मैं ब्रेक लूंगी, परिवार के साथ समय बिताऊंगी लेकिन मैं खेल नहीं छोड़ रही हूं। अगर कोई टूर्नामेंट होता है तो मैं जारी रखूंगी और अपना भाग्य आजमाऊंगी।’

पढें खेल समाचार (Khel News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट
X