scorecardresearch

IND vs PAK: एमएस धोनी की सलाह पर मिले थे पाकिस्तान के खिलाफ विकेट, हरभजन सिंह का खुलासा

India vs Pakistan: 2011 विश्व कप के दूसरे सेमीफाइनल में हरभजन सिंह ने 10 ओवर में 43 रन देकर 2 विकेट लिए थे। सचिन तेंदुलकर मैन ऑफ द मैच चुने गए थे। उन्होंने 85 रन की पारी खेली थी। मोहाली के आईएस बिंद्रा स्टेडियम में 30 मार्च 2022 को खेला गया वह मुकाबला भारत ने 29 रन से जीता था।

IND vs PAK: एमएस धोनी की सलाह पर मिले थे पाकिस्तान के खिलाफ विकेट, हरभजन सिंह का खुलासा
हरभजन सिंह के मुताबिक, महेंद्र सिंह धोनी की सलाह से पहले वह 5 ओवर में 26-27 रन दे चुके थे। (सोर्स- बीसीसीआई)

अक्सर खबरें आती रही हैं कि महेंद्र सिंह धोनी और हरभजन सिंह के बीच रिश्ते तल्ख हैं। हालांकि, अब स्टार स्पोर्ट्स के एक कार्यक्रम में हरभजन सिंह ने भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान की तारीफ की। उन्होंने 2011 एकदिवसीय विश्व कप के दूसरे सेमीफाइनल मुकाबले को याद किया और बताया कि विकेट चटकाने में कैसे महेंद्र सिंह धोनी ने उनकी मदद की थी।

धोनी के सुझाव के बाद हरभजन सिंह ने अगले ओवर की पहली ही गेंद पर उमर अकमल को पवेलियन की राह दिखा दी थी। इसके बाद हरभजन सिंह ने शाहिद अफरीदी को भी वीरेंद्र सहवाग के हाथों कैच करा दिया था। हरभजन ने सेमीफाइनल मुकाबले में धोनी के साथ बातचीत का खुलासा किया। हरभजन ने बताया, पाकिस्तानी पारी के 33 ओवर हो चुके थे। पाकिस्तान 4 विकेट पर 142 रन बना चुका था।

पाकिस्तान को जीत के लिए अगले 17 ओवर में 109 रन बनाने थे, जो बहुत मुश्किल काम नहीं था। उसी समय ड्रिंक्स ब्रेक हुआ। ड्रिंक्स ब्रेक में कप्तान महेंद्र सिंह धोनी हरभजन सिंह के पास आए और उन्होंने खतरनाक दिख रहे उमर अकमल को विकेट के आसपास गेंदबाजी करने की सलाह दी।

ड्रिंक्स ब्रेक के बाद हरभजन सिंह ने वैसा ही किया और उमर अकमल बोल्ड हो गए। उमर अकमल 24 गेंद में 29 रन बनाकर आउट हुए। उनका आउट होना उस सेमीफाइनल मुकाबले का यह टर्निंग पॉइंट भी साबित हुआ। उसके बाद पाकिस्तान ने अगले 57 रन के भीतर 4 विकेट और गंवा दिए।

स्टार स्पोर्ट्स के प्रोग्राम ‘दिल से इंडिया’ में हरभजन सिंह ने बताया, ‘यह उन मैचों में से एक था, जहां मुझे लगा कि मैं थोड़ा नर्वस फील कर रहा हूं। मैंने पांच ओवर फेंके थे, जिसमें लगभग 26-27 रन पड़ चुके थे। इसके बाद ड्रिंक्स ब्रेक हुआ जहां धोनी ने मुझसे कहा कि भज्जू पा, आप वहां से (विकेट के आसपास) डालेंगे। उमर अच्छा खेल रहा था और मिस्बाह भी रन बना रहे थे। उनके बीच साझेदारी खतरनाक होती जा रही थी।’

हरभजन ने आगे कहा, ‘फिर मैं गेंदबाजी करने आया और मैंने भगवान को याद किया। मैंने सिर्फ जीत के लिए प्रार्थना की और भगवान ने मेरी बात सुन ली। जैसे ही मैंने विकेट के आसपास बॉल डाला, वैसे ही पहली गेंद पर मुझे उमर अकमल का विकेट मिल गया। वह पूरी तरह से चकमा खा बैठे।’

2011 विश्व कप के दूसरे सेमीफाइनल में हरभजन सिंह ने 10 ओवर में 43 रन देकर 2 विकेट लिए थे। सचिन तेंदुलकर मैन ऑफ द मैच चुने गए थे। उन्होंने 85 रन की पारी खेली थी। मोहाली के आईएस बिंद्रा स्टेडियम में 30 मार्च 2022 को खेला गया वह मुकाबला भारत ने 29 रन से जीता था।

पाकिस्तान के खिलाफ उस सेमीफाइनल में भारत ने 50 ओवर में 9 विकेट खोकर 260 रन बनाए। जवाब में पाकिस्तान की टीम 49.5 ओवर में 231 रन पर ऑलआउट हो गई थी।

पढें खेल (Khel News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.