विश्व कप विजेता भारतीय गेंदबाज ने विराट कोहली संग इन पर भी मढ़ा टीम के खराब प्रदर्शन का दोष, बल्लेबाजी चुनने को लेकर कही यह बात

लीड्स टेस्ट की पहली पारी में रोहित शर्मा (19) और अजिंक्य रहाणे (18) को छोड़कर टीम इंडिया का कोई भी बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा नहीं छू पाया। कप्तान विराट कोहली सात रन ही बना पाए। विराट कोहली पिछली 50 अंतरराष्ट्रीय पारियों में एक बार भी तीसरे अंक तक नहीं पहुंच पाए हैं।

virat kohli India vs England Leeds Test Madan Lal Joe Root
इंग्लैंड के खिलाफ पहली पारी में कप्तान विराट कोहली सात रन ही बना पाए। (सोर्स- ट्विटर)

साल 1983 में भारत को वर्ल्ड चैंपियन बनाने में अहम भूमिका निभाने वाले मदन लाल ने लीड्स में भारत की खराब बल्लेबाजी का दोष विराट कोहली पर मढ़ा है। पूर्व क्रिकेटर मदन लाल इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे टेस्ट के पहले दिन भारत के खराब बल्लेबाजी प्रदर्शन से खुश नहीं हैं। उन्होंने महसूस किया कि टीम के कप्तान विराट कोहली और मध्य क्रम को अपना खोया फॉर्म पाने की जरूरत है।

लॉर्ड्स टेस्ट में शानदार जीत हासिल करने वाली भारतीय टीम की ऐसी बल्लेबाजी देखकर मदन लाल नाखुश हैं। लीड्स टेस्ट में भारतीय कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीता और बल्लेबाजी का फैसला किया। हालांकि, उनका यह फैसला गलत साबित हुआ और पूरी टीम महज 78 रन पर ढेर हो गई। इसके बाद इंग्लैंड ने दिन का खेल खत्म होने तक बिना कोई विकेट खोए 120 रन बनाकर भारत के खिलाफ लीड ले ली।

रोहित शर्मा (19) और अजिंक्य रहाणे (18) को छोड़कर टीम इंडिया का कोई भी बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा नहीं छू पाया। कप्तान विराट कोहली सात रन ही बना पाए। विराट कोहली पिछली 50 अंतरराष्ट्रीय पारियों में एक बार भी तीसरे अंक तक नहीं पहुंच पाए हैं।

मदन लाल ने कहा कि कोहली ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया क्योंकि उन्हें लगता था कि इंग्लैंड दबाव में होगा। लॉर्ड्स टेस्ट में इंग्लैंड की दूसरी पारी बहुत जल्द ही बिखर गई थी। लेकिन कप्तान कोहली को इंग्लैंड की ट्रिकी कंडीशंस का जल्द ही अहसास भी होना चाहिए। उन्हें खुद भी रन बनाने चाहिए, ताकि अपनी बनाई गई योजना को साकार किया जा सके।

टॉस जीतकर बल्लेबाजी चुनने का फैसला क्या सही था, के सवाल पर मदन लाल ने कहा, ‘यदि लीड्स की स्थिति और वहां के इतिहास को देखें तो आप सुबह के सत्र में जल्दी विकेट खो देते हैं। विराट ने शायद एक मौका लिया होगा क्योंकि इंग्लैंड ने पिछले टेस्ट में बहुत अधिक रन नहीं बनाए थे। अब आप यह नहीं कह सकते हैं कि आप टॉस के कारण मैच हार गए।’

उन्होंने कहा, ‘दरअसल, आपने तब अच्छी बल्लेबाजी नहीं की। आपके मध्यक्रम को रन नहीं मिल रहे हैं क्योंकि मुख्य बल्लेबाज विराट को रन नहीं मिल रहे हैं। हम सब उनसे रन बनाने की उम्मीद करते हैं।’

मदन लाल ने यह भी महसूस किया कि टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करना समझदारी होती, क्योंकि परिस्थितियां तेज गेंदबाजों के पक्ष में थीं और इंग्लैंड के गेंदबाजों ने इसका सबसे अधिक फायदा उठाया और जेम्स एंडरसन और क्रेग ओवरटन ने तीन विकेट लिए।

उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि इंग्लैंड ने वास्तव में अच्छी गेंदबाजी की। मैच में अभी तीन दिन बाकी हैं। लीड्स में ऐसी परिस्थितियों में कप्तान ज्यादातर यही करते हैं कि जब वे टॉस जीतते हैं तो पहले गेंदबाजी चुनते हैं, क्योंकि ऐसे विकेटों में गेंद शुरुआत में काफी स्विंग करती है।’

पढें खेल समाचार (Khel News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट