शार्दुल ठाकुर ने इंग्लैंड में रचा इतिहास, तोड़ा वीरेंद्र सहवाग का रिकॉर्ड; लेकिन भारत के नाम हुआ यह शर्मनाक रिकॉर्ड

शार्दुल ठाकुर टेस्ट क्रिकेट में दूसरा सबसे तेज अर्धशतक लगाने वाले बल्लेबाज बन गए हैं। टीम इंडिया इंग्लैंड में टेस्ट क्रिकेट में पहले बल्लेबाजी करते हुए 12वीं बार 200 रन के स्कोर के भीतर ऑलआउट हुई है।

Shardul Thakur Team India India vs England Cricket Records Kapil Dev Virender Sehwag Ind vs Eng
शार्दुल ठाकुर टेस्ट क्रिकेट में दूसरा सबसे तेज अर्धशतक लगाने वाले बल्लेबाज बन गए हैं। (सोर्स- ट्विटर/बीसीसीआई)

इंग्लैंड के खिलाफ 5 मैच की सीरीज के चौथे टेस्ट में शार्दुल ठाकुर ने 31 गेंद में अपना अर्धशतक पूरा किया। इसके साथ ही उन्होंने इंग्लैंड में इतिहास रच दिया। वह इंग्लैंड में सबसे कम गेंद में टेस्ट क्रिकेट में अर्धशतक लगाने वाले बल्लेबाज बने।

उन्होंने अपने समय के दिग्गज ऑलराउंडर रहे इंग्लैंड के इयान बॉथम का रिकॉर्ड तोड़ा। बॉथम ने 1986 में 32 गेंद में अर्धशतक लगाया था। खास यह है कि बॉथम ने भी ओवल के इसी मैदान पर यह रिकॉर्ड बनाया था। अब 35 साल बाद उनका रिकॉर्ड शार्दुल ठाकुर ने तोड़ दिया है।

शार्दुल ने चौथे टेस्ट की पहली पारी में 36 गेंद में 57 रन बनाए। इसमें उनके 7 चौके और 3 छक्के लगाए। शार्दुल ठाकुर इंग्लैंड में सबसे तेज टेस्ट अर्धशतक लगाने वाले बल्लेबाज भले ही बन गए हों, लेकिन वह 2 बॉल से टेस्ट क्रिकेट में सबसे कम गेंद में अर्धशतक लगाने वाले भारतीय बनने से चूक गए।

हालांकि, उन्होंने वीरेंद्र सहवाग का रिकॉर्ड जरूर तोड़ दिया। टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज अर्धशतक लगाने वाले भारतीय कपिल देव हैं। कपिल देव ने 1982 में कराची में पाकिस्तान के खिलाफ 30 गेंद में पचासा ठोका था।

वहीं, वीरेंद्र सहवाग ने साल 2008 में चेन्नई में इंग्लैंड के खिलाफ 32 गेंद में फिफ्टी जड़ी थी। टेस्ट क्रिकेट में सबसे कम गेंद में पचासा लगाने का रिकॉर्ड पाकिस्तान के मिस्बाह-उल-हक के नाम है। मिस्बाह ने 2014 में अबुधाबी में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 21 गेंद में अपना अर्धशतक पूरा किया था।

India vs England 4th Test 2nd Day Live Score: यहां जानिए चौथे टेस्ट के दूसरे दिन के खेल से जुड़े अपडेट्स

भारतीय टीम चौथे टेस्ट की पहली पारी में 61.3 ओवर में 191 रन पर ऑलआउट हुई। इसके साथ ही उसके नाम एक अनचाहा और शर्मनाक रिकॉर्ड जुड़ गया। भारतीय टीम टेस्ट क्रिकेट में इंग्लैंड में पहले बल्लेबाजी करते हुए 12वीं बार 200 से कम के स्कोर पर ऑलआउट हुई है।

इससे पहले जब वह 11 बार 200 से कम के स्कोर पर आउट हुई थी, उनमें से उसे 10 बार हार झेलनी पड़ी थी। इसमें से 8 बार वह पारी से हारी, जबकि एक बार 9 विकेट और एक बार 8 विकेट से हारी थी। साल 1979 में लॉर्ड्स में खेला गया सिर्फ एक टेस्ट ड्रॉ रहा था, क्योंकि तब बारिश ने मैच में खलल डाल दिया था।

पढें खेल समाचार (Khel News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट