ताज़ा खबर
 

IND vs ENG: चौथा टेस्‍ट जीता भारत तो टूट जाएगा 15 साल पुराना रिकॉर्ड, केएल राहुल भी रचेंगे इतिहास

India vs England, 4th Test : इंग्लैंड में और इंग्लैंड के खिलाफ भारत अभी तक सिर्फ 173 रनों का सर्वोच्च स्कोर ही चौथी पारी में हासिल कर पाया है। पिछली बार साल 2014 में जब भारत ने इंग्लैंड का दौरा किया था।

भारत के चौथा टेस्ट मैच जीतते ही बन जाएंगे कई रिकॉर्ड। (AP Photo/Alastair Grant)

Ind vs Eng, India vs England, 4th Test: साउथएम्पटन में भारत और इंग्लैंड के बीच जारी चौथे टेस्ट मैच में कह सकते हैं कि पलड़ा अभी थोड़ा बराबरी पर है। हालांकि रिकॉर्ड बुक पर नजर दौड़ाएं तो पलड़ा थोड़ा इंग्लैंड की तरफ झुकता दिखाई दे रहा है। दरअसल चौथी पारी में 200 से ज्यादा रनों का पीछा करने में भारत का रिकॉर्ड बहुत अच्छा नहीं है। अब चूंकि इंग्लैंड की लीड बढ़कर 233 रन हो गई है और अभी भी उसके 2 विकेट शेष हैं, ऐसे में देखने वाली बात होगी कि भारतीय टीम अपने रिकॉर्ड में सुधार करती है या फिर रिकॉर्ड और भी खराब होता है?

एक नजर इस मैच में बनने वाले रिकॉर्ड्स परः भारत ने टेस्ट मैचों में 200 प्लस के टारगेट का पीछा एशिया से बाहर अंतिम बार साल 2003 में एडीलेड में किया था। इस मैच में भारत ने 230 रनों का टारगेट 6 विकेट खोकर हासिल किया और भारत की इस जीत के हीरो रहे थे राहुल द्रविड़, जिन्होंने 72 रनों की नाबाद पारी खेली थी। एडीलेड के अलावा भारत ने एशिया के बाहर सिर्फ पोर्ट ऑफ स्पेन, वेस्टइंडीज के खिलाफ साल 1976 में और न्यूजीलैंड के खिलाफ ड्यूनेडिन में साल 1968 में ही टेस्ट मैच में 200 या उससे ज्यादा का टारगेट हासिल किया था।

भारत के युवा बल्लेबाज केएल राहुल भी इस मैच में रिकॉर्ड बना सकते हैं। दरअसल इंग्लैंड के खिलाफ जारी इस सीरीज में केएल राहुल ने अभी तक स्लिप में बहुत अच्छी फील्डिंग की है और कई शानदार कैच लपके हैं। एक टेस्ट सीरीज में किसी भारतीय द्वारा लपके गए सबसे ज्यादा कैच के मामले में केएल राहुल अब तीसरे स्थान पर हैं और सीरीज खत्म होने तक वह पहले नंबर भी आ सकते हैं। बता दें कि केएल राहुल अभी तक इस सीरीज में 11 कैच लपक चुके हैं, उनसे ज्यादा कैच एक सीरीज में सिर्फ राहुल द्रविड़ (13 कैच, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ, साल 2004) और एकनाथ सोल्कर (12 कैच इंग्लैंड के खिलाफ, साल 1972/73) ने ही लपके हैं।

इंग्लैंड के ओपनर बल्लेबाज कीटोन जेनिंग्स पिछली 16 पारियों में एक भी अर्द्धशतक नहीं बना सके हैं। इस खराब रिकॉर्ड के साथ ही जेनिंग्स ने अपने ही हमवतन माइक आर्थटन की बराबरी कर ली है, जो इतनी ही पारियों में कोई अर्द्धशतक नहीं बना पाए थे। आर्थटन और जेनिंग्स से आगे मार्क बाउचर (23 पारियां) और जॉन इडरिच (19 पारियां) का नाम है। इसके साथ-साथ जेनिंग्स अपने डेब्यू मैच में ही शतक लगाने वाले बल्लेबाजों में सबसे खराब औसत वाले बल्लेबाज भी बन गए हैं। जेनिंग्स का औसत 22.65 का है, जो कि सबसे खराब है।

ऋषभ पंत इस मैच में कोई खास प्रदर्शन नहीं कर पा रहे हैं। बल्ले के साथ-साथ विकेट के पीछे भी पंत का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है। बता दें कि ऋषभ पंत इस मैच में अभी तक 30 रन बाई के रुप में खर्च कर चुके हैं। इससे पहले दिनेश कार्तिक का रिकॉर्ड ही पंत से खराब है, जिन्होंने साल 2007 में पाकिस्तान के खिलाफ मैच में 47 रन बाई के रुप में दिए थे।

इंग्लैंड में और इंग्लैंड के खिलाफ भारत अभी तक सिर्फ 173 रनों का सर्वोच्च स्कोर ही चौथी पारी में हासिल कर पाया है। पिछली बार साल 2014 में जब भारत ने इंग्लैंड का दौरा किया था तो इस मैदान पर वह चौथी पारी में 445 रनों का पीछा करते हुए सिर्फ 178 रन ही बना सका था। इंग्लैंड की तरफ से मोईन अली ने उस मैच में 6 विकेट हासिल किए थे।

सैम कुरेन अभी तक इस सीरीज में 242 रन बना चुके हैं। किसी भी टेस्ट सीरीज में भारत के खिलाफ आठवें या उससे निचले क्रम पर खेलने वाले बल्लेबाज द्वारा बनाए गए ये सबसे ज्यादा रन हैं। इससे पहले साल 2009 में डेनिटल विटोरी ने 220 रन बनाए थे।

जोस बटलर इस सीरीज में अभी तक खेली अपनी 7 पारियों में 260 रन बना चुके हैं। जो कि भारतीय कप्तान विराट कोहली (486) के बाद दोनों ही टीमों में किसी खिलाड़ी द्वारा बनाए गए सबसे ज्यादा रन हैं।

साल 2012 में भारत ने आखिरी बार टेस्ट मैच की चौथी पारी में 200 से ज्यादा रन के टारगेट को हासिल किया था। बता दें कि यह टेस्ट मैच न्यूजीलैंड के खिलाफ बेंगलुरु में खेला गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App