ताज़ा खबर
 

India vs England 3rd Test: …तो ईशांत शर्मा की धारदार गेंदबाजी के पीछे ऑस्‍ट्रेलिया के इस दिग्‍गज गेंदबाज का है हाथ

India vs England: गिलेस्पी के अनुसार, उन्होंने ईशांत को इंग्लैंड में गेंदबाजी थोड़ी फुल लेंथ पर करने की सलाह दी थी। इसके साथ ही गिलेस्पी ने ईशांत को बल्लेबाज के फ्रंटफुट का भी ध्यान रखने को कहा था।

Author August 22, 2018 11:37 AM
ईशांत शर्मा इंग्लैंड दौरे पर कर रहे बेहतरीन गेंदबाजी। (image source-Reuters)

भारतीय तेज गेंदबाज ईशांत शर्मा मौजूदा इंग्लैंड दौरे पर काफी प्रभावी नजर आ रहे हैं और भारतीय तेज गेंदबाजी की धुरी बनकर उभरे हैं। पहले टेस्ट मैच की एक पारी में जहां उन्होंने 5 विकेट हासिल कर इंग्लैंड की बल्लेबाजी को घुटनों पर ला दिया था। वहीं बाकी 2 टेस्ट मैचों में भी वह टीम के लिए काफी उपयोगी रहे हैं और टीम को विकेट चटकाकर दिए हैं। बता दें कि ईशांत शर्मा की गेंदबाजी में अब पहले के मुकाबले काफी सुधार आया है और इसका श्रेय एक ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज को जाता है। वो ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज हैं जेसन गिलेस्पी। उल्लेखनीय है कि जेसन गिलेस्पी इंग्लैंड की काउंटी टीम यॉर्कशायर के कोच हैं और ईशांत भी इस काउंटी सीजन में यॉर्कशायर की तरफ से खेल रहे हैं।

जेसन गिलेस्पी ने बताया कि पहले ईशांत गेंद फेंकने के बाद खड़ा हो जाता था और बड़े ही धीमे कदमों से वापस अगली गेंद फेंकने जाता था। लेकिन इससे काफी समय बर्बाद होता था। इसलिए मैंने उसे गेंद फेंकने के बाद ज्यादा कुछ ना सोचने और तेजी से वापस रनअप लेकर अगली गेंद फेंकने की सलाह दी। इसका असर भी अब ईशांत की गेंदबाजी में दिखाई दे रहा है और अब वह ज्यादा सोचने के बजाए सिर्फ गेंद को सही लाइन और लेंथ पर फेंकने पर फोकस कर रहा है। इसके साथ ही पूर्व ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज ने ईशांत की लाइन और लेंथ सुधारने पर भी काम किया है। गिलेस्पी के अनुसार, ईशांत पहले ज्यादातर थोड़ी शॉर्ट गेंदबाजी करते थे। इसकी वजह बताते हुए गिलेस्पी ने कहा कि भारत में पिच स्लो होते हैं और वहां गेंद ज्यादा बाउंस नहीं करती। जिस कारण गेंदों को विकेटों पर मारने के लिए गेंद थोड़ी शॉर्ट रखनी पड़ती है। लेकिन इंग्लैंड में बाउंस ज्यादा होता है। इसलिए यहां अगर गेंद शॉर्ट रखेंगे तो वह विकेटों के ऊपर से निकल जाएगी। यही वजह है कि इंग्लैंड में सही लाइन और लेंथ पर गेंद डालना बेहद जरुरी है।

गिलेस्पी के अनुसार, उन्होंने ईशांत को इंग्लैंड में गेंदबाजी थोड़ी फुल लेंथ पर करने की सलाह दी थी। इसके साथ ही गिलेस्पी ने ईशांत को बल्लेबाज के फ्रंटफुट का भी ध्यान रखने को कहा था। गिलेस्पी ने बताया कि ईशांत ने अपनी कलाई की पोजिशन और सीम पोजिशन पर भी काम किया है, जिससे उसकी गेंदे स्विंग हो सकें। साथ ही गेंदबाजी करते हुए क्रीज का बेहतर इस्तेमाल करने पर भी ईशांत ने काफी मेहनत की है। गिलेस्पी ने कहा कि वह (ईशांत) अब अपनी क्षमता के अनुसार खेल रहा है और उसी के हिसाब से गेंदबाजी कर रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App