ताज़ा खबर
 

भारत-पाक सिरीज़ की संभावना बेहद कम: शहरयार

पीसीबी अध्यक्ष शहरयार खान ने मंगलवार को स्वीकार किया कि भारत-पाक द्विपक्षीय क्रिकेट की संभावना ‘बेहद कम’ है लेकिन ‘दबाव’ बीसीसीआई..

Author नई दिल्ली | October 20, 2015 7:50 PM
पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के अध्यक्ष शहरयार खान (पीटीआई फाइल फोटो)

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के नाराज अध्यक्ष शहरयार खान ने मंगलवार को स्वीकार किया कि भारत-पाक द्विपक्षीय क्रिकेट की संभावना ‘बेहद कम’ है लेकिन ‘दबाव’ बीसीसीआई को इस मुद्दे पर कोई भी कदम उठाने से रोक रहा है।शहरयार ने कहा कि पीसीबी को इतने लंबे समय तक इंतजार कराना अनुचित है और वह अब बीसीसीआई अधिकारियों के साथ और बैठक की कोशिशें नहीं करेंगे।

भारत के साथ क्रिकेट संबंध दोबारा शुरू करने की कवायद के तहत केंद्र सरकार के कुछ शीर्ष मंत्रियों और अधिकारियों से मुलाकात की उम्मीद में दिल्ली आए शहरयार ने कहा कि भारतीय बोर्ड ने उनकी पहल पर प्रतिक्रिया नहीं दी है।

शहरयार ने दबाव के मतलब को स्पष्ट किए बिना कहा, ‘‘यहां जो हुआ उसके बाद मैं आशांवित (श्रृंखला को लेकर) नहीं हूं क्योंकि बेशक यहां दबाव है। फिलहाल संभावना बेहद कम है। मैं अब कोई प्रयास नहीं करने वाला।’’

उन्होंने कहा, ‘‘अब कोई बैठक नहीं होगी। जब हमें स्पष्ट हो जाएगा कि श्रृंखला नहीं होगी तो हम सभी विकल्पों पर गौर करेंगे। ताली दो हाथ से बजती है।’’

देश में आने के बाद पूरे घटनाक्रम पर विस्तार से बताते हुए शहरयान ने कहा कि वह बीसीसीआई प्रमुख शशांक मनोहर के निमंत्रण पर आए थे।

शहरयार ने सोमवार को बीसीसीआई मुख्यालय पर शिवसेना के कार्यकर्ताओं के विरोध के संदर्भ में कहा, ‘‘वह (मनोहर) बात करना चाहते थे। उन्होंने पूछा कि क्या मैं बातचीत के लिए मुंबई आ सकता हूं। उन्होंने कहा कि सोमवार को आ जाओ जो कल था। मैंने कहा ठीक है, मैं रविवार रात मुंबई पहुंच जाऊंगा। जैसा कि आपको पता है हमारी मुलाकात से आधा घंटा पहले मुझे संदेश मिला कि बातचीत में विलंब होगा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए मैं रुक गया, मुझे कोई खतरा नहीं था। बाद में बैठक रद्द कर दी गई। मैंने शाम तक इंतजार किया कि क्या बैठक नये समय पर हो सकती है लेकिन बीसीसीआई ने कोई संकेत नहीं दिया।’’

शहरयार मंगलवार को दिल्ली में थे और वह आईपीएल अध्यक्ष राजीव शुक्ला से उनके आवास पर मिले। उन्होंने कहा, ‘‘मैं यहां आया और अन्य लोगों से मिलने के अलावा बीसीसीआई से बात करने की योजना थी। लेकिन बीसीसीआई ने कुछ नहीं बताया कि वे कैसे आगे बढ़ना चाहते हैं। इसलिए मैं अब स्वदेश जा रहा हूं क्योंकि यह बेहद स्पष्ट है कि यहां काफी दबाव है जो बीसीसीआई को रोक रहा है। इसलिए मैं लौट रहा हूं और अब बैठक नहीं होगी। मैं शुक्ला से मिला क्योंकि मैं कई वर्षों से उन्हें जानता हूं और उनसे मुलाकात बीसीसीआई से मुलाकात नहीं है।’’

बीसीसीआई की प्रतिक्रिया से निराश शहरयार ने हालांकि कहा कि उन्होंने कभी भारत में अगले साल होने वाले विश्व ट्वेंटी20 के बहिष्कार की धमकी नहीं दी। शहरयार ने कहा, ‘‘मैंने कभी बहिष्कार शब्द का प्रयोग नहीं किया। एक बार स्पष्ट हो जाए कि श्रृंखला नहीं होगी तो हम सभी विकल्पों पर गौर करेंगे। हमारी और कोई योजना नहीं है, मैं अब स्वदेश लौट रहा हूं। बीसीसीआई ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। बीसीसीआई से कोई सीधे संवाद नहीं हुआ।’’

इससे पहले शहरयार ने आईपीएल अध्यक्ष राजीव शुक्ला से उनके आवास पर मुलाकात की जिसे ‘शिष्टाचार भेंट’ बताया गया। पीसीबी प्रमुख को मुंबई में सोमवार को बीसीसीआई अध्यक्ष शशांक मनोहर से बात करनी थी लेकिन बीसीसीआई मुख्यालय पर शिवसेना कार्यकर्ताओं के विरोध प्रदर्शन के बाद बातचीत रद्द करनी पड़ी। उन्होंने मनोहर के कार्यालय के भीतर नारेबाजी की।

शुक्ला ने खान से मिलने के बाद कहा,‘‘यह शिष्टाचार भेट थी, कोई आधिकारिक चर्चा नहीं हुई। जब भी बात होगी तो बीसीसीआई अध्यक्ष करेंगे और इन मसलों पर अंतिम फैसला लेंगे।’’

उन्होंने कहा,‘‘श्रृंखला होगी या नहीं, कहां होगी और कैसे होगी, यह सब बातचीत के बाद ही तय होगा, अगर बातचीत होती है तो।’’

उन्होंने कहा,‘‘हमें नतीजे नहीं निकालने चाहिये। बातचीत की प्रक्रिया शुरू रहनी चाहिये। बातचीत कब होगी, यह बीसीसीआई अध्यक्ष पर निर्भर है।’’

शहरयार सोमवार को पीसीबी के अपने साथी नजम सेठी के साथ मुंबई आए थे जो शिवसेना के विरोध प्रदर्शन के बाद भारत से चले गए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App