ताज़ा खबर
 

इंडिया ओपन में जीत के प्रति आश्वस्त हैं श्रीकांत

श्रीकांत ने कहा, ‘‘मैंने हाल में तीन या चार टूर्नामेंट जीते हैं और बाकी में भी मैंने अच्छा प्रदर्शन किया है इसलिए मुझे घरेलू सरजमीं पर खिताब जीतने का यकीन है।’’

Author नई दिल्ली | March 28, 2016 9:27 PM
Kidambi Srikanth, BWF World ranking, PV Sindhu, Saina Nehwal, Kidambi Srikanth Newsबैडमिंटन खिलाड़ी किदांबी श्रीकांत। (पीटीआई फाइल फोटो)

भारत के स्टार एकल खिलाड़ी और गत चैम्पियन किदांबी श्रीकांत मंगलवार (29 मार्च) से क्वालीफायर के साथ शुरू हो रहे इंडिया ओपन बैडमिंटन सुपर सीरीज टूर्नामेंट में अपने खिताब का बचाव करने को लेकर आश्वस्त हैं। श्रीकांत की राह हालांकि आसान नहीं होगी और उन्हें पहले दौर में ही सातवें वरीय चीन के टियान हाओवेई से भिड़ना है। श्रीकांत ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैंने हाल में तीन या चार टूर्नामेंट जीते हैं और बाकी में भी मैंने अच्छा प्रदर्शन किया है इसलिए मुझे घरेलू सरजमीं पर खिताब जीतने का यकीन है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘घरेलू सरजमीं में खेलना हमेशा विशेष होता है। मैंने पिछले साल खिताब जीता था इसलिए इस बार खिताब का बचाव करना चाहता हूं। ओलंपिक क्वालीफिकेशन के लिहाज से भी यह टूर्नामेंट काफी महत्वपूर्ण है।’’ दुनिया के 10वें नंबर के खिलाड़ी श्रीकांत ने कहा, ‘‘यह सत्र अब तक अच्छा रहा है। पिछले तीन से चार महीने काफी अच्छे रहे। प्रीमियर बैडमिंटन लीग में मलेशिया के ली चोंग वेई के खिलाफ पहले मुकाबले में मिली जीत से मेरा आत्मविश्वास काफी बड़ा है।’’

भारत की स्टार महिला युगल खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा ने कहा कि वह ओलंपिक से पहले अपनी तैयारी को लेकर खुश हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मलेशिया के युगल कोच टेन किम हर के आने से युगल खिलाड़ियों को फायदा हुआ है। उनके आने से काफी बदलाव आया है जिसकी जरूरत थी। मैं अपनी तैयारी से खुश हूं।’’

ज्वाला ने साथ ही बताया कि वह मई के बाद मिश्रित युगल में खेलने पर भी विचार कर सकती हैं। उन्होंने कहा, ‘‘ओलंपिक क्वालीफिकेशन के साथ मैं मई में मिश्रित युगल में खेलने के बारे में भी सोच सकती हूं। इससे मुझे तैयारी का बेहतर और अधिक मौका मिलेगा।’’

भारत की शीर्ष महिला एकल खिलाड़ियों में शामिल पीवी सिंधू पिछले कुछ टूर्नामेंटों में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाई है लेकिन उन्होंने भरोसा जताया कि वह वापसी करेंगी। दुनिया की 11वें नंबर की खिलाड़ी सिंधू ने कहा, ‘‘खिलाड़ी के करियर में उतार चढ़ाव आते हैं। पिछले कुछ समय में मैं अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाई लेकिन मेरी नजरें प्रदर्शन में निरंतरता पर टिकी है जिससे कि बेहतर प्रदर्शन कर सकूं। कभी कभी आप अपना शत प्रतिशत प्रदर्शन नहीं कर पाते’’

सिंधू को इंडिया ओपन के पहले दौर में दुनिया की नंबर एक और शीर्ष वरीय कैरोलिना मारिन की चुनौती का सामना करना है। उन्होंने कहा, ’‘इंडिया ओपन अच्छा टूर्नामेंट है और घरेलू हालात में खेलने का फायदा मिलेगा। लेकिन किसी खिलाड़ी को हल्के में नहीं लिया जा सकता। प्रत्येक दौर का मुकाबला काफी कड़ा होगा क्योंकि दुनिया के लगभग सभी शीर्ष खिलाड़ी इसमें हिस्सा ले रहे हैं।’’

Next Stories
1 कैंडीडेट्स टूर्नामेंट: 10 साल में पहली बार खिताब की दौड़ से बाहर हुए आनंद
2 भारत में अंडर-17 फुटबॉल विश्वकप, आधारभूत ढांचा तैयार होगा
3 मैरीकोम और सरिता एशियाई ओलंपिक क्वालीफायर के प्री क्वार्टर फाइनल में
ये पढ़ा क्या?
X