ताज़ा खबर
 

दो वनडे हार घिरी टीम इंडिया को मुरली का साथ, बोले- टीम में 11 विराट कोहली नहीं खिला सकते

मैच करने के बाद भारतीय टीम का बचाव करते हुए मुरलीधरन ने कहा "आपको सफलता की राह पर असफलताएं मिलेंगी क्योंकि टीम में 11 विराट कोहली नहीं हो सकते। हर कोई मैच विजेता नहीं हो सकता है।"

मुरलीधरन ने किया भारत का बचाव, कहा टीम में 11 विराट कोहली नहीं हो सकते (indian express file picture)

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेली जा रही पांच मैचों की वनडे सीरीज 2-2 से बराबर चल रही है। रविवार को मोहाली में खेले गए चौथे वनडे में ऑस्ट्रेलिया ने भारत द्वारा दिए गए 358 रन के विशाल लक्ष्य को आसानी से पा लिया। इस हार के बाद क्रिकेट पंडितों और प्रशंसकों ने भारतीय गेंदबाजी और फील्डिंग की जमकर आलोचना की है। क्रिकेट फैंस ने इस विकेट पर 358 रन इतनी आसानी से लुटाने पर गेंदबाजों पर निशाना साधा है। वहीं कुछ लोगों ने एमएस धोनी की अनुपस्थिति में विराट कोहली की कप्तानी के कौशल पर सवाल उठाया है। जिन्हें मैदान पर कप्तान का मार्गदर्शन करने के लिए जाना जाता है। इन सब के बीच श्रीलंका के दिग्गज पूर्व स्पिनर मुथैया मुरलीधरन ने भारतीय टीम का बचाव किया है और कहा है कि प्रशंसकों को अधिक धैर्य रखने की जरूरत है।

चौथे वनडे के बाद मुरलीधरन ने कहा कि टीम में ग्यारह मैच विजेता होना संभव नहीं है और विश्व कप 2019 में जाने वाले विभिन्न संयोजनों की कोशिश करना महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा “आपको टीम के साथ धैर्य रखना होगा। भारतीय टीम वास्तव में अच्छा प्रदर्शन कर रही है और विश्व कप के चलते प्रयोग करने की कोशिश कर रही है। आपको सफलता की राह पर असफलताएं मिलेंगी क्योंकि टीम में 11 विराट कोहली नहीं हो सकते। हर कोई मैच विजेता नहीं हो सकता है। मुरलीधरन ने कहा, “आप कुछ गेम जीतेंगे और आप कुछ हार भी जाएंगे। अन्यथा, हर टीम को 11 कोहली या सचिन तेंदुलकर या डॉन ब्रैडमैन रखने होंगे, लेकिन ऐसा नहीं हो सकता।”

भारत के स्पिन गेंदबाजी विकल्पों के बारे में बात करते हुए मुरलीधरन ने कहा कि सीमित ओवरों की टीमों से रविचंद्रन अश्विन का बाहर होना कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल के कैलिबर का प्रमाण है। इस दिग्गज स्पिनर ने कहा “मुझे लगता है कि वे अच्छा काम कर रहे हैं। दोनों शानदार प्रदर्शन करते हैं और उन्होंने सभी परिस्थितियों में अच्छा किया है ये उनकी प्रतिभा को दर्शाता है। इसके अलावा आपको क्यों लगता है कि आर अश्विन जैसा दिग्गज सिमित ओवरों में अपनी वापसी नहीं कर पा रहा है इसके पीछे क्या वजह है? ऐसा इसलिए है क्योंकि इन दोनों ने अच्छा प्रदर्शन किया है। बस एक बुरा मैच (मोहाली में) उनकी आलोचना करने के लिए पर्याप्त नहीं हो सकता। हम यहां रोबोट के साथ काम नहीं कर रहे हैं।

बता दें चहल ने चौथे वनडे में 10 ओवरों में 80 रन देकर एक विकेट हासिल किया था। इस पर मुरलीधरन ने कहा, “आप एक खिलाड़ी से यह उम्मीद नहीं कर सकते कि वह जब भी मैच खेलेगा, पांच विकेट लेगा। वह चैम्पियन गेंदबाज हैं और बीते दो साल से अच्छी गेंदबाजी कर रहे हैं। उन्होंने बताया है कि उनके पास विविधता है और वह विपक्षी बल्लेबाज को परेशान कर सकते हैं। यह सिर्फ एक मैच में उनके विफल होने की बात है। विश्वास कीजिए, वह रोबोट नहीं हैं। आप एक खिलाड़ी से हर मैच में बेहतर प्रदर्शन करने की उम्मीद कर उस पर दबाव नहीं डाल सकते।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App