ताज़ा खबर
 

Ind vs SL 2nd ODI: टीम इंडिया को मिला नया खिलाड़ी, डेब्‍यू करते ही वाशिंगटन सुंदर ने बनाया रिकॉर्ड

Ind vs SL, India vs Sri Lanka, Washington Sundar: 18 साल 69 दिन की उम्र में डेब्‍यू करने वाले सुंदर हाल के दिनों में सबसे युवा डेब्‍यूटेंट बन गए हैं।

Author December 13, 2017 3:31 PM
कोच रवि शास्‍त्री ने वाशिंगटन सुंदर को वनडे कैप दी। (Photo: BCCI)

मात्र 18 बरस की उम्र में टीम इंडिया में जगह बनाने वाले वाशिंगटन सुंदर ने कहा है कि अपने खेल पर अटूट विश्वास ने उन्हें भारतीय टीम में जगह दिलाने में मदद की। उन्‍हें बुधवार (13 दिसंबर) को मोहाली में एकदिवसीय कैप दी गई। 18 साल 69 दिन की उम्र में डेब्‍यू करने वाले सुंदर हाल के दिनों में सबसे युवा डेब्‍यूटेंट बन गए हैं। उनसे पहले पीयूष चावला ने 17 साल 75 दिनों की उम्र में 2006 में और पार्थिव पटेल ने 2003 में 17 साल 301 दिन की उम्र में डेब्‍यू किया था। सुंदर कुछ समय पहले यो-यो टेस्ट में विफल रहे थे जिसे राष्ट्रीय टीम में जगह बनाने की अहम कसौटी माना जाता है लेकिन उन्होंने अपनी फिटनेस पर कड़ी मेहनत की और चयनकर्ताओं ने उन्हें टीम में शामिल किया। उन्होंने कहा, ‘‘किसी भी क्रिकेटर के लिए भारत की ओर से खेलना सर्वोच्च सपना होता है। एक 18 वर्षीय खिलाड़ी के रूप में मुझे भारत के लिए खेलना का मौका मिला और यह बेहतरीन अहसास है। मुझे अपने तैयारी पर काफी विश्वास है और इसका फायदा मिला।’’ सुंदर को सबसे पहले श्रीलंका के खिलाफ आगामी टी20 श्रृंखला के लिए भारतीय टीम में शामिल किया गया जबकि बाद में चोटिल केदार जाधव की जगह अंतिम समय में उन्हें विकल्प के तौर पर टीम इंडिया में जगह मिली।

Live Cricket Score, Ind vs SL 2nd ODI

श्रीलंका के खिलाफ होने वाले दूसरे वनडे से पूर्व सुंदर ने कहा, ‘‘यह मेरा चौथा दिन है लेकिन मुझे ऐसा नहीं लग रहा कि मैं अभी अभी टीम के साथ जुड़ा हूं। मैं काफी खिलाड़ियों को पहले से जानता हूं, आईपीएल में माही भाई (महेंद्र सिंह धोनी) के साथ खेला हूं।’’ सुंदर भले ही फिटनेस परीक्षण में विफल रहे हों लेकिन उन्हें हमेशा अपनी क्षमताओं पर विश्वास रहा है।

सुंदर ने आईपीएल में अपने प्रदर्शन से लोगों का ध्यान खींचा और उन्होंने स्टीव स्मिथ की अगुआई वाले पुणे सुपरजाइंट को फाइनल में जगह दिलाने में अहम भूमिका निभाई। लेकिन यह भारतीय टीम में जगह बनाने के लिए पर्याप्त नहीं था जिसके बाद उन्होंने अपने खेल के पहलुओं पर कड़ी मेहनत की। पिछले साल प्रथम श्रेणी मैच में पदार्पण करने वाले तमिलनाडु के इस आलराउंडर ने कहा, ‘‘मैं वापस गया और काफी तैयारी की, खेल के जिन पहलुओं पर जरूरत थी उनमें मैंने कड़ी मेहनत की। इसका फायदा मिला। मैंने अधिक गेंदबाजी शुरू की और अपनी बल्लेबाजी को अतिरिक्त समय दिया। और फिटनेस पर भी काम किया, आपको पता ही है कि यह भारतीय टीम का कितना महत्वपूर्ण पहलू बन गया है।’’

भारतीय टीम में संभावित भूमिका पर सुंदर को पता है कि जब भी उन्हें मौका मिलेगा तो उन्हें गेंद और बल्ले दोनों से प्रदर्शन करना होगा। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे स्पिन के 10 ओवर फेंकने के लिए तैयार रहना होगा और टीम किसी भी स्थिति में हो बल्लेबाजी से योगदान देना होगा।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App