ताज़ा खबर
 

Ind vs SA 2nd Test: इस पूर्व खिलाड़ी ने कहा-टेस्ट सीरीज में वापसी नहीं कर पाएगा भारत

India vs South Africa 2nd Test, Ind vs SA (इंडिया वस साउथ अफ्रीका): पहला टेस्ट टीम इंडिया 72 रनों से हार गई थी। दूसरे टेस्ट में भी वह अब तक दबदबा कायम नहीं कर पाई है।

Author सेंचुरियन | January 13, 2018 18:58 pm
भारतीय कप्तान विराट कोहली और अन्य खिलाड़ी अंपायर से अपील करते।

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच सेंचुरियन के सुपरस्पोर्ट पार्क में खेले जा रहे दूसरे टेस्ट मैच में फिलहाल मेजबान टीम का पलड़ा भारी नजर आ रहा है। पहला टेस्ट टीम इंडिया 72 रनों से हार गई थी। दूसरे टेस्ट में भी वह अब तक दबदबा कायम नहीं कर पाई है। क्रिकट्रैकर से बातचीत में पूर्व द.अफ्रीकी पेसर मेरिक वायने प्रिंगल ने दूसरे टेस्ट की पूर्व संध्या पर कहा कि इस दौरे के लिए जिस भारतीय टीम का चयन हुआ, वह गलत नहीं है। परेशानी पहले टेस्ट के विकेट में थी, जो ठीक नहीं था। दूसरी पारी में दोनों टीमों में भिड़ंत देखी गई। जब उनसे विदेशों में विराट कोहली की कप्तानी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि भारतीय कप्तान अपना गुस्सा और इमोशन दिखाते हैं, जो लाजवाब है। बाकी लोगों का नजरिया अलग हो, लेकिन वह महान कप्तान हैं। यह पूछने पर कि क्या टीम इंडिया यहां से सीरीज में वापसी कर सकती है तो उन्होंने कहा कि अब भारत का कमबैक करना मुश्किल है। प्रिटोरिया और जोहानिसबर्ग का विकेट तेज और उछालभरा है। यहां भारत की परीक्षा होगी।

पूर्व द.अफ्रीकी पेसर मेरिक वायने प्रिंगल

दूसरी ओर भारत के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने शनिवार को दूसरे टेस्ट में भारतीय टीम के चयन पर सवाल उठाते हुए कहा कि सलामी बल्लेबाज शिखर धवन के सिर पर हमेशा तलवार लटकी रहती है। भारतीय टीम में तीन बदलाव करते हुए के एल राहुल को शिखर धवन की जगह, ईशांत शर्मा को भुवनेश्वर कुमार की जगह और विकेटकीपर पार्थिव पटेल को रिधिमान साहा की जगह शामिल किया है ।

गावस्कर ने कहा ,‘‘ मेरा मानना है कि शिखर धवन बलि का बकरा बनाया गया है । उसके सिर पर हमेशा तलवार लटकी रहती है । बस एक खराब पारी के बाद उसे टीम से बाहर कर दिया जाता है ।’’ उन्होंने कहा ,‘‘मेरी समझ से परे है कि ईशांत को भुवनेश्वर की जगह क्यों चुना गया। ईशांत टीम में शमी या बुमराह की जगह ले सकता था, लेकिन भुवनेश्वर को बाहर रखना समझ से बाहर है

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App