ताज़ा खबर
 

Ind vs Eng: विराट कोहली ने बताया इंग्लैंड से निपटने का प्लान, जो रूट एंड कंपनी को दी चुनौती

विराट कोहली ने कहा, ‘किसी भी तरह की पिच हो, गुलाबी गेंद से खेलना अधिक चुनौतीपूर्ण होता है। विशेषकर शाम को। हां, निश्चित तौर पर स्पिनर्स की भूमिका होगी लेकिन मुझे नहीं लगता कि तेज गेंदबाजों और नई गेंद की अनदेखी की जा सकती है।’

Author Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: February 23, 2021 5:15 PM
Virat Kohli Motera Stadium India vs England Pitch Spinners Pacers

भारत और इंग्लैंड के बीच 4 मैच की सीरीज का तीसरा टेस्ट 24 फरवरी से अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम में शुरू होना है। मैच से पहले टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने इंग्लैंड से निपटने का प्लान बताया। दरअसल, वर्ल्ट टेस्ट चैंपियनशिप (World Test Championship) के फाइनल में पहुंचने की दृष्टि से इस सीरीज के शेष बचे दोनों मैच दोनों ही टीमों के लिए बहुत अहम हैं।

भारत यदि एक मैच जीतता है और दूसरा ड्रॉ करा लेता है तो वह फाइनल में पहुंच जाएगा। वहीं, दोनों मैच जीतने पर इंग्लैंड फाइनल में पहुंच जाएगा। इस सीरीज में दोनों टीमें 1-1 से बराबर चल रही हैं। तीसरे टेस्ट से पूर्व नए सिरे से तैयार मोटेरा स्टेडियम की नई पिच की प्रकृति चर्चा का केंद्र बनी हुई है। उम्मीद है कि मोटेरा की पिच पूरी तरह से स्पिनर्स के अनुकूल होगी। हालांकि, भारतीय कप्तान विराट कोहली का मानना है कि इस डे-नाइट (दिन-रात्रि) टेस्ट में तेज गेंदबाजों की भी स्पिनर्स के जितनी ही भूमिका होगी।

यह पूछने पर कि क्या तीसरे टेस्ट में गेंद के स्विंग होने की संभावना नहीं है, कोहली ने कहा कि उन्हें लगता है कि जब तक गेंद ठोस और चमकीली है तब तक तेज गेंदबाजों के पास मैच में मौका रहेगा। कोहली ने मैच से पूर्व प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि यह सटीक विश्लेषण है (कि गेंद स्विंग नहीं करेगी)। गुलाबी गेंद लाल गेंद से अधिक स्विंग करती है। जब 2019 में (बांग्लादेश के खिलाफ) हम पहली बार इससे खेले तो हमने यह अनुभव किया।’

कोहली ने इस आकलन को भी खारिज कर दिया कि अगर पिच से तेज गेंदबाजों को मदद मिलेगी तो इंग्लैंड का पलड़ा भारी रहेगा। उन्होंने कहा, ‘इस चीज से परेशान नहीं हूं कि इंग्लैंड टीम के मजबूत और कमजोर पक्ष क्या हैं। हमने उन्हें उनके घरेलू मैदान पर भी हराया है जहां गेंद कहीं अधिक मूव करती है इसलिए हम इससे परेशान नहीं हैं।’ मोटेरा की पिच अगर सीमर्स को मदद करती है तो ईशांत शर्मा एंड कंपनी इंग्लैंड के बल्लेबाजों को परेशान करने के लिए काफी है। कोहली ने कहा कि मेजबान टीम के पास ऐसे गेंदबाज हैं जो गुलाबी गेंद टेस्ट में जो रूट एंड कंपनी की कमजोरियों का फायदा उठा सकते हैं।

कोहली ने कहा, ‘और हां, विरोधी टीम की भी काफी कमजोरियां हैं, अगर आप इसका फायदा उठा पाओ तो। अगर यह उनके लिए तेज गेंदबाजी की अनुकूल पिच होगी तो हमारे लिए भी होगी।’ भारतीय कप्तान ने कहा, ‘और संभवत: आपको पता ही है कि हमारे पास दुनिया का सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी आक्रमण है, इसलिए गेंद कैसे मूव करेगी इसे लेकर हम चिंतित नहीं हैं। हम किसी भी स्थिति के लिए तैयार हैं।’

दोनों टीमें इस मुकाबले में अनिश्चितताओं के बीच उतरेंगी। गुलाबी गेंद को तेज गेंदबाजों की मदद के लिए जाना जाता है लेकिन यह देखना होगा कि इससे स्पिनर्स को कितनी मदद मिलती है जो घरेलू सरजमीं पर भारत का मजबूत पक्ष है। सीनियर भारतीय बल्लेबाज रोहित शर्मा पहले ही कह चुके हैं कि यह स्पिन की अनुकूल पिच होगी। कोहली ने कहा कि सतह चाहे कैसी भी होगी गुलाबी गेंद का सामना करना लाल गेंद की तुलना में अधिक चुनौतीपूर्ण होता है।

उन्होंने कहा, ‘किसी भी तरह की पिच हो, गुलाबी गेंद से खेलना अधिक चुनौतीपूर्ण होता है। विशेषकर शाम को। हां, निश्चित तौर पर स्पिनर्स की भूमिका होगी लेकिन मुझे नहीं लगता कि तेज गेंदबाजों और नई गेंद की अनदेखी की जा सकती है। जब तक गेंद ठोस और चमकीली है तब तक गुलाबी गेंद के कारण मैच में उनकी भूमिका होगी जिसके बारे में हमें पता है और हम इसी के अनुसार तैयारी कर रहे हैं।’

Next Stories
1 कभी 4 रन पर झटके थे 6 विकेट, अब 140 के स्ट्राइक रेट से गेंदबाजों को धुना; स्टुअर्ट बिन्नी के दम पर नगालैंड ने मिजोरम को हराया
2 मोटेरा स्टेडियम: भारत ने वर्ल्ड कप में यहीं लिया था ऑस्ट्रेलिया से बदला, अब विराट सेना की अंग्रेजों को धूल चटाने की बारी
3 सचिन तेंदुलकर को अब कोई भी बना सकता है अपना गुरु, मुफ्त में ऑनलाइन कोचिंग देंगे ‘क्रिकेट के भगवान’
ये पढ़ा क्या?
X