Ind vs Eng: सीरीज को आगे पूरा करवाने के लिए BCCI की पेशकश का सुनील गावस्कर ने किया स्वागत, 26/11 हमले के दौरान जारी सीरीज की दिलाई याद

भारतीय दिग्गज सुनील गावस्कर ने मैनचेस्टर टेस्ट रद्द होने के बाद बीसीसीआई द्वारा ईसीबी को मैच को दोबारा शेड्यूल करने की पेशकश का स्वागत किया है। उन्होंने साथ ही 26/11 हमले के दौरान खेली जा रही भारत और इंग्लैंड की सीरीज के एक वाकिये की भी याद दिलाई है।

ind-vs-eng-sunil-gavaskar-welcomes-bcci-and-ecb-mutual-decision-to-reschedule-manchester-test-by-remebering-series-during-26-11-attack
मैनचेस्टर टेस्ट को रिशेड्यूल करने की पेशकश का सुनील गावस्कर ने किया स्वागत, 26/11 मुंबई हमले को दौरान जारी भारत और इंग्लैंड सीरीज को याद भी किया है (Source: Indian Express)

भारत और इंग्लैंड के बीच खेली गई शानदार सीरीज का कोरोना के कारण दुखद अंत हुआ। मैनचेस्टर टेस्ट को कोरोना के खतरे के चलते रद्द कर दिया गया। जिसके बाद दोनों देशों के बोर्ड ने आधिकारिक बयान जारी किए और इस मैच को रिशेड्यूल करने की बात पर जोर दिया। बीसीसीआई द्वारा इसकी पेशकश इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) के आगे की गई जिसका भारतीय दिग्गज सुनील गावस्कर ने भी स्वागत किया।

लिटिल मास्टर ने कहा कि,’भारत को दौरे को पूरा करने के लिए वापस लौटने की इंग्लैंड की उस मदद को कभी नहीं भूलना चाहिए जिसे 2008 में 26/11 के मुंबई आतंकवादी हमलों के कारण बीच में ही रोक दिया गया था।’

गावस्कर ने सोनी स्पोर्ट्स से कहा, ‘‘ हां, मुझे लगता है कि यह सही (रद्द किए गए टेस्ट को फिर से खेलने की योजना बनना) कदम होगा। देखिए, भारत में हमें इस बात को कभी नहीं भूलना चाहिए कि इंग्लैंड की टीम ने 2008 में 26/11 के आतंकवादी हमले के बाद क्या किया था। वे श्रृंखला पूरी करने वापस आये थे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ इंग्लैंड की टीम उस समय कह सकती थी कि ‘हम सुरक्षित महसूस नहीं करते। हम वापस नहीं आएंगे’ लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया।’’

आपको बता दें कि जब आतंकवादियों ने मुंबई पर हमला किया था तब मेहमान इंग्लैंड की टीम 26 नवंबर को कटक में भारत के खिलाफ टेस्ट मैच खेल रही थी। जिसके बाद सीरीज के दो मैच अधूरे रह गए थे। इंग्लैंड ने तुरंत स्वदेश जाने का फैसला किया। लेकिन बाद में दो टेस्ट मैचों की श्रृंखला के लिए वापसी की जिसमें भारत ने 1-0 से जीत हासिल की।

गावस्कर ने कहा कि तत्कालीन कप्तान केविन पीटरसन ने टेस्ट मैचों के लिए इंग्लैंड की वापसी के फैसले में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

उन्होंने कहा, ‘‘ यह कभी नहीं भूलना चाहिये कि केविन पीटरसन ने टीम का उस टीम का नेतृत्व किया, और वह इस फैसले के मामले में मुख्य व्यक्ति थे। अगर पीटरसन ने उस समय भारत आने से मना कर दिया होता तो दौरा वही खत्म हो जाता।’’

मैनचेस्टर टेस्ट रद्द होने को पूर्व खिलाड़ियों ने बताया शर्मनाक, दिनेश कार्तिक ने बताया क्यों घबरा रही थी टीम इंडिया?

गावस्कर ने बीसीसीआई के मैच बाद की तारीख में फिर से खेलने की पेशकश को ‘शानदार खबर’ करार देते हुए कहा कि रद्द किये गये टेस्ट को इंडियन प्रीमियर लीग के बाद अगले साल आयोजित किया जा सकता है।

गौरतलब है कि भारतीय खेमे में कोरोना की शुरुआत हुई थी हेड कोच रवि शास्त्री से। ओवल टेस्ट के चौथे दिन फ्लो टेस्ट में रवि शास्त्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। जिसके बाद गेंदबाजी कोच भरत अरुण, फील्डिंग कोच आर श्रीधर और फीजियो नितिन पटेल को भी आइसोलेट कर दिया गया था।

फिर मैनचेस्टर टेस्ट से एक शाम पहले असिस्टेंट फीजियो का कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद भारतीय खिलाड़ियों की चिंता बढ़ गई थी और उन्होंने बोर्ड को आखिरी टेस्ट खेलने के लिए असहज होने की बात कही। जिसके बाद दोनों देशों के बोर्ड के बीच काफी चर्चा हुई और अंतत: मैनचेस्टर टेस्ट को रद्द कर दिया गया।

पढें खेल समाचार (Khel News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।